दिल्ली दंगे वाले दिन के कई राज खुले भारत-चीन : विरोधी नहीं, दोनों देश बनें पार्टनर : चीनी राजदूत Vikas Dubey Encounter : एनकाउंटर में विकास दुबे के सीने और कमर में लगीं 4 गोलियां UP: 10 जुलाई की रात 10 बजे से 13 जुलाई सुबह पांच बजे तक राज्य में लॉकडाउन विकास दुबे हत्या के बाद मिटाना चाहता था पूरे सबूत CBSE दसवीं-बारहवीं के रिजल्ट को लेकर वायरल हो रही है ये फेक अधिसूचना पूर्वी लद्दाख की सीमा पर हालात में हो रहा सुधार कानपुर के गैंगस्टर ने क्यों चुना महाकाल का मंदिर ब्रिटेन में आज से इंडिया ग्लोबल वीक 2020 की शुरुआत देश में नहीं है कम्युनिटी ट्रांसमिशन : डॉ. हर्षवर्धन कोर्ट में पेशी के बाद गैंगस्टर विकास दुबे को रिमांड पर लेगी UP पुलिस JAC 10th Result 2020 : टॉपरों को मिलेगी कार, 2021 परीक्षा में कम होगा सिलेबस संकट के समय गरीबों के उत्थान के कार्यों में साथ देने के बजाय विपक्ष गैर जिम्मेदाराना सवाल उठा रहा: भाजपा कोरोना की उत्पत्ति का पता लगाने चीन जाएगी WHO टीम कानपुर कांड : विकास दुबे टीवी स्टूडियो में LIVE सरेंडर करेगा ? सेकुलरिज्म को नए सिलेबस से हटाने के सीबीएसई के कदम पर ममता की हैरानी कानपुर केस : विकास दुबे के मुखबिरी का है शक पर सस्पेंड एसओ विनय तिवारी गिरफ्तार केजरीवाल ने मांगी विस्तृत विश्लेषण रिपोर्ट, कोरोना मौत का आंकड़ा गिराने की पूरी तैयारी नेपाल कम्युनिस्ट पार्टी की स्थायी समिति की बैठक अंतिम मिनट में स्थगित नहीं बनी कोरोना वैक्सीन तो भारत में होंगे हर दिन 2.87 लाख मामले

अमेरिका ने दिया भारतीय जनता को झटका - एच-1बी वीजा की बड़ाई फीस

अमेरिका के ट्रंप प्रशासन ने भारत समेत अन्‍य देशों के आईटी प्रोफेशनल्‍स को झटका दिया है। दरअसल, ट्रंप प्रशासन ने एच-1बी वीजा की आवेदन फीस को 10 डॉलर यानी करीब 700 रुपये बढ़ाने का ऐलान किया है। इसका मतलब यह हुआ कि अब अमेरिका में काम करने के लिए आवेदन करना

Abhayraj Singh Tanwar 08-11-2019 14:09:42



अमेरिका के ट्रंप प्रशासन ने भारत समेत अन्‍य देशों के आईटी प्रोफेशनल्‍स को झटका दिया है।  दरअसल, ट्रंप प्रशासन ने एच-1बी वीजा की आवेदन फीस को 10 डॉलर यानी करीब 700 रुपये बढ़ाने का ऐलान किया है।  इसका मतलब यह हुआ कि अब अमेरिका में काम करने के लिए आवेदन करना महंगा हो गया है। 

अमेरिकी नागरिकता एवं आव्रजन सेवाओं (यूएससीआईएस) ने बताया कि वापस नहीं होने वाला यह शुल्क एच-1बी चयन प्रक्रिया को, आवेदन करने वालों और संघीय एजेंसी दोनों के लिए प्रभावी बनाने की खातिर नयी इलेक्ट्रॉनिक पंजीकरण प्रणाली में उपयोगी साबित होगा।  यूएससीआईएस के कार्यकारी निदेशक केन कुसिनेली ने कहा, “इस प्रयास के जरिए ज्यादा प्रभावी एच-1बी कैप चयन प्रक्रिया लागू करने में मदद मिलेगी। ” उन्होंने आगे कहा, “इलेक्ट्रॉनिक पंजीकरण प्रणाली हमारे आव्रजन तंत्र को आधुनिक बनाने के साथ ही फर्जीवाड़े को रोकने, जांच प्रक्रियाओं में सुधार करने और कार्यक्रम की अखंडता को मजबूत करने की एजेंसी स्तरीय पहल का हिस्सा है। ”

ट्रंप प्रशासन का यह फैसला ऐसे समय में आया है जब अमेरिका ने भारतीय लोगों के एच-1बी वीजा खारिज करने में बढ़ोत्तरी कर दी है।  अमेरिकी थिंक टैंक नेशनल फाउंडेशन फॉर अमेरिकन पॉलिसी की स्‍टडी के मुताबिक, वीजा रद्द करने की दर 2015 में जहां 6 फीसदी थी, वहीं वर्तमान वित्त वर्ष की तीसरी तिमाही में यह दर 24 फीसदी पर पहुंच गई। 

एच-1बी वीजा एक गैर-प्रवासी वीजा है।  अमेरिका में कार्यरत कंपनियों को यह वीजा ऐसे कुशल कर्मचारियों को रखने के लिए दिया जाता है जिनकी अमेरिका में कमी हो।  इस वीजा की वैलिडिटी छह साल की होती है।  अमेरिकी कंपनियों की डिमांड की वजह से भारतीय आईटी प्रोफेशनल्‍स इस वीजा को सबसे अधिक हासिल करते हैं।  लेकिन अमेरिका में डोनाल्‍ड ट्रंप के राष्‍ट्रपति बनने के बाद एच-1बी वीजा के नियमों को सख्‍त कर दिया गया है।  इस वजह से भारत समेत दुनिया भर के आईटी प्रोफेशनल्‍स को मुसीबतों का सामना करना पड़ रहा है। 

Comments

Subscribe

Receive updates and latest news direct from our team. Simply enter your email below :