सम्मानपूर्वक जीने का अधिकार हैं पेंशन , कोई कृपा नहीं : सुप्रीम कोर्ट

अब यूरिन की जांच से भी पता लगाया जा सकता है कोरोना संक्रमण का PM मोदी कैबिनेट का बड़ा फैसला मुकेश खन्ना ने 'LAXMI BOMB' के नाम पर उठाए सवाल वायु प्रदूषण की समस्या से निपटने के लिए केंद्र सरकार का नया कानून मोदी सरकार के नए कानून से भड़कीं महबूबा CM त्रिवेंद्र रावत के खिलाफ CBI जांच के हाईकोर्ट के आदेश पर SC ने लगाई रोक Covid-19 के कारण रजनीकांत की राजनीति में एंट्री में देरी वाली चिट्ठी हुई लीक टॉयलेट को सपा के रंग में रंगने पर भड़का सपाइयों का गुस्‍सा क्या दिल्ली में फिर उठ रही है कोरोना की लहर मुंगेर में भक्तों पर लाठीचार्ज से गुस्साई भीड़ मेट्रो की तरफ से NCR के लाखों यात्रियों के लिए खुशखबरी 79 साल की उम्र में शुरू किया चाय मसाले का बिजनेस, हररोज मिल रहे है 800 ऑर्डर AAP के चार विधायकों के खिलाफ FIR दर्ज आइए जानते है क्या है मामला मोदी सरकार का नया कानून-J & K में ऐसे खरीद सकते हैं जमीन मनोज तिवारी के हेलीकॉप्‍टर की तकनीकी खराबी के कारण करवाई गई इमरजेंसी लैंडिंग UP- कांग्रेस को लगा बड़ा झटका,पूर्व सांसद अन्नू टंडन का पार्टी से इस्तीफा The White Tiger का ट्रेलर हुआ रिलीज गुजरात-पूर्व मुख्यमंत्री केशुभाई पटेल का सांस की तकलीफ के चलते हुआ निधन IPL 2020 MI vs RCB: 2011 में सूर्यकुमार यादव पर किया रोहित शर्मा का ट्वीट हुआ वायरल बिग बॉस ने लगाई जान कुमार सानू को फटकार

सम्मानपूर्वक जीने का अधिकार हैं पेंशन , कोई कृपा नहीं : सुप्रीम कोर्ट

VIJAY SHUKLA 25-09-2020 16:09:18

सम्मानपूर्वक जीने का अधिकार हैं पेंशन , कोई कृपा नहीं  : सुप्रीम कोर्ट

सोशल काका 

लोकल न्यूज ऑफ इंडिया

नई दिल्ली। ना जाने एक सरकारी कर्मचारी के अपनी सेवा के बाद कितनी जिन्दगिया उसके ऊपर निर्भर होती है।  ऐसे में उसकी सेवानिवृत्ति के बाद अगर उसको पेंशन ना मिले तो यह उसकी गरिमा को ठेंस पहुँचाना हैं।  सुप्रीम कोर्ट ने पेंशन को सभी सेवानिवृत्त कर्मचारियों के लिए सम्मानपूर्वक जीने का अधिकार माना है। शीर्ष कोर्ट ने कहा है कि पेंशन सेवानिवृत्ति के बाद की अवधि के लिए सहायता है न कि इच्छा होने पर कोई कृपा। यह कर्मचारी के लिए सेवानिवृत्ति के बाद सम्मान बनाए रखने के अधिकार के तौर पर किया गया एक सामाजिक कल्याण उपाय है। केरल के एक सेवानिवृत्त कर्मचारी की पेंशन में विसंगति दूर करते हुए सुप्रीम कोर्ट ने बुधवार को कहा, पेंशन सुविधा सरकारी कर्मचारी को ढलती उम्र में सम्मान के साथ जीने के लिए है और इसलिए किसी कर्मचारी को इस लाभ से अकारण वंचित नहीं किया जा सकता।
शीर्ष अदालत ने कहा कि इसमें किसी भी नियम आदि का बहाना नहीं बनाया जाना चाहिए। कर्मचारी का पक्ष लेते हुए जस्टिस एसके कौल की अध्यक्षता वाली पीठ ने केरल सरकार को पेंशन लाभ का निर्धारण करने में अनुबंधित कामगार के रूप में दी गई उसकी सेवा अवधि को भी शामिल करने का आदेश दिया। कर्मचारी ने दावा किया था कि सरकारी विभाग में 32 साल तक काम करने के बावजूद उसे अंतिम 13 साल के लिए ही पात्र माना गया है। सुनवाई कर रही पीठ में जस्टिस अजय रस्तोगी और जस्टिस अनुरुद्ध बोस भी शामिल थे। पीठ ने ब्याज के साथ पेंशन का बकाया आठ सप्ताह में भुगतान करने का आदेश दिया है।

  • |

Comments

Subscribe

Receive updates and latest news direct from our team. Simply enter your email below :