करिश्माई पकड़ और संगठन को जोड़ना जानते है बृजमोहन अग्रवाल चीन के सिंगापुर मे भी आया कोरोना साथ ही बड़ी कोंडोम की बिक्री कर्नाटक मुख्यमंत्री कार्यालय घेरने पहुचे कोंग्रेसी अध्यक्ष समेत हुये गिरफ्तार PM मोदी को लेकर आपत्तिजनक बयान देने के आरोप में शशि थरूर पर दिल्ली हाई कोर्ट का जुर्माना श्री राम के नारे पर भड़क अखिलेश बोले भाजपा से है जान का खतरा वेलेंटाइन डे पर प्यार का इज़हार करना पड़ा महंगा, चोर कह कर गाँव वालों ने पीटा केजरीवाल के शपथ ग्रहण समारोह के लिए पीएम मोदी को न्योता संस्कृति विवि के 14 और छात्रों को मिली नौकरी निर्भया केस की सुनवाई के बाद बेहोश हुई SC की जज 40 जवानों के घर जाकर मिट्टी को लगाया माथे पर, उमेश जाधव ने दी पुलवामा के शहीदों को दी सबसे सच्ची श्रद्धांजलि कश्मीर में होंगे पंचायत चुनाव दिल्ली विधानसभा चुनाव : जो जनता करती है, सही करती है - प्रियंका गांधी दिल्ली चुनाव के बाद केजरीवाल की जीत पर कांग्रेस नेता शत्रुध्न सिन्हा ने उन्हे बताया सुपर लीडर संस्कृति विश्वविद्यालय में मनाया गया यूनानी दिवस हरियाणा मे क्या भाजपा गैर जाट प्रदेश अध्यक्ष के साथ नही कर सकती दो या तीन उपाध्यक्षो का प्रयोग दिल्ली विधासभा मे आप की 9 मे से 8 महिला बनी विधायक झटका : अब इस रेट पर मिलेगी गैर सब्सिडी वाली LPG, 149 रुपये तक बढ़ गए घरेलू गैस सिलेंडर CBI Vs CBI: सुप्रीम कोर्ट के जज ने अखिकारियों लगाई फटकार कहा मेन खिलाड़ी अब भी क्यों आजाद? रामलीला मैदान में अरविंद केजरीवाल 16 फरवरी को लेंगे दिल्ली के मुख्यमंत्री पद की शपथ दिल्ली चुनाव में हार पीएम मोदी की नहीं, अमित शाह की विफलता है : शिव सेना

शुभ मंगल ज्यादा सावधान एक ऐसी कहानी जो सामान्य रह कर ही हो सकती है हिट

इस सवाल के जरिए एक करारे तंज से शुरू होने वाला यह ट्रेलर आगे और भी कई ऐसी बातें कहता है जो समलैंगिकता के प्रति हमारे समाज के पूर्वाग्रहों का पता देती हैं. इसे बीमारी, मनोविकार या विचलन समझे जाने वाली मान्यताओं की झलक भी इन झलकियों में दिखाई देती है.

Deepak Chauhan 21-01-2020 15:14:43



‘शुभ मंगल ज्यादा सावधान’ का ट्रेलर एक दिलचस्प सवाल के साथ शुरू होता है जो कुछ यूं है कि ‘ये तुमने कब डिसाइड किया कि तुम्हें गे बनना है?’ इस सवाल के जरिए एक करारे तंज से शुरू होने वाला यह ट्रेलर आगे और भी कई ऐसी बातें कहता है जो समलैंगिकता के प्रति हमारे समाज के पूर्वाग्रहों का पता देती हैं. इसे बीमारी, मनोविकार या विचलन समझे जाने वाली मान्यताओं की झलक भी इन झलकियों में दिखाई देती है.

कहानी पर आएं तो ‘शुभ मंगल ज्यादा सावधान’ पूरी तरह से ‘दिलवाले दुल्हनिया ले जाएंगे’ से प्रेरित लगती है. यानी यहां पर भी नायक शाहरुख खान मार्का रूमानियत और हिम्मत लिए दिखता है. बस फर्क यह है कि यहां पर वह अपनी प्रेमिका की बजाय प्रेमी के घर, उसकी शादी में अड़चन डालने पहुंचता है. फिल्म में विलेन वह मानसिकता है जो समलैंगिकता के अस्तित्व को सिरे से खारिज करती है और इसके चलते नायक प्रेमी के पिता से पिटता भी दिखाई देता है. और हां, ट्रेलर में डीडीएलजे वाला आइकॉनिक ट्रेन सीन भी रखा गया है. कहा जा सकता है कि ‘शुभ मंगल ज्यादा सावधान’ में बॉलीवुड की प्रेमकहानियों में दिखाया जाने वाला हर मसाला मौजूद है और शायद यही इसे अनोखा बना देता है. इन सबको मिलाकर देखा जाए तो फिल्म यह संदेश देने की कोशिश करती हुई लगती है कि यह प्रेमकहानी भी उतनी ही सामान्य है जितनी एक नायक और एक नायिका की मौजूदगी में होती.

अभिनय पर आएं तो बीते कुछ समय से लगातार आम आदमी की आम समस्याओं को परदे पर लेकर आ रहे आयुष्मान खुराना ‘शुभ मंगल ज्यादा सावधान’ के नायक हैं. यहां पर वे अपने गे-अवतार से न सिर्फ ढेर सारे ठहाके लगवाने की वजह बनते दिखने वाले हैं बल्कि कुछ ज़रूरी सवालों को पूछे जाने की हिम्मत देते हुए भी दिखने वाले हैं, ऐसा ट्रेलर कहता है. वहीं, उनके अपोजिट नज़र आ रहे जितेंद्र कुमार (जीतू के) डिजिटल एंटरटेनमेंट इंडस्ट्री का एक जाना-माना नाम और पहचाना हुआ चेहरा हैं. टीवीएफ की तमाम वेबसीरीजों में कमाल के रोल निभा चुके जीतू ट्रेलर में एक ऐसे समलैंगिक किरदार में दिखाई दे रहे हैं जिसकी अपीयरेंस से उसके सेक्शुअल ओरिएंटेशन का पता नहीं चलता है. इन झलकियों से वे भी फिल्म में उनकी तरफ से कुछ मनोरंजक मिलने की उम्मीद दिला जाते हैं.

इन दोनों के अलावा आयुष्मान खुराना के साथ ‘बधाई हो’ में नज़र आई गजराज राव और नीना गुप्ता की जोड़ी को यहां पर फिर से दोहराया गया है. पिछली बार जहां गजराज राव के हिस्से ज्यादा तारीफें आईं थीं, वहीं इस बार नीना गुप्ता भारी पड़ती नज़र आ सकती हैं, इस बात का इशारा भी ट्रेलर करता है. इस बेहतरीन स्टारकास्ट के लिए भी ‘शुभ मंगल ज्यादा सावधान’ को देखा जा सकता है. इन सबके साथ, ट्रेलर तमाम तरह के विरोधाभासों के बीच कुछ बढ़िया कॉमिक सिचुएशन्स निकाले जाने की बात कहता है और इशारा करता है कि इन्हें चुटीले संवादों का साथ भी मिला है. ये सब मिलकर हितेश केवल्य निर्देशित इस फिल्म के लिए 21 फरवरी तक के इंतज़ार को भी मुश्किल बनाते हैं.

Comments

Subscribe

Receive updates and latest news direct from our team. Simply enter your email below :