आइए जानते हैं हंसने से क्या फायदे होते हैं FATF के डार्क ग्रे लिस्ट में जाएगा पाकिस्तान, क्या होगा हाल महाराष्ट्र में लग सकता है राष्ट्रपति शासन,शिवसेना को भारी पड़ा 50 -50 का फार्मूला अमेरिका : ऋतिक के फैन होने पर पति ने की पत्नी की हत्या खुद भीं लगाई फांसी वीडियो में लड़ाई करते दिखे अक्षयकुमार और रोहितशेट्टी ऑस्ट्रेलिया क्रिकेटर्स एसोसिएशन के प्रमुख बने शने वॉटसन दिल्ली एनसीआर में हवा बेहद खराब,नोएडा AQI 700 के पार पहुँचा महाराष्ट्र: एनसीपी कहा अभी तक नहीं मिला कांग्रेस का जवाब जुआयरियों-सट्टेबाज़ों को पाल रहा है, उत्तरप्रदेश का पुलिस प्रशाशन आयुष्मान की बाला ने चार दिन में की 52करोड़ की कमाई पूर्व प्रधानमंत्री राजीव गांधी की हत्या में दोषी करार एजी पेरारिवलन को मिली पेरोल क्या आप जानते है गुरुनानक जयंती के बारे में ? गुजरात में आवारा पशुओं की जानकारी देने पर की हत्या दहेज के चक्कर में पति ने किया पत्नी का कतल महाराष्ट्र में शव सेना के समर्थन को लेकर सोनिया गाँधी के घर पर बैठक गांदरबल में मुठभेड़ के दौरान, एक आतंकी ढेर, एक सुरक्षाबल घायल सरकार बनाने के लिए कांग्रेस का यह फार्मूला 3000% तक बड़े JNU हास्टल चार्ज पर मचा बड़ा बवाल 3दिन में आयुष्मान खुराना की बाला ने 43.95 कमाई की अनुष्का , विराट की भूटान यात्रा में सामने आये नए दोस्त

अगर भक्ति में श्रद्धा है तो नहीं रखें ईश्वर के सामने कोई शर्त या इच्छा

Shweta Chauhan 12-07-2019 14:51:45



अधिकतर लोग भक्ति करते हैं, लेकिन उनकी भक्ति किसी इच्छा पूर्ति के लिए होती है। वे भक्ति के बदले भगवान से कुछ चाहते हैं, लेकिन ये सच्ची भक्ति नहीं होती है। इस संबंध में एक कथा प्रचलित है। जिसमें ये बताया गया है कि सच्चे भक्त को किन बातों का ध्यान रखना चाहिए।

प्रचलित कथा के अनुसार पुराने समय में किसी राजा के महल में एक नया सेवक आया। राजा ने उससे पूछा कि तुम्हारा नाम क्या है? सेवक ने जवाब दिया कि महाराज जिस नाम से आप बुलाएंगे, वही मेरा नाम होगा।

इसके बाद राजा ने पूछा कि तुम्हें खाने में क्या पसंद, सुबह-शाम क्या खाओगे? सेवक ने कहा कि आप जो खाने को देंगे, वही मैं खा लूंगा।

राजा ने अगला सवाल पूछा कि तुम्हें किस तरह के वस्त्र पहनना पसंद हैं?

सेवक ने कहा कि राजन् जैसे वस्त्र आप देंगे, मैं खुशी-खुशी धारण कर लूंगा।

राजा ने पूछा कि तुम कौन-कौन से काम करना चाहते हो?

सेवक ने जवाब दिया कि जो काम आप बताएंगे मैं वह कर लूंगा।

राजा ने अंतिम प्रश्न पूछा कि तुम्हारी इच्छा क्या है?

सेवक ने कहा कि महाराज एक सेवक की कोई इच्छा नहीं होती है। मालिक जैसे रखता है, उसे वैसे ही रहना पड़ता है।

ये जवाब सुनकर राजा बहुत खुश हुआ और उसने सेवक को अपना गुरु बना लिया। राजा ने सेवक से कहा कि आज तुमने मुझे बहुत बड़ी सीख दी है। अगर हम भक्ति करते हैं तो भगवान के सामने किसी तरह की शर्त या इच्छा नहीं रखनी चाहिए। तुमने मुझे समझा दिया कि भगवान के सच्चे भक्त और सेवक को कैसा होना चाहिए।


Comments

Subscribe

Receive updates and latest news direct from our team. Simply enter your email below :