इस सर्दी मे यहाँ जाकर ले सकते है साल के अंतिम दिनो का मजा दुनिया के पहले एचआईवी पॉजिटिव 'स्पर्म बैंक' की शुरुआत करने वाला देश बना न्यूजीलैंड भारत के हिटमैन बने दुनिया के तीसरे सबसे ज्यादा छक्के लगाने वाले खिलाड़ी "महंगाई डायन खाय जात है" तीन साल के सबसे बड़े स्तर पर पहुची मुद्रास्फीति बालाकोट एयर स्ट्राइक के बाद पाकिस्तान के F16 के इस्तेमाल पर US ने लगाई फटकार ICC T20I Batting Rankings के पहले 10 मे विराट, साथ ही के एल राहुल को फायेदा नागरिकता बिल को लेकर बांग्लादेश विदेश मंत्री ने की भारत यात्रा रद्द हिमाचल की चोटियां बर्फ से लकदक, जलोड़ी दर्रा में भी बर्फ़बारी निरमंड के नोर पंचायत का चार दशक पुराना भवन जलकर स्वाहा अब तैयार है हवा से बनी दुनिया की पहली कार्बन निगेटिव वोदका हर 5 में से 2 कर्मचारी तबीयत का बहाना लेकर लेते है बॉस से छुट्टी कमाल का बैलेंस : ये है बैलेंसराज जो किसी भी चीज को किसी पर भी बैलेंस करदे सिर्फ आतंक ही नहीं, एड्स जैसी बीमारी से भी गंभीर रूप से ग्रस्त है पाकिस्तान हार्दिक पांडया ने कही टीम मे अपनी वापसी को लेकर कुछ बाते जाने कब से ऑर क्यूँ मनाया जाता है World Human Rights Day डर लगता है पापा अब मोदी प्रधानमंत्री नहीं थे तब उन्होंने प्याज की बढ़ती कीमतों पर चिंता की थी : शिव सेना परिजनों ओर पुलिस के उत्पीड़न मे शमी की सहमति : हसीन जहां फिल्म पानीपत को लेकर भडक उठे जाट, वर्ल्ड स्क्वैयर मॉल पर प्रदर्शन, फिल्म बन्द कराई रत्नो का खेल समझने वाले खिलाड़ी है आचार्य अजय शर्मा और रत्नो की बड़ी पाठशाला है उनका गंगाराम राशि रत्न केंद्र

निष्काम का अर्थ काम से रहित होना नहीं बल्कि उसमे छिपे स्वार्थ से मुक्त होकर कार्य करना है

Shweta Chauhan 20-07-2019 15:24:54



आध्यात्मिक जीवन में एक शब्द अक्सर सुनने में आता है निष्काम। कई लोग इस शब्द का बहुत अलग-अलग अर्थ लगाते हैं। कुछ तो बहुत ही हास्यास्पद होते हैं जो कहते हैं निष्कामता यानी कर्म से हट जाना। कर्म ना करना। जीवन की हकीकत यह है कि हम बिना कर्म किए रह ही नहीं सकते। कर्म के बिना तो पशु भी नहीं रह सकते। सिर्फ मनुष्य में ही यह संभावना है कि वह अपने कर्मों को अपने हिसाब से परिभाषित कर सकता है।

अधिकांश कर्म हम अपने हित और स्वार्थ के लिए करते हैं। इनका फल भी उतना ही होता है। इस तरह के कर्म को सकाम कर्म कहते हैं। यहीं से निष्काम कर्म की परिभाषा शुरू होती है। निष्काम कर्म उसे कहते हैं जिसके पीछे हमारा कोई निजी हित, निजी स्वार्थ ना जुड़ा हो। कभी कभी कुछ काम ऐसे भी किए जाएं, जिसका हमारे लिए कोई फायदा ना हो। हमेशा याद रखिए दूर तक वे ही कर्म फायदा देते हैं।

कर्म में निष्कामता का भाव होगा तो हमारी संवेदनाएं प्रबल होंगी। हम संवेदनशील बनेंगे। कभी अनजान की मदद, कभी प्रकृति की सेवा, कभी परमात्मा के ध्यान में बैठना, भगवान की पूजा करना लेकिन उनसे कुछ मांगना नहीं, किसी गरीब की सहायता ऐसे कई कर्म हैं जिनसे आप अपने भीतर निष्कामता का भाव लाने की शुरुआत कर सकते हैं।

कभी कभी ये भी सोचिए कि आप सिर्फ निमित्त हैं, सारा काम कोई और ही करवा रहा है। थोड़ा समय ऐसा निकालें, जिसमें अपेक्षा रहित हो जाएं। जो हो रहा है उसे होने दें। अपने आप को सिर्फ एक माध्यम समझें। किसी भी कर्म में खुद को शामिल ना करें, मतलब खुद के स्वार्थ को ना देखें, फायदा हो रहा है या नुकसान इसका विचार मन में ना लाएं।

कर्म में निष्कामता जड़ भरत से सीखिए। भागवत में कथा है जड़ भरत की। वे कोई भी कर्म हो उसे परमात्मा की इच्छ समझकर करते थे। चिडिय़ा खेत का दाना चुग जाए तो परमात्मा की इच्छा, बाढ़ आ जाए तो परमात्मा की इच्छा। एक बार तो किसी ने उनकी बलि चढ़ाने के लिए उनकी गर्दन पर तलवार भी रख दी, तो भी वे निष्काम रहे। विचलित नहीं हुए। उसे भी परमात्मा की मर्जी ही माना। तो भगवान खुद आ गए उनकी जान बचाने।

हमेशा ना सही लेकिन कभी-कभी हमारे मन में, कर्म में निष्कामता का भाव आएगा तो जीवन में कई उलझनों का जवाब मिल जाएगा। हल मिल जाएगा।

Comments

Subscribe

Receive updates and latest news direct from our team. Simply enter your email below :