Maha shivaratri 2020: 59 साल बाद हो रहा है महाशिवरात्रि का महायोग

ड्रग्स मामला: NCB रडार पर दीया मिर्जा, को पूछताछ के लिए बुलाया जाएगा नये कृषि विधेयक : हक मार, हक दिलाने का दावा देश में पिछले 24 घंटों में एक लाख से ज्यादा लोग हुए ठीक IPL 2020: आज चेन्नई-राजस्थान का मैच IPL 2020: पहले मैच ने तोड़े BARC के सारे रिकॉर्ड बदला लो-बदल डालो- शशि यादव , राज्य अध्यक्ष, बिहार राज्य आशा कार्यकर्ता संघ जानिए एक ही दिन में कितना कम हुआ सोने-चांदी का दाम 1 घंटे के लिए लोकसभा स्थगित, राज्यसभा में कई विधेयक पारित पूर्व सांसद अतीक अहमद के आवास पर चला बुलडोजर मेट्रोपॉलिटन सिटीज से हवाई सेवाओं को जोड़े केंद्र- CM भूपेश सप्ताहभर के लिए बस-ऑटो बंद होने से रेलयात्री परेशान MP में किसानों को 10 हजार मिलेगी सम्मान निधि ड्रग्स रैकेट में बड़े सितारों का नाम पर भड़की रवीना टंडन शिक्षा विभाग की वेबसाइट हैक कर फर्जी शिक्षकों से की वसूली दुनियाभर में तीन करोड़ 12 लाख से ऊपर पहुंचा संक्रमितों का आंकडा जापान के नए PM ने अमेरिका से आपस में रिश्ते मजबूत करने पर की बातचीत भारत-चीन के बीच 13 घंटे चली कोर कमांडर वार्ता राज्यसभा में कृषि क्षेत्र से जुड़ा तीसरा विधेयक आज होगा पेश राज्यसभा में सांसदों के निलंबन वापसी की मांग बिहार उपचुनाव 2020: दांव पर लगा है 'नीतीश ब्रांड'

Maha shivaratri 2020: 59 साल बाद हो रहा है महाशिवरात्रि का महायोग

Deepak Chauhan 11-02-2020 14:55:34

21 फरवरी को महाशिवरात्रि पर्व को लेकर तैयारियां तेज हो गई हैं। महाशिवरात्रि पर लगभग 59 साल बाद एक विशेष योग बन रहा है, जो साधना-सिद्धि के लिए खास रहता है। यह योग है शश योग। इस दिन पांच ग्रहों की राशि पुनरावृत्ति भी होगी। शनि व चंद्र मकर राशि, गुरु धनु राशि, बुध कुंभ राशि तथा शुक्र मीन राशि में रहेंगे। इससे पहले ग्रहों की यह स्थिति और ऐसा योग वर्ष 1961 में रहे थे। इस दौरान दान-पुण्य करने का भी विधान है। 

ज्योतिषाचार्य डॉ. शोनू मेल्होत्रा के मुताबिक, महाशिवरात्रि के दिन श्रद्धालुओं को अधिक से अधिक दान पुण्य करना चाहिए। साधु-संतों के साथ ब्राह्मणों व गरीबों को भोजन कराकर वस्त्र दान कर गायों को हरा चारा खिलाना चाहिए। पक्षियों को दाना डालने के साथ कुंडली लगाएं। पीपल को जल चढ़ाएं, जिससे विशेष लाभ मिलता है और भगवान शिव और माता पार्वती का आशीर्वाद मिलता है। महाशिवरात्रि पर्व को लेकर शिव मंदिरों में तैयारियां प्रारंभ कर दी गई हैं।

ज्योतिष शास्त्र में साधना के लिए तीन रात्रि विशेष मानी गई हैं। इनमें शरद पूर्णिमा को मोहरात्रि, दीपावली की कालरात्रि तथा महाशिवरात्रि को सिद्ध रात्रि कहा गया है। पंडित लोकेश चंद्र शास्त्री ने बताया कि इस बार महाशिवरात्रि पर चंद्र शनि की मकर में युति के साथ शश योग बन रहा है। आमतौर पर श्रवण नक्षत्र में आने वाली शिवरात्रि व मकर राशि के चंद्रमा का योग ही बनता है। जबकि, इस बार 59 साल बाद शनि के मकर राशि में होने से तथा चंद्र का संचार अनुक्रम में शनि के वर्गोत्तम अवस्था में शश योग का संयोग बन रहा है। चूंकि चंद्रमा मन तथा शनि ऊर्जा का कारक ग्रह है। यह योग साधना की सिद्धि के लिए विशेष महत्व रखता है। 


सर्वार्थ सिद्धि का भी बन रहा संयोग

डॉ. अर्रंवद मिश्र ने बताया कि महाशिवरात्रि पर सर्वार्थ सिद्धि योग का संयोग भी रहेगा। इस योग में भगवान शिव-पार्वती की पूजा-अर्चना को श्रेष्ठ माना गया है। महाशिवरात्रि को शिव पुराण और महामृत्युंजय मंत्र का जाप करना चाहिए। 

  • |

Comments

Subscribe

Receive updates and latest news direct from our team. Simply enter your email below :