दिल्ली में मिल रहे सरकारी ई पास के फर्जी मामले क्या कोरोना को पता है उसे फ्लाइट में संक्रमण नहीं फैलाना? : SC अमेरिका ने 33 चाइनीज कंपनियों और संस्थाओं को ट्रेड ब्लैकलिस्ट कोरोना राहत : दिल्ली के आधे से ज्यादा कोरोना रेड जोन बने ओरेंग जोन प्रवासी मजदूरों के लिए गृह मंत्रालय का आदेश अगले 10 दिनों के लिए 2600 श्रमिक स्पेशल ट्रेनें दिल्ली-एनसीआर में पड़ रही भीषण गर्मी अभी तक 45 लाख श्रमिकों को घरों तक पहुंचाया गया उनके घर : रेलवे बोर्ड संघ के राष्ट्रीय अध्यक्ष योगी आदित्यनाथ का जन्मदिन बड़ी धूमधाम से बनाएगा विश्व हिंदू महासंघ संगठन-पारस जैन राहुल की विडियो पर मायावती का तंज़ , कहा- मजदूरों की दुर्दशा के लिए कांग्रेस कसूरवार दिल्ली मे तेजी से बड़ रही कोरोना की गति, आंकड़ा 13 हजार के पास सरकार की योजनाओं का हर प्लेटफार्म से होगा प्रचार: नवीन गोयल 25 मई से शुरू होने जा रहे विमान सेवाओं को लेकर सबसे बड़ा सवाल स्वयंभू धर्मगुरु दाती महाराज एक बार फिर सुर्खियों, लॉकडाउन मे करी शनि मंदिर मे पूजा गोवा हुआ कोरोना फ्री राज्य : राज्यपाल सत्यपाल मलिक यूपी के अमरोहा से ताल्लुकात रखता है कराची विमान हादसे मे बचा एक शख्स महाराष्ट्र को कोरोना राहत, मृत्यु दर 4.76% से गिरकर हुई 3.49% PPE किट पहनकर बाल काट रहे सूरत के यूनिसेक्स सैलून बार्बर महाचक्रवात अम्फान की वजह से पश्चिम बंगाल को दोहरा झटका भारत में कोरोना वायरस के मामलों में रिकॉर्ड तोड़ उछाल चीन की कोविड-19 वैक्सीन? चीन ने शुरू किया कोरोना वैक्सीन का पहला ट्रायल

Maha shivaratri 2020: 59 साल बाद हो रहा है महाशिवरात्रि का महायोग

यह योग है शश योग। इस दिन पांच ग्रहों की राशि पुनरावृत्ति भी होगी। शनि व चंद्र मकर राशि, गुरु धनु राशि, बुध कुंभ राशि तथा शुक्र मीन राशि में रहेंगे। इससे पहले ग्रहों की यह स्थिति और ऐसा योग वर्ष 1961 में रहे थे। इस दौरान दान-पुण्य करने का भी विधान है।

Deepak Chauhan 11-02-2020 14:55:34



21 फरवरी को महाशिवरात्रि पर्व को लेकर तैयारियां तेज हो गई हैं। महाशिवरात्रि पर लगभग 59 साल बाद एक विशेष योग बन रहा है, जो साधना-सिद्धि के लिए खास रहता है। यह योग है शश योग। इस दिन पांच ग्रहों की राशि पुनरावृत्ति भी होगी। शनि व चंद्र मकर राशि, गुरु धनु राशि, बुध कुंभ राशि तथा शुक्र मीन राशि में रहेंगे। इससे पहले ग्रहों की यह स्थिति और ऐसा योग वर्ष 1961 में रहे थे। इस दौरान दान-पुण्य करने का भी विधान है। 

ज्योतिषाचार्य डॉ. शोनू मेल्होत्रा के मुताबिक, महाशिवरात्रि के दिन श्रद्धालुओं को अधिक से अधिक दान पुण्य करना चाहिए। साधु-संतों के साथ ब्राह्मणों व गरीबों को भोजन कराकर वस्त्र दान कर गायों को हरा चारा खिलाना चाहिए। पक्षियों को दाना डालने के साथ कुंडली लगाएं। पीपल को जल चढ़ाएं, जिससे विशेष लाभ मिलता है और भगवान शिव और माता पार्वती का आशीर्वाद मिलता है। महाशिवरात्रि पर्व को लेकर शिव मंदिरों में तैयारियां प्रारंभ कर दी गई हैं।

ज्योतिष शास्त्र में साधना के लिए तीन रात्रि विशेष मानी गई हैं। इनमें शरद पूर्णिमा को मोहरात्रि, दीपावली की कालरात्रि तथा महाशिवरात्रि को सिद्ध रात्रि कहा गया है। पंडित लोकेश चंद्र शास्त्री ने बताया कि इस बार महाशिवरात्रि पर चंद्र शनि की मकर में युति के साथ शश योग बन रहा है। आमतौर पर श्रवण नक्षत्र में आने वाली शिवरात्रि व मकर राशि के चंद्रमा का योग ही बनता है। जबकि, इस बार 59 साल बाद शनि के मकर राशि में होने से तथा चंद्र का संचार अनुक्रम में शनि के वर्गोत्तम अवस्था में शश योग का संयोग बन रहा है। चूंकि चंद्रमा मन तथा शनि ऊर्जा का कारक ग्रह है। यह योग साधना की सिद्धि के लिए विशेष महत्व रखता है। 


सर्वार्थ सिद्धि का भी बन रहा संयोग

डॉ. अर्रंवद मिश्र ने बताया कि महाशिवरात्रि पर सर्वार्थ सिद्धि योग का संयोग भी रहेगा। इस योग में भगवान शिव-पार्वती की पूजा-अर्चना को श्रेष्ठ माना गया है। महाशिवरात्रि को शिव पुराण और महामृत्युंजय मंत्र का जाप करना चाहिए। 

Comments

Subscribe

Receive updates and latest news direct from our team. Simply enter your email below :