न्यूजीलैंड से बदला लेने के सवाल पर कोहली ने दिया दिल छु लेने वाला जवाब निर्भया दोषियों की तिहाड़ मे फांसी की तैयारी शुरू, पूछी गयी आखिरी इच्छा काँग्रेस ने सोशल मीडिया को लेकर बनाई नई रणनीति, लड़कियां वोटेर्स पर देगी ध्यान सबका इलाज कर देंगे, बस JNU-जामिया में पश्चिमी यूपी को दीजिए 10% आरक्षण : संजीव बालियान ट्वीट / 8 फरवरी को दिल्ली की पर होगा भारत और पाकिस्तान का मुक़ाबला : कपिल मिश्रा उनको जहां जाना है, जा सकते हैं नीतिश ने दिल्ली में BJP-JDU गठबंधन पर दिया जवाब बयान / जम्मू-कश्मीर के बच्चे राष्ट्रवादी हैं, कभी-कभी वे भटककर गलत राह चले जाते हैं: राजनाथ सिंह नीलांशी ने 6 फुट 3 इंच लंबे बालों के साथ फिर बनाया विश्व किर्तिमान अमेरिका / कश्मीर पर भारत के फैसले के खिलाफ पाकिस्तान के पास सीमित विकल्प : संसद की सलाहकार एजेंसी ओवैसी ने दी अमित शाह को चुनौती कहा दाड़ी वाले के साथ बहस करके दिखाओ टीम इंडिया मे, मैं वाली नहीं हम वाली भावना रहती है : कोच शास्त्री पत्थलगड़ी का विरोध करने वाले अगवा हुये 7 लोगों के शव बरामद कोहरे के चलते नहर मे पलटी गाड़ी तीन की मौत केंद्र सरकार को नोटिस जारी कर CAA पर रोक लगाने से SC का इंकार, अगली सुनवाई 4 सप्ताह बाद इंडिया ए और न्यूजीलैंड ए के बीच खेले मुक़ाबले मे चमके पृथ्वी-सैमसन, मैच भारत के हत्थे पीएम को खोना पड़ा बहुमत, वजह बनी ISIS के एक आतंकी की पत्नी को नार्वे वापिस लाना कोहरे का कोहराम : दिल्ली एयरपोर्ट से 5 फ्लाइट डायवर्ट, 194 ट्रेनें लेट, 77 कैंसिल केदार जाधव को टीम मे रखने पर फैन्स की खरी-खोटी सुन रहे है सिलेक्टर्स और कप्तान कोहली रेलवे की ई-टिकिट की कालाबाजारी से कमाए 1000 करोड़, सारा पैसा लगता था टेरर फंडिंग मे दिल्ली विधानसभा चुनाव के लिए काँग्रेस की स्टार प्रचारकों की लिस्ट मे शामिल नवजोत सिघ सिद्धू

वाराणसी में गुरुपूर्णिमा पर शाम को नहीं दोपहर को होगी गंगा आरती

Khushboo Diwakar 16-07-2019 11:04:14



सूर्य ग्रहण के बाद इस बार सदी का सबसे बड़ा चंद्र ग्रहण 16 जुलाई को लगने वाला है. ज्योतिष गणनाओं के अनुसार साल का यह दूसरा चंद्र ग्रहण कई मायनों में खास रहने वाला है. इस बार चंद्र ग्रहण पर बेहद दुर्लभ योग बन रहे हैं. बता दें, इससे पहले ऐसे ही योग 149 साल पहले 12 जुलाई, 1870 को गुरु पूर्णिमा पर बने थे.

चंद्र ग्रहण का समय-

16-17 जुलाई को रात 1 बजकर 32 मिनट से 4:30 बजे तक चंद्र ग्रहण रहेगा. ज्योतिषियों की मानें तो तीन घंटे तक रहने वाला यह ग्रहण एशिया, ऑस्ट्रेलिया और दक्षिण अमेरिकी महाद्वीप में भौगोलिक और राजनीतिक उठा-पटक की वजह बन सकता है.

शाम को नहीं दोपहर को होगी गंगा आरती-

यूं तो गंगा आरती अक्सर शाम के समय ही की जाती है. लेकिन इस बार वाराणसी की विश्वप्रसिद्ध गंगा आरती चंद्र ग्रहण के सूतक काल की वजह से शाम की जगह दोपहर में दशाश्वमेध घाट पर होगी. बता दें, चंद्र ग्रहण में सूतक नौ घंटे पहले लग जाता है.

सूतक का समय-

इस बार सूतक दोपहर 3 बजकर 56 मिनट पर शुरू होगा. यही वजह है कि शाम को होने वाली गंगा आरती को करने के लिए 3.00 बजे का समय रखा गया है.

चंद्र ग्रहण से जुड़ी अहम बातें-

-चंद्र ग्रहण रात 1.30 बजे के बाद से शुरू हो जाएगा.

-मोक्ष का समय 4.30 बजे है.

-ग्रहण की अवधि लगभग दो घंटे 57 मिनट 14 सेकंड है.

इन देशों में दिखाई देगा चंद्र ग्रहण-

ज्योतिषियों की मानें तो इस चंद्र ग्रहण का धार्मिक दृष्टि से विशेष महत्व है. जुलाई 16 और 17 को आंशिक चंद्र ग्रहण दर्शनीय है. यह चंद्र ग्रहण अटलांटिक महासागर, अंटार्कटिका, हिन्द महासागर, प्रशान्त महासागर, अफ्रीका, ऑस्ट्रेलिया, दक्षिण अमेरिका, एशिया और यूरोप के अधिकांश देश और उत्तरी अमेरिका के कुछ पूर्वी हिस्सों से दिखाई देगा. आंशिक चंद्र ग्रहण भारत, पाकिस्तान, नेपाल, मॉरीशस और सिंगापुर में भी दिखाई देगा!

Comments

Subscribe

Receive updates and latest news direct from our team. Simply enter your email below :