21 जून 2020 को सबसे लंबा सूर्यग्रहण

देश की बड़ी आबादी पर अभी भी कोरोना से संक्रमित होने का खतरा जंगलराज ने एक और युवती को मार डाला- राहुल हाथरस गैंगरेप: सफदरजंग अस्पताल में पीड़िता के पिता-भाई धरने पर बैठे Bihar Election: हर घर बिजली शौचालय पहुंचाने का दावा कितना सच? क्या 1 अक्तूबर से पडेगा आपकी जेब पर असर Bihar Election 2020: LJP ने बढ़ाई NDA में रार, अब BJP से भी नहीं बन रही बात ऑनलाइन धोखाधड़ी को देखते हुए Flipkart ने दी डिजिटल सुरक्षा बिहार की वाल्मीकिनगर लोकसभा सीट पर 3 नवंबर को उपचुनाव के लिए वोटिंग अक्तूबर से अप्रैल तक इन नौ दिनों में ही शादी के शुभ योग सीट बंटवारे पर घमासान के बीच जेपी नड्डा से मिले चिराग पासवान लॉकडाउन के चलते भी रहे मुकेश अंबानी मालामाल IPL: आज जीत की हैट्रिक लगा पाएगी दिल्ली? महबूबा मुफ्ती की हिरासत पर SC ने प्रशासन से मांगा जवाब Bihar Election 2020: क्या गलत कर रहे हैं चिराग पासवान? 56 विधानसभा सीटों पर उपचुनाव की घोषणा, इन 7 सीट पर नहीं होगा चुनाव Bihar Election: अब सुलझ जाएगी महागठबंधन की गांठ, घोषणा इसी सप्‍ताह रिया चक्रवर्ती और भाई शोविक की जमानत याचिका पर सुनवाई जारी बालिका वधू जैसे हिट शो देने वाले इन दिनों लगा रहे है ठेला हाथरस गैंगरेप की पीड़िता ने 15 दिन बाद तोड़ा दम किसानों से जुड़े नए कानूनों पर विपक्ष के विरोध पर बोले मोदी

21 जून 2020 को सबसे लंबा सूर्यग्रहण

Deepak Chauhan 21-06-2020 11:27:40

21 जून 2020 को सूर्य ग्रहण लगने जा रहा है। ज्‍योतिषियों  जन्म लग्न मिथुन राशि में लग रहा है। उनके लिए यह विशेष अरिष्ट फल प्रदान करने वाला होगा। सूर्य ग्रहण प्रात: 9:26 बजे से अपराह्न 3:28 तक रहेगा। 21 जून को दिन में अन्धेरा हो जाएगा, वहीं देशभर में कई जगह तारे भी दिखाई देंगे। 21 जून को पड़ने वाले ग्रहण का सूतक काल आज रात 09:15 बजे सूतक काल लगेगा। यह सूतक काल 21 जून को ग्रहण की समाप्ति पर खत्म होगा। प्रमुख मंदिर और धार्मिक स्थल सूतक काल के दौरान बंद रहेंगे।

  • दिल्ली Sutaktime रात 10 बजकर 20 मिनट
  • मुंबई  Sutaktime रात 10 बजकर 43 सेकंड
  • चेन्नई  Sutaktime रात 10 बजकर 22 मिनट
  • लखनऊ Sutaktime रात 10 बजकर 26 मिनट
  • कानपुर Sutaktime रात 10 बजकर 24 मिनट
  • कुरुक्षेत्र Sutaktime रात 10 बजकर 21 मिनट
  • देहरादून Sutaktime रात 10 बजकर 24 मिनट


ग्रहण के स्पर्श के समय स्नान करना अनिवार्य है। ग्रहण के दौरान सभी को भगवान के मंत्रों का जाप करना चाहिए।  ग्रहण के बाद कपड़ों सहित स्नान करना चाहिए। सूतक काल में इस बात का ध्यान रखना चाहिए कि मंदिरों के कपाट बंद कर दें। घर में भी मंदिर को कपड़े से कवर कर देना चाहिए। इस दौरान कोई पूजा पाठ नहीं किया जाता है। ग्रहण के बाद आसन, गोमुखी व मंदिर में बिछा हुआ कपड़ा सभी को धो दें। गोमूत्र या गंगाजल का छिड़काव पूरे घर में करें।

ग्रहण के समय सोना नहीं चाहिए, कहते हैं सोने से मनुष्य रोगी होता है। लेकिन गर्भवती महिलाओं, बुजुर्गों, बच्चों और रोगी को  यह नियम मानने के जरूरत नहीं है। 

सूतक काल लगते ही तुलसी या कुश मिश्रित जल को खाने-पीने की चीजों में रखना चाहिए। लेकिन इस बात का ध्यान रखना चाहिए कि तुलसी दल या कुश को ग्रहण के बाद निकाल देना चाहिए। कहते हैं ग्रहण का असर तुलस दल ले लेता है और आपकी चीजों को दूषित नहीं होने देता । इसलिए ग्रहण समाप्त होने के बाद इसे निकाल लेना चाहिए।

ग्रहण के दिन पत्ते, तिनके, लकड़ी और फूल नहीं तोड़ने चाहिए। बाल और वस्त्र नहीं निचोड़ने चाहिए । ग्रहण के समय ताला खोलना, सोना, ये सब कार्य वर्जित हैं।

ग्रहण के समय कोई भी शुभ या नया कार्य शुरू नहीं करना चाहिए।

  • |

Comments

Subscribe

Receive updates and latest news direct from our team. Simply enter your email below :