कलकत्ता HC ने दी पूजा पंडालों को 'नो एन्ट्री ज़ोन' बताने वाले आदेश में ढील

दिल्ली HC ने यातायात चालान को लेकर उठाए सवाल 1 दिसंबर से लागू होगी केंद्र सरकार की नई गाइडलाइन लक्ष्मी विलास बैंक के DBIL में विलय को कैबिनेट की मंजूरी आज का सोने चांदी का भाव भूमि पेडनेकर की दुर्गमति का ट्रेलर हुआ जारी कोरोना के बढ़ते संक्रमण को देखते हुए लागू हुए ये नियम बांकुड़ा रैली में ममता ने BJP पर हमला बोला महामारी-गिरता तापमान से जंग लड़ रही दिल्ली दिल्ली-NCR की हवा हुई और खराब हैदराबाद चुनाव : पूर्व केन्द्रीय मंत्री चिरंजीव ने की मुख्यमंत्री की तारीफ स्पीकर के चुनाव में नहीं काम आया RJD का विरोध कांग्रेस के संकटमोचक अहमद पटेल का निधन IND vs AUS: वनडे सीरीज से पहले ऑस्ट्रेलिया के हेड कोच जस्टिन लैंगर का बड़ा बयान जानिए 25 नवंबर का राशिफल जब तक वैक्सीन नहीं आती, तब तक नहीं खुलेंगे दिल्ली के स्कूल-मनीष सिसोदिया लालू ने जेल से ही BJP विधायक ललन पासवान को फोन किया ट्रेड यूनियनों की हड़ताल में AIBEA भी होगा शामिल केंद्र ने 43 मोबाइल ऐप पर लगाया बैन अरविंद केजरीवाल पर भड़कीं सपना चौधरी आइए जानते है वैष्णो देवी के दर्शन के लिए जाने वाली ट्रेनों की स्थिति

कलकत्ता HC ने दी पूजा पंडालों को 'नो एन्ट्री ज़ोन' बताने वाले आदेश में ढील

Anjali Yadav 21-10-2020 15:53:49

अंजलि यादव,

लोकल न्यूज ऑफ इंडिया,



कोलकाता: कलकत्ता हाईकोर्ट ने पूजा पंडालों को नो एंट्री जोन बताने वाले आदेश में आंशिक ढील दी है. हाईकोर्ट के नए आदेश के मुताबिक अब अधिकतम 45 लोग एक बार में पंडाल में प्रवेश कर सकते हैं. कोर्ट ने कहा है कि बड़े पूजा पंडालों में अधिकतम 60 लोग जा सकते हैं. कोर्ट ने कहा कि पंडाल में प्रवेश की इजाजत पाने वालों के नामों की लिस्ट हर दिन सुबह आठ बजे तक पंडाल के गेट पर लगानी होगी. अदालत ने ढाक या पारंपरिक ड्रम वादकों को भी नो एंट्री जोन में जाने की इजाजत दे दी है. वे अब पंडाल के गेट के बाहर ढोल बजा सकते हैं.



छोटे पंडालों में प्रवेश के लिए बनानी होगी लिस्ट

हाईकोर्ट ने ताजा आदेश में कहा है कि आकार में छोटे पंडालों में प्रवेश के लिए दैनिक रूप से नामों की लिस्ट बनानी होगी. उन पंडालों में एक बार में अधिकतम 10 लोगों को ही जाने की अनुमति होगी. कोर्ट ने  300 वर्ग फुट से अधिक क्षेत्र में बने पंडालों को बड़े पंडालों के रूप में परिभाषित किया है.




कोर्ट ने आज अपने आदेश में दी ढील

पश्चिम बंगाल का सबसे बड़ा त्योहार दशहरा शुरू होने से एक दिन पहले, कलकत्ता हाई कोर्ट ने आज अपने आदेश में ये ढील दी है. कोर्ट ने इससे पहले कोरोनोवायरस महामारी की वजह से पूजा पंडालों को दर्शनार्थियों के लिए "नो-एंट्री जोन" घोषित कर दिया गया था. इसके बाद शहर में 400 शीर्ष दुर्गा पूजा आयोजकों ने आदेश की समीक्षा के लिए कोर्ट में अपील की थी. दुर्गा पूजा आयोजकों की कंट्रोलिंग संस्था, दुर्गोत्सव मंच ने मंगलवार को अदालत का दरवाजा खटखटाया था.

हालांकि, कोर्ट ने आयोजकों की ओर से पेश हुए कल्याण बनर्जी की उस मां गो को खारिज़ कर दिया जिसमें उन्होंने पंडाल के अंदर पूजा अंजलि और सिंदूर खेला की इजाजत देने की मांग की थी.

  • |

Comments

Subscribe

Receive updates and latest news direct from our team. Simply enter your email below :