कपिल मिश्रा और भाजपा ने दिल्ली दंगों को भड़काया : कांग्रेस अमेरिका का भारत को धन्यवाद कहा : 1959 से परम पावन और तिब्बती लोगों को शरण देने के लिए हम भारत को धन्यवाद देते हैं।'' पिछले 24 घंटो में 22,252 नए मामलो के साथ भारत में कुल 7,19,665 कोरोना मरीज नई विशेष ट्रेन दिल्ली से कई शहरों के लिए चलाने की तैयारी कोरोना संक्रमित पत्रकार ने एम्स की बिल्डिंग से कूदकर की आत्महत्या DRDO ने भी 12 दिन में बनाया 1000 बेड का अस्पताल अब सुजानपुर में युवाओं की टोली ने थामा कांग्रेस का दामन सैनिकों के जल्द से जल्द पीछे हटने पर सहमत हुए डोभाल और वांग भारत के साथ सैन्य बातचीत में बनी सहमति पर अमल ग्वालियर में बिना मास्क लगाए पकड़े जाने पर मिलेगी अजीब सजा डोभाल ने की थी चीन के विदेश मंत्री से बात, 2 किलोमीटर पीछे हटी चीनी सेना दक्षिणी चीन सागर में हमारे 2-2 विमानवाहक तैनात कोविड-19 के मरीज जल्द हो रहे हैं ठीक : अरविंद केजरीवाल कानपुर एनकाउंटर में मुख्य हत्यारोपी विकास दुबे के ऊपर राशि ढाई लाख का इनाम देश के इंजीनियरों को दिया चैलेंजदेश के इंजीनियरों को दिया मेड इन इंडिया ऐप का चैलेंज शराब के नशे में चूर पुलिस कर्मी ने एक महिला को अपनी कार से रौंद कानपुर एनकाउंटर से पहले विकास दुबे से SO विनय तिवारी ने की थी बात दक्षिण चीन सागर में युद्धपोतों का अभ्यास, चीन से निपटने को तैयार अमेरिका सीएम योगी का ऐलान शहीद पुलिसकर्मियों के परिजनों को एक-एक करोड़ भारत और अमेरिका की दोस्ती को देखकर चीन को 'जलन'

फ़र्ज़ी डिग्री का एक और केस आया सामने-पिता पुत्र दोनों हिरासत में

उत्तर प्रदेश के बाराबंकी में लखनऊ एसटीएफ ने फर्जी तरीके से शिक्षक की नौकरी दिलाने वाली गैंग का पर्दाफाश किया है। पकड़े गए आरोपी पिता-पुत्र हैं, जो फर्जी दस्तावेज से हैदरगढ़ ब्लॉक में कई सालों से बतौर शिक्षक नौकरी कर रहे थे।

Abhayraj Singh Tanwar 10-11-2019 15:14:44



उत्तर प्रदेश के बाराबंकी में लखनऊ एसटीएफ ने फर्जी तरीके से शिक्षक की नौकरी दिलाने वाली गैंग का पर्दाफाश किया है।  पकड़े गए आरोपी पिता-पुत्र हैं, जो फर्जी दस्तावेज से हैदरगढ़ ब्लॉक में कई सालों से बतौर शिक्षक नौकरी कर रहे थे।  इन्होंने भर्ती प्रक्रिया में फर्जी डिग्री व नाम के आधार पर नौकरी हासिल की थी।  वहीं, ये लोग फर्जी तरीके से नौकरी दिलाने का रैकेट भी चलाते हैं। 

बाराबंकी में फर्जी डिग्री से शिक्षक बने पिता-पुत्र गोरखपुर के रहने वाले हैं, जिन्हें देर रात एसटीएफ ने गिरफ्तार कर लिया।  वहीं, एक महिला सहित दो अन्य शिक्षक फरार हैं, जिनकी तलाश की जा रही है।  हालांकि, एसटीएफ की ओर से अभी पूरे प्रकरण का खुलासा नहीं किया गया है। 

गिरफ्तार किए गए पिता-पुत्र गोरखपुर स्थित नगर कोतवाली क्षेत्र के ग्राम गोपालापुर के मूल निवासी हैं।  पिता बृजेश कुमार ने साल 1997 में बेसिक शिक्षा विभाग में सहायक अध्यापक के पद पर बलरामपुर जिले से जयकरन दुबे नाम के दस्तावेजों से नौकरी शुरू की।  वर्ष 2016 में महराजगंज जिले से स्थानांतरित होकर बाराबंकी आया।  मौजूदा समय हैदरगढ़ ब्लॉक के पूर्व माध्यमिक विद्यालय गेरावां में सहायक अध्यापक पद पर तैनाती है। उसने अपने पुत्र आदित्य त्रिपाठी को साल 2009 में रविशंकर त्रिपाठी के नाम से फर्जी डिग्रियों के सहारे सहायक अध्यापक पद पर प्राथमिक स्कूल हैदरगढ़ में नौकरी दिलाई।  ये दोनों फिलहाल बाराबंकी में एक किराए के मकान में रहते हैं और फर्जी तरीके से नौकरी दिलाने का रैकेट चलाते हैं। 

करीब दो दर्जन लोगों से नौकरी के नाम पर रुपये वसूलने को लेकर की गई शिकायत पर एसटीएफ जांच कर रही थी।  जांच में पाया गया कि बृजेश ने अपने पुत्र के अलावा सुरेंद्र नाथ, सहायक अध्यापक गुलामाबाद व नवनीता यादव, सहायक अध्यापक मसौली को भी फर्जी तरीके से नौकरी दिलवाई थी।  सुरेंद्र नाथ व नवनीता की तलाश में एसटीएफ ने उनके घरों पर छापा मारा लेकिन वह नहीं मिले।  वहीं, पिता-पुत्र को गिरफ्तार कर पूछताछ की जा रही है। 

Comments

Subscribe

Receive updates and latest news direct from our team. Simply enter your email below :