Vishwakarma Puja 2020-विधि विधान से पूजन करने से घर और दुकान में आती है सुख-समृद्धि

अब यूरिन की जांच से भी पता लगाया जा सकता है कोरोना संक्रमण का PM मोदी कैबिनेट का बड़ा फैसला मुकेश खन्ना ने 'LAXMI BOMB' के नाम पर उठाए सवाल वायु प्रदूषण की समस्या से निपटने के लिए केंद्र सरकार का नया कानून मोदी सरकार के नए कानून से भड़कीं महबूबा CM त्रिवेंद्र रावत के खिलाफ CBI जांच के हाईकोर्ट के आदेश पर SC ने लगाई रोक Covid-19 के कारण रजनीकांत की राजनीति में एंट्री में देरी वाली चिट्ठी हुई लीक टॉयलेट को सपा के रंग में रंगने पर भड़का सपाइयों का गुस्‍सा क्या दिल्ली में फिर उठ रही है कोरोना की लहर मुंगेर में भक्तों पर लाठीचार्ज से गुस्साई भीड़ मेट्रो की तरफ से NCR के लाखों यात्रियों के लिए खुशखबरी 79 साल की उम्र में शुरू किया चाय मसाले का बिजनेस, हररोज मिल रहे है 800 ऑर्डर AAP के चार विधायकों के खिलाफ FIR दर्ज आइए जानते है क्या है मामला मोदी सरकार का नया कानून-J & K में ऐसे खरीद सकते हैं जमीन मनोज तिवारी के हेलीकॉप्‍टर की तकनीकी खराबी के कारण करवाई गई इमरजेंसी लैंडिंग UP- कांग्रेस को लगा बड़ा झटका,पूर्व सांसद अन्नू टंडन का पार्टी से इस्तीफा The White Tiger का ट्रेलर हुआ रिलीज गुजरात-पूर्व मुख्यमंत्री केशुभाई पटेल का सांस की तकलीफ के चलते हुआ निधन IPL 2020 MI vs RCB: 2011 में सूर्यकुमार यादव पर किया रोहित शर्मा का ट्वीट हुआ वायरल बिग बॉस ने लगाई जान कुमार सानू को फटकार

Vishwakarma Puja 2020-विधि विधान से पूजन करने से घर और दुकान में आती है सुख-समृद्धि

Gauri Manjeet Singh 15-09-2020 16:20:50

नई दिल्ली,लोकल न्यूज ऑफ़ इंडिया

वास्तुशिल्प के रचनाकार हैं विश्वकर्मा

वैदिक देवता के रूप में सर्वमान्य देव शिल्पी विश्वकर्मा अपने विशिष्ट ज्ञान-विज्ञान के कारण मानव ही नहीं, देवगणों द्वारा भी पूजित हैं। कहते हैं देव विश्वकर्मा के पूजन के बिना कोई भी तकनीकी कार्य शुभ नहीं होता। 

हर साल 17 सितंबर को तकनीकी ज्ञान के रचनाकार भगवान विश्वकर्मा की जयंती मनाई जाती है। इनको देवताओं के वास्तुशिल्प का जनक भी माना जाता है, इसलिए शिल्पकला से जुड़े लोग उनकी जयंती को विधि-विधान से मनाते हैं।  मान्यता है कि भगवान विश्वकर्मा के पूजन-अर्चन किए बिना कोई भी तकनीकी कार्य शुभ नहीं माना जाता। इसी कारण विभिन्न कार्यों में प्रयुक्त होने वाले औजारों, कल-कारखानों में लगी मशीनों की पूजा की जाती है। भगवान विश्वकर्मा के जन्म को लेकर शास्त्रों में अलग-अलग कथाएं प्रचलित हैं। वराह पुराण के अनुसार ब्रह्माजी ने विश्वकर्मा को धरती पर उत्पन्न किया। वहीं विश्वकर्मा  पुुराण के अनुसार, आदि नारायण ने सर्वप्रथम ब्रह्माजी और फिर विश्वकर्मा जी की रचना की। भगवान विश्वकर्मा के जन्म को देवताओं और राक्षसों के बीच हुए समुद्र मंथन से भी जोड़ा जाता है। 

इस तरह भगवान विश्वकर्मा के जन्म को लेकर शास्त्रों में जो कथाएं मिलती हैं, उससे ज्ञात होता है कि विश्वकर्मा एक नहीं कई हुए हैं और समय-समय पर अपने कार्यों और ज्ञान से वो सृष्टि के विकास में सहायक हुए हैं। शास्त्रों में भगवान विश्वकर्मा के इस वर्णन से यह संकेत मिलता है कि विश्वकर्मा एक प्रकार का पद और उपाधि है, जो शिल्पशास्त्र का श्रेष्ठ ज्ञान रखने वाले को कहा जाता था। सबसे पहले हुए विराट विश्वकर्मा, उसके बाद धर्मवंशी विश्वकर्मा, अंगिरावंशी, तब सुधान्वा विश्वकर्मा हुए। फिर शुक्राचार्य के पौत्र भृगुवंशी विश्वकर्मा हुए। मान्यता है कि देवताओं की विनती पर विश्वकर्मा ने महर्षि दधीची की हड्डियों से स्वर्गाधिपति इंद्र के लिए एक शक्तिशाली वज्र बनाया था।

प्राचीन काल में जितने भी सुप्रसिद्ध नगर और राजधानियां थीं, उनका सृजन भी विश्वकर्मा ने ही किया था, जैसे सतयुग का स्वर्ग लोक, त्रेतायुग की लंका, द्वापर की द्वारिका और कलियुग के हस्तिनापुर। महादेव का त्रिशूल, श्रीहरि का सुदर्शन चक्र, हनुमान जी की गदा, यमराज का कालदंड, कर्ण के कुंडल और  कुबेर के पुष्पक विमान का निर्माण भी विश्वकर्मा ने ही किया था। वो शिल्पकला के इतने बड़े मर्मज्ञ थे कि जल पर चल सकने योग्य खड़ाऊ बनाने की सामथ्र्य रखते थे। 

विश्वकर्मा के यथाविधि पूजन करने से घर और दुकान में सुख-समृद्धि आती है। इस दिन अपने कामकाज में उपयोग में आने वाली मशीनों को साफ करें। फिर स्नान करके भगवान विष्णु के साथ विश्वकर्माजी की प्रतिमा की विधिवत पूजा करनी चाहिए।  ऋतुफल, मिष्ठान्न, पंचमेवा, पंचामृत का भोग लगाएं। दीप-धूप आदि जलाकर दोनों देवताओं की आरती उतारें।

  • |

Comments

Subscribe

Receive updates and latest news direct from our team. Simply enter your email below :