इलाहबाद कोर्ट ने रद्द की अब्दुल्ला आजम की विधायकी रद्द टीम इंडिया के हेड कोच रवि शास्त्री ने बताया टीम का असली लक्ष्य नागरिकता कानून पर बोले PM, मोदी अधिनियम पर हिंसक विरोध दुर्भाग्यपूर्ण नागरिकता कानून को लेकर चल रहे प्रदर्शन में दिल्ली में आज फिर फूंकी गयी बसें 15 फरवरी से शुरू होंगी 10वी ऑर 12वी की CBSE की बोर्ड परीक्षा नागरिकता कानून : पश्चिम बंगाल मे हिंसक प्रदर्शनों के चलते अब इंटरनेट भी बंद नागरिकता कानून को लेकर असम, त्रिपुरा, ऑर नगालेंड समेत कई पूर्वोतर राज्यों मे हिंसक प्रदर्शन अब भाजपा का सहयोगी असम गण परिषद खुद ही नागरिकता कानून के विरोध मे पहुचेगा SC बिग बॉस एक्ट कंटेस्टेंट और एक्ट्रेस पायल रोहतगी को विवादित बयान के चलते किया अरेस्ट वीडियो जारी कर कहा कि उनकी सरकार असम के लोगों के अधिकारों की रक्षा करने के लिए प्रतिबद्ध : मुख्यमंत्री सर्बानंद मुंबई पोलिक एको मिला सलमान के घर को बम से उड़ाना वाला ईमेल अपने पद से इस्तीफा देने वाले सवाल पर जाने जदयू के प्रशांत किशोर का जवाब मोदी हैं तो 100 रुपये किलो प्याज, 45 साल की सर्वोच्च बेरोजगारी मुमकिन है : प्रियंका गांधी हमारे देश को बांटा जा रहा है और अर्थव्यवस्था को कमजोर किया जा रहा है: राहुल गांधी जलोड़ी दर्रा में हुई इस साल की दुसरी भारी बर्फ़बारी नवलेखा की कार्यशाला आसान और अपमार्जित गूगल न्यूज सर्विस इस सर्दी मे यहाँ जाकर ले सकते है साल के अंतिम दिनो का मजा दुनिया के पहले एचआईवी पॉजिटिव 'स्पर्म बैंक' की शुरुआत करने वाला देश बना न्यूजीलैंड भारत के हिटमैन बने दुनिया के तीसरे सबसे ज्यादा छक्के लगाने वाले खिलाड़ी "महंगाई डायन खाय जात है" तीन साल के सबसे बड़े स्तर पर पहुची मुद्रास्फीति

लंग कैंसर की चपेट में भारत, हर साल होती हैं हजारों मौत

Deepak Chauhan 02-08-2019 13:05:53



फेफड़ों के कैंसर (लंग कैंसर) की वजह से भारत में हर साल हजारों लोगों की मौत होती है. इंसानों की जिंदगी को निगलने वाले लंग कैंसर के प्रति लोगों को जागरूक करने के लिए हर साल 1 अगस्त को 'वर्ल्ड लंग कैंसर डे' सेलिब्रेट किया जाता है. फेफड़ों में होने वाले इस कैंसर के शुरुआती चरणों की पहचान करना मुश्किल है, लेकिन अगर आप इसके लक्षणों को भांप लें तो इस खतरे को टाला जा सकता है.

लंग कैंसर की चपेट में भारत

फेफड़ों का कैंसर दुनियाभर में सामने आने वाला सबसे आम कैंसर है. कैंसर अगेंस्ट इंडिया की एक रिपोर्ट के मुताबिक भारत में हर साल लंग कैंसर के करीब 67 हजार नए मामले सामने आते हैं, जिनमें 48 हजार से ज्यादा पुरुष और 19 हजार से ज्यादा महिलाएं शामिल होती हैं.

हर साल होती हैं इतनी मौत

रिपोर्ट में यह भी दावा किया गया है कि भारत में हर साल फेफड़ों के कैंसर की वजह से मरने वालों की संख्या 63 हजार से भी ज्यादा है. स्तन, गर्भाशय ग्रीवा और मौखिक गुहा कैंसर के बाद फेफड़ों का कैंसर चौथे स्थान पर आता है.

किस कारण से हो रहा फेफड़ों का कैंसर?

कैंसर की घटना के संदर्भ में भारत में लगभग 90 फीसदी फेफड़े के कैंसर के मामले सिगरेट, बीड़ी या हुक्का से जुड़े हैं. अन्य 10 फीसदी लोगों में इस रोग का प्रमुख कारण पर्यावरण में कैंसरकारी तत्वों की मौजूदगी है. फेफड़ों के कैंसर के लिए धूम्रपान सबसे बड़ा कारक है. वहीं दूसरी ओर व्यावसायिक कैंसर भी इसका एक कारण है. जब कोई व्यक्ति कार्यस्थल पर कैंसर पैदा करने वाले पदार्थ के संपर्क में आता है तो उसे व्यावसायिक कैंसर कहते हैं.

क्या होते हैं लक्षण?

फेफड़ों के कैंसर होने कई लक्षण होते हैं. इसमें लंबे समय तक लगातार खांसी आना. खांसी के साथ खून आना. जल्दी सांस फूलना या घबराहट होना भूख न लगना और जल्दी थकावट हो जाना. हर वक्त कमजोरी महसूस करना. बार-बार संक्रमण का होना. इसके अलावा हड्डियों में दर्द और चेहरे, हाथ या गर्दन में सूजन भी इसके सामान्य लक्षण हैं.

Comments

Subscribe

Receive updates and latest news direct from our team. Simply enter your email below :