शिक्षा संवाद कार्यक्रम में विद्यालयों के विकास में अहम योगदान देने वाली पांच स्कूल प्रबंधन समितियों को किया सम्मानित दौलतपुर में घूमधाम से मनाया वार्षिक पारितोषिक समारोह, विद्यार्थियों द्वारा प्रस्तुत किये रंगारंग कार्यक्रम पुराना कांगड़ा जग सुंदरी माता मंदिर की जमीन पर एक निजी कंपनी द्वारा मोबाइल टावर निर्माण कार्य शुरू करने पर विवाद नगरकोट फेस्ट से पहले हॉट एयर बैलून बना आकर्षण का केंद्र, भारत लोकतंत्र सूचकांक की वैश्विक रैंकिंग में भी फिसला: शिवसेना कपिल मिश्रा के ट्विटर पर विवादित बयान पर EC ने दिया जवाब कहा ट्वीट को करें करें समाज को बेहतर बनाने में युवाओं की अहम भूमिका: एसडीएम न्यूजीलैंड से बदला लेने के सवाल पर कोहली ने दिया दिल छु लेने वाला जवाब निर्भया दोषियों की तिहाड़ मे फांसी की तैयारी शुरू, पूछी गयी आखिरी इच्छा काँग्रेस ने सोशल मीडिया को लेकर बनाई नई रणनीति, लड़कियां वोटेर्स पर देगी ध्यान सबका इलाज कर देंगे, बस JNU-जामिया में पश्चिमी यूपी को दीजिए 10% आरक्षण : संजीव बालियान ट्वीट / 8 फरवरी को दिल्ली की पर होगा भारत और पाकिस्तान का मुक़ाबला : कपिल मिश्रा उनको जहां जाना है, जा सकते हैं नीतिश ने दिल्ली में BJP-JDU गठबंधन पर दिया जवाब बयान / जम्मू-कश्मीर के बच्चे राष्ट्रवादी हैं, कभी-कभी वे भटककर गलत राह चले जाते हैं: राजनाथ सिंह नीलांशी ने 6 फुट 3 इंच लंबे बालों के साथ फिर बनाया विश्व किर्तिमान अमेरिका / कश्मीर पर भारत के फैसले के खिलाफ पाकिस्तान के पास सीमित विकल्प : संसद की सलाहकार एजेंसी ओवैसी ने दी अमित शाह को चुनौती कहा दाड़ी वाले के साथ बहस करके दिखाओ टीम इंडिया मे, मैं वाली नहीं हम वाली भावना रहती है : कोच शास्त्री पत्थलगड़ी का विरोध करने वाले अगवा हुये 7 लोगों के शव बरामद कोहरे के चलते नहर मे पलटी गाड़ी तीन की मौत

सूखी झील की खुदाई के बाद निकल आए नंदी, लोग मान रहे शिव का चमत्कार

Khushboo Diwakar 19-07-2019 16:26:58



कर्नाटक के मैसूर में एक सूखी झील की खुदाई के बाद वहां से भगवान शिव की सवारी माने जाने वाले नंदी बैल की सैकड़ों साल पुरानी प्रतिमा मिली है जो स्थानीय लोगों के बीच चर्चा का विषय बन गया है. खुदाई के बाद नंदी की बेहद पुरानी प्रतिमा की तस्वीरें सोशल मीडिया पर तेजी से वायरल हो रही हैं.
मैसूर से करीब 20 किलोमीटर दूर अरासिनाकेरे में जब एक सूखी हुई झील की खुदाई की गई तो लोग नंदी की विराट प्रतिमा देखकर हैरान रह गए. यहां नंदी बैल की एक नहीं बल्कि दो मूर्ति पाई गई हैं. रिपोर्ट के मुताबिक इन प्रतिमाओं को ढूंढने का काम खुद स्थानीय लोगों ने ही किया है.
सैकड़ों साल पुरानी इन प्रतिमाओं को लेकर सोशल मीडिया पर दावा किया जा रहा है कि अरासिनाकेरे के बुजुर्ग झील में नंदी की मूर्ति होने की बात किया करते थे और जब झील में पानी कम होता था तो नंदी का सिर नजर आता था. बुजुर्गों की इन्हीं बातों पर भरोसा कर इस बार झील सूखने के बाद स्थानीय लोगों ने खुदाई शुरू कर दी ताकि सच्चाई का पता लगाया जा सके.
स्थानीय रिपोर्ट के मुताबिक नंदी की इस प्रतिमा को ढूंढने के लिए गांव वालों को तीन से चार दिनों तक लगातार खुदाई करनी पड़ी, जिसमें जेसीबी मशीन की भी मदद ली गई. अब नंदी बैल की इन मूर्तियों को बाहर निकाल लिया गया है. 
इस खबर के सोशल मीडिया पर वायरल होते ही पुरातत्व विभाग के अधिकारी भी मौके पर जांच करने पहुंचे. नंदी की प्राचीन प्रतिमाओं को लेकर दावा किया जा रहा है कि ये 16वीं  या 17 वीं शताब्दी की हो सकती हैं. लोग इसे सावन महीने में भगवान शिव से भी जोड़कर देख रहे हैं. 









Comments

Subscribe

Receive updates and latest news direct from our team. Simply enter your email below :