अपनी नौकरी छोड़ दादा के नक़्शे कदमों पर चल पोता कर रहा मोरों की सेवा

दिल्ली HC ने यातायात चालान को लेकर उठाए सवाल 1 दिसंबर से लागू होगी केंद्र सरकार की नई गाइडलाइन लक्ष्मी विलास बैंक के DBIL में विलय को कैबिनेट की मंजूरी आज का सोने चांदी का भाव भूमि पेडनेकर की दुर्गमति का ट्रेलर हुआ जारी कोरोना के बढ़ते संक्रमण को देखते हुए लागू हुए ये नियम बांकुड़ा रैली में ममता ने BJP पर हमला बोला महामारी-गिरता तापमान से जंग लड़ रही दिल्ली दिल्ली-NCR की हवा हुई और खराब हैदराबाद चुनाव : पूर्व केन्द्रीय मंत्री चिरंजीव ने की मुख्यमंत्री की तारीफ स्पीकर के चुनाव में नहीं काम आया RJD का विरोध कांग्रेस के संकटमोचक अहमद पटेल का निधन IND vs AUS: वनडे सीरीज से पहले ऑस्ट्रेलिया के हेड कोच जस्टिन लैंगर का बड़ा बयान जानिए 25 नवंबर का राशिफल जब तक वैक्सीन नहीं आती, तब तक नहीं खुलेंगे दिल्ली के स्कूल-मनीष सिसोदिया लालू ने जेल से ही BJP विधायक ललन पासवान को फोन किया ट्रेड यूनियनों की हड़ताल में AIBEA भी होगा शामिल केंद्र ने 43 मोबाइल ऐप पर लगाया बैन अरविंद केजरीवाल पर भड़कीं सपना चौधरी आइए जानते है वैष्णो देवी के दर्शन के लिए जाने वाली ट्रेनों की स्थिति

अपनी नौकरी छोड़ दादा के नक़्शे कदमों पर चल पोता कर रहा मोरों की सेवा

Deepak Chauhan 11-06-2019 17:36:26

ओडिशा के कटक के करीब पहाड़ की तलहटी पर बना सिद्धेश्वर फायरिंग रेंज पीकॉक वैली के नाम से मशहूर है। 1999 के सुपर साइक्लोन के बाद घायल अवस्था में पहुंचे एक मोर और दो मोरनी की पन्नू बेहरा ने ऐसी सेवा की कि वे यहीं के होकर रह गए। धीरे-धीरे मोरों की संख्या 60 से ऊपर हो गई। आज इस वैली में 117 मोर हैं। पन्नू को गुजरे छह साल हो गए। अब इस विरासत को उनका पोता कान्हू बेहरा संभाल रहे हैं। मोरों की देखभाल के इस जुनून में उन्होंने एक कंपनी की नौकरी ठुकरा दी। लेकिन मोर-प्रेम देखकर सरकार ने ही उन्हें नौकरी पर रख लिया। कान्हू की एक आवाज पर मोर यहां इकट्ठे हो जाते हैं। 


महानदी के किनारे तड़गड और नाराज गांव के बीच बने इस फायरिंग रेंज में पन्नू बेहरा होमगार्ड थे। वे यहां पेड़-पौधे लगाने के साथ-साथ इनकी देखभाल भी करते थे। 1999 के चक्रवात के बाद चण्डका जंगल से तीन मोर भटककर रेंज में आए। पन्नू ने इनमें से एक मोर को राजा नाम दिया। पन्नू ने इनमें से एक घायल मोर की मरहम-पट्‌टी की, फिर तीनों को जंगल में छोड़ दिया। दूसरे दिन मोर फिर वापस आ गए। पन्नू ने उन्हें दाना-पानी दिया। फिर मोर लौटे ही नहीं और यहीं उनका कुनबा बढ़ने लगा।


पन्नू की मौत के बाद 10 दिन नहीं आए मोर

2013 सितंबर में पन्नू रिटायर हो गए, लेकिन राष्ट्रीय पक्षी के प्रति उनके प्रेम और समर्पण को देखते हुए उनकी सेवा अवधि बढ़ा दी गई। इस बीच, अस्थमा से पीड़ित पन्नू बीमार रहने लगे। उन्हें चिंता मोरों की देखभाल की थी। इसलिए उन्होंने अपने पोते कान्हू को यह जिम्मेदारी सौंपी। शुरू में पन्नू, कान्हू के साथ आते थे, ताकि पक्षियों के बीच एक रिश्ता बन जाए। कान्हू ने बताया कि दादा की मौत के 10 दिन तक मोर वहां नहीं आए। इसके बावजूद वे हर रोज दाना-पानी रखते थे और राजा आ...आ.. की आवाज लगाते थे। 10 दिन बाद वहां 25 मोर आए। इसके बाद से इन्हें दाना-पानी देना दिनचर्या में शामिल हो गया। 

मोरों के दाना-पानी पर हर रोज करीब 500 रुपए खर्च होते हैं। कान्हू दिन में दो बार सुबह 6 से 8 और दोपहर 3 से 5 बजे तक मोरों को दाना देते हैं। नौकरी मिलने से पहले सरकार से उन्हें 2500 रुपए महीने मिलते थे। हालांकि, यह काफी नहीं था, फिर भी वे मोरों की सेवा में लगे रहे। पिछले छह साल से यह सिलसिला चल रहा है। लोग कहते हैं कि पन्नू के बाद पीकॉक वैली को फिर से नया पीकॉक मैन मिल गया है। 


यूं मिला वैली को नाम 

साइकलिस्ट की एक टीम फायरिंग रेंज से गुजर रही थी। पन्नू को मोरों के बीच देखकर वे रुक गए। पहाड़ी की तलहटी में बसे इस स्थान को उन्होंने पहली बार पीकॉक वैली नाम दिया और पन्नू को पीकॉक मैन। बस, तब से यही नाम चल पड़ा। 


कान्हू को सरकार ने इसी साल मार्च में होमगार्ड बनाया है। पोस्टिंग वैली में की गई, ताकि उनकी मुहिम जारी रहे। बीकॉम पास कान्हू को एक कंपनी ने 18 हजार की नौकरी ऑफर की थी, लेकिन उन्होंने इसे ठुकरा दिया और मोरों की देखभाल को ही अपना मिशन बना लिया।

  • |

Comments

Subscribe

Receive updates and latest news direct from our team. Simply enter your email below :