माँ को नहीं घुमा सके पिता तो बेटा स्कूटर से घुमा रहा पूरा भारत

दिल्ली HC ने यातायात चालान को लेकर उठाए सवाल 1 दिसंबर से लागू होगी केंद्र सरकार की नई गाइडलाइन लक्ष्मी विलास बैंक के DBIL में विलय को कैबिनेट की मंजूरी आज का सोने चांदी का भाव भूमि पेडनेकर की दुर्गमति का ट्रेलर हुआ जारी कोरोना के बढ़ते संक्रमण को देखते हुए लागू हुए ये नियम बांकुड़ा रैली में ममता ने BJP पर हमला बोला महामारी-गिरता तापमान से जंग लड़ रही दिल्ली दिल्ली-NCR की हवा हुई और खराब हैदराबाद चुनाव : पूर्व केन्द्रीय मंत्री चिरंजीव ने की मुख्यमंत्री की तारीफ स्पीकर के चुनाव में नहीं काम आया RJD का विरोध कांग्रेस के संकटमोचक अहमद पटेल का निधन IND vs AUS: वनडे सीरीज से पहले ऑस्ट्रेलिया के हेड कोच जस्टिन लैंगर का बड़ा बयान जानिए 25 नवंबर का राशिफल जब तक वैक्सीन नहीं आती, तब तक नहीं खुलेंगे दिल्ली के स्कूल-मनीष सिसोदिया लालू ने जेल से ही BJP विधायक ललन पासवान को फोन किया ट्रेड यूनियनों की हड़ताल में AIBEA भी होगा शामिल केंद्र ने 43 मोबाइल ऐप पर लगाया बैन अरविंद केजरीवाल पर भड़कीं सपना चौधरी आइए जानते है वैष्णो देवी के दर्शन के लिए जाने वाली ट्रेनों की स्थिति

माँ को नहीं घुमा सके पिता तो बेटा स्कूटर से घुमा रहा पूरा भारत

Deepak Chauhan 11-06-2019 23:38:46

कर्नाटक के मैसूर गांव के रहने वाले 40 वर्षीय डी कृष्णा अपनी 67 वर्षीय मां को पूरे भारत का भ्रमण स्कूटर से करवा रहे हैं। सोमवार की रात कृष्णा चंपानगर के पास सत्संग नगर स्थित केंद्र पहुंचे। यहां देवघर के रास्ते अब तक 38 हजार 475 किलोमीटर की यात्रा कर आने के बाद स्थानीय लोगों से मिले।


मीडिया से बातचीत के दौरान डी कृष्णा ने बताया कि चार साल पहले जब बेंगलुरु में बातचीत के दौरान मां से एक मंदिर जाने का अनुरोध किया, तो मां ने कहा कि मैं बड़े मंदिर क्या जाउंगी। मैंने तो अब तक वेल्लूर का मंदिर तक नहीं देखा है, कभी तेरे पिता ने घुमाया ही नहीं। इस पर कृष्णा ने कहा कि मेरे पिता ने भले ही आपको वेल्लूर नहीं घुमाया हो, पर मैं आपको अब पूरे भारत का भ्रमण कराउंगा। 


चंपानगर के पास आश्रम में ठहरे, आज जाएंगे पूर्णिया के रास्ते सिलीगुड़ी 

कृष्णा बेंगलुरु में कॉरपोरेट टीम लीडर की नौकरी से इस्तीफा देकर पिता के ही पुराने स्कूटर से देशभ्रमण के लिए मां के साथ निकल पड़ा। कृष्णा ने बताया कि पुराने स्कूटर से भ्रमण इसलिए मां को करवा रहा हूं, ताकि पिता की कमी न खले और हमे भी पिता की मौजूदगी का एहसास हो सके। कृष्णा ने यह भी बताया कि सांसारिक बंधनों से मुक्त रहने की खातिर ही मैंने शादी नहीं की। चूंकि बचपन में अपने पिता को 10 सदस्यों के संयुक्त परिवार को चलाने में हो रही परेशानियों को देखा था, यही वजह रही कि मेरी मां को पिता कहीं घुमाने तक नहीं ले जा सके। कृष्णा की मां कुंडारत्ना ने कहा कि मुझे स्कूटर पर देश भ्रमण करने में बहुत ही अच्छा लग रहा है। 

  • |

Comments

Subscribe

Receive updates and latest news direct from our team. Simply enter your email below :