अर्थव्यवस्था: सितंबर में निर्माण प्रक्रिया PMI साढ़े आठ साल के उच्च स्तर पर

अंग्रेजी का ऐसा लंबा शब्द, जिसे पढ़ने में लग सकता है समय भारत ही नहीं इस देश में भी है अमरनाथ जैसा शिवलिंग दलित परिवार का जबरन कराया धर्म परिवर्तन, फिर दी मारने की धमकी BIGG BOSS 14-शिवसेना और MNS ने शो की शूटिंग रोकने की दी धमकी आइए जानते है पूरा मामला भाजपा MLA की प्रियंका गांधी को चिट्टी, पूछा- मुख्तार अंसारी जैसे दुर्दांत को क्यों बचा रहीं? Corona से ठीक होने के बाद 10 साल बूढ़ा हो जाता है लोगों का दिमाग बिहार में चुनाव प्रचार के बाद लौटी अमीषा पटेल बताया बहुत बुरा रहा अनुभव राहुल का पीएम पर हमला, कहा- लॉकडाउन में मजदूरों को पैदल भगाया निकिता मर्डर केस: अग्रवाल कॉलेज के बाहर छात्रों का प्रदर्शन, लव जिहाद के खिलाफ नारेबाजी सेक्सवर्कर की योगी सरकार ने नहीं ली सुध, सुप्रीम कोर्ट ने लगाई फटकार Bank of Baroda-अब पैसा जमा करने और निकालने पर भी देना होगा चार्ज Bigg Boss 14-आपस में टकराए कविता और रुबीना मतदान के दिन राहुल ने महागठबंधन के लिए मांगा वोट, EC जा सकती है BJP अभिषेक बच्चन ने इंस्टाग्राम पर ‘लूडो’ से अपने किरदार की फोटो शेयर की सीतारमण ने भी माना 2020-21 में GDP रहेगी शून्य के करीब Karwachauth 2020-करवाचौथ व्रत की पूजा और कथा पढ़ने का शुभ मुहूर्त गठिया के मरीजों को दवा के साइड इफेक्ट से बचाने के लिए निकला नया तरीका ग्रेटर नोएडा में चचेरे भाई ने किया बहन से बलात्कार सोने-चांदी में आई गिरावट UP राज्यसभा चुनाव से पहले BSP को बड़ा झटका लगा

अर्थव्यवस्था: सितंबर में निर्माण प्रक्रिया PMI साढ़े आठ साल के उच्च स्तर पर

Anjali Yadav 01-10-2020 16:53:30

अंजलि यादव,

लोकल न्यूज ऑफ इंडिया,


नई दिल्ली: देश में विनिर्माण क्षेत्र की गतिविधियों में सितंबर में लगातार दूसरे महीने सुधार हुआ है. एक मासिक सर्वे के अनुसार नए ऑर्डरों और उत्पादन में बढ़ोतरी से सितंबर में विनिर्माण गतिविधियां करीब साढ़े आठ साल के उच्च स्तर पर पहुंच गई हैं. आईएचएस मार्किट इंडिया का विनिर्माण खरीद प्रबंधक सूचकांक (पीएमआई) सितंबर में बढ़कर 56.8 पर पहुंच गया. अगस्त में यह 52 पर था। जनवरी, 2012 के बाद यह पीएमआई का सबसे ऊंचा स्तर है. 
                                
                
                                 
सही दिशा में बढ़ रही हैं विनिर्माण गतिविधियां 

आईएचएस मार्किट की आर्थिक एसोसिएट निदेशक पोलीअन्ना डे लीमा ने कहा कि, 'भारत की विनिर्माण गतिविधियां सही दिशा में बढ़ रही हैं। सितंबर के पीएमआई आंकड़ों में कई सकारात्मक चीजें हैं. कोविड-19 अंकुशों में ढील के बाद कारखाने पूरी क्षमता से काम कर रहे हैं और उन्हें नए ऑर्डर मिल रहे हैं.' 

अप्रैल में विनिर्माण पीएमआई नकारात्मक दायरे में चला गया था। इससे पिछले लगातार 32 माह तक यह सकारात्मक रहा था। पीएमआई के 50 से ऊपर रहने का अर्थ है कि गतिविधियों में विस्तार हो रहा है, जबकि 50 से कम संकुचन को दर्शाता है।


लगातार छठे महीने घटा रोजगार

लीमा ने कहा कि, 'कुल बिक्री को नए निर्यात ऑर्डरों से भी समर्थन मिला है. कोविड-19 महामारी फैलने के बाद पहली बार यह स्थिति बनी है। लगातार छह महीने तक गिरावट के बाद निर्यात भी सुधरा है.' सर्वे में कहा गया है कि ऑर्डरों में सुधार के बावजूद भारत में उत्पादकों ने अपने कर्मचारियों की संख्या में एक और कटौती का संकेत दिया है. कई मामलों में सामाजिक दूरी दिशानिर्देशों के अनुपालन के लिए ऐसा किया जा रहा है. यह लगातार छठा महीना है जबकि रोजगार घटा है.

आगे लीमा ने कहा कि, 'जो एक क्षेत्र अभी चिंता पैदा करता है, वह है रोजगार. कुछ कंपनियों को कर्मचारियों की नियुक्ति में दिक्कतें आ रही हैं, जबकि कुछ अन्य का कहना है कि सामाजिक दूरी के अनुपालन के लिए उन्होंने अपने कर्मचारियों की संख्या को न्यूनतम किया है.' सर्वे में कहा गया है कि अगले 12 माह के दौरान लगभग 33 फीसदी विनिर्माताओं को उत्पादन में बढ़ोतरी की उम्मीद है. वहीं आठ फीसदी का मानना है कि उत्पादन में कमी आएगी.

  • |

Comments

Subscribe

Receive updates and latest news direct from our team. Simply enter your email below :