Select location to see news around that location.Select Location

दिल्ली के स्कूलों में बच्चों को जुलाई से दी जाएगी मेडिटेशन और नैतिकता की शिक्षा

दिल्ली के स्कूलों में बच्चों को 'सर्वगुण संपन्न' बनाने का अभियान, जुलाई से दी जाएगी मेडिटेशन और नैतिकता की शिक्षा

उपराज्यपाल दफ्तर में 9 दिन के धरने के बाद केजरीवाल सरकार ने पहला फैसला लिया।

दिल्ली में नर्सरी से 8वीं क्लास तक के 8 लाख बच्चों के लिए शुरू होगा हैप्पीनेस कैरिकुलम।

नई दिल्ली.दिल्ली के सरकारी स्कूलों में नए सत्र से बच्चों को मेडिटेशन, मेंटल एक्सरसाइज और नैतिकता की शिक्षा मिलेगी। केजरीवाल सरकार ने इसे हैप्पीनेस कैरिकुलम नाम दिया है। इन गतिविधियों में नर्सरी से 8वीं क्लास तक के बच्चों को शामिल किया जाएगा। उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया ने बुधवार को इस प्रोग्राम का ऐलान किया। उन्होंने बताया कि 2 जुलाई को दलाई लामा कैरिकुलम की शुरुआत करेंगे। उपराज्यपाल के दफ्तर में आप के मंत्रियों का धरना 9वें दिन खत्म होने के बाद केजरी सरकार का ये पहला फैसला है।

दिल्ली सरकार में मनीष सिसोदिया के पास शिक्षा मंत्री का प्रभार भी है। उनकी अध्यक्षता में अफसरों के साथ बुधवार को हुई बैठक में हैप्पीनेस कैरिकुलम पर मुहर लगी। सिसोदिया ने बताया कि आप सरकार की इस मुहिम का उद्देश्य सर्वगुण संपन्न (वर्सटाइल) प्रोफेशनल और बेहतर इंसान तैयार करना है। यही बच्चे आगे डॉक्टर, इंजीनियर और अफसर बनकर समाज की सेवा और खुशी का माहौल तैयार करने का काम करेंगे।

1 हजार स्कूलों में शुरू होगा कैरिकुलम:उपमुख्यमंत्री सिसोदिया ने बताया कि उन्हें यह आइडिया हार्वर्ड यूनिवर्सिटी के दौरे पर मिला। वहां अधिकारियों ने बताया गया कि यूनिवर्सिटी छात्रों के लिए एक हैप्पीनेस कोर्स चला रही है। इसी तर्ज पर राजधानी के एक हजार स्कूलों में हैप्पीनेस कैरिकुलम लागू किया जा रहा है। इसके लिए 35-40 विशेषज्ञों की टीम जनवरी से काम कर रही थी।


Khushboo

Khushboo

undefined Contributors help bring you the latest news around you.


Share it
Top
To Top