Select location to see news around that location.Select Location

बेटे ने बूढ़े पिता को दर-दर की ठोकरों के लिए किया मजबूर

बेटे ने बूढ़े पिता को दर-दर की ठोकरों के लिए किया मजबूर

फरीदाबाद- 59 साल के शौकत अली ने पाई-पाई जोड़कर सूर्या विहार पार्ट-2 सेहतपुर में 40 वर्गगज का प्लॉट किश्तों में खरीदकर उसे आशियाने का रूप दिया। परिवार के लोग इसी मकान में रह रहे हैं। शौकत ने सोचा कि बुढ़ापे में वह अपने बीबी-बच्चों के साथ आराम से रहेंगे। आरोप है कि उनके एक बेटे ने उस प्लॉट को धोखे से अपने नाम करा लिया और उनको दर-दर की ठोकरें खाने को मजबूर कर दिया। न्याय पाने के लिए शौकत ने सीएम विंडो, पुलिस कमिश्नर और पल्ला थाना पुलिस से शिकायत की है। "मेरी जानकारी में शौकत अली की शिकायत नहीं है। अगर ऐसा है तो वह मेरे से आकर मिले। मैं उनकी समस्या का समाधान कराऊंगा।"शौकत अली लुधियाना पंजाब की एक एक्सपोर्ट गॉरमेंट्स कंपनी में नौकरी करते हैं। उन्होंने एक डीलर से 2003 में 40 गज का प्लॉट लिया। वह मामूली तनख्वाह में से अपनी जरूरतमंद वस्तुओं को भी कम करके हर माह अपनी पत्नी गुलशन बेगम को किश्त की राशि भेजते, लेकिन चार बेटों में से एक बेटे ने अपने तीन अन्य भाईयों और पिता के खिलाफ धोखाधड़ी की प्लानिंग बना रखी थी। वह अपनी ममी से किश्त की राशि यह कहकर ले लेता था कि वह डीलर को पैसे दे देगा। वह पैसे तो देता रहा, पर किश्त पूरी होने के बाद डीलर ने मई 2018 में शौकत अली से कहा कि बाकी पैसे 41000 रुपये देकर प्लॉट की जनरल पावर ऑफ अटार्नी (जेपीए) अपने नाम करा लो। डीलर के कहने के मुताबिक शौकत ने 41 हजार रुपये, चार बेटों के फोटो, आधार कार्ड डीलर को दे दिए। इसी बीच शौकत को जरूरी काम से अपने मूल निवास उत्तर प्रदेश के जिला बलिया जाना पड़ गया। उनके पीछे से बेटे ने डीलर से मिलकर गाजियाबाद तहसील से प्लॉट की जेपीए करा ली। बलिया से लौटने पर शौकत को यह पता चला तो मानों उनके पैरों तले जमीन खिसक गई हो। इस मामले में शौकत ने 5 अगस्त को पंचायत की, लेकिन आरोपित पंचायत के लोगों को अपमानित करके चला गया। पल्ला थाने में गए, लेकिन वहां से भी कोई समाधान नहीं हुआ। शौकत अली का कहना है कि एक बेटे ने उन्हें इस कदर मजबूर कर दिया कि उनका किसी भी कार्य में मन नहीं लग रहा है। बुधवार को ईद है। हमारे समुदाय के लोग ईद को लेकर तैयारी कर रहे हैं, लेकिन मैं परेशान होकर अधिकारियों के चक्कर लगा रहा हूं। हालांकि हम लोग ईद मनाएंगे, लेकिन मन को सुकून नहीं है।


Madhu Dheer

Madhu Dheer

undefined Contributors help bring you the latest news around you.


Share it
Top
To Top