Select location to see news around that location.Select Location

बनारसः अफवाह के कारण मामूली विवाद बना बवाल

बनारसः अफवाह के कारण मामूली विवाद बना बवाल

वाराणसी- बनारस के आदमपुर थाना अंतर्गत कज्जाकपुरा रेलवे क्रासिंग के समीप स्थित पान की दुकान पर गुटका खाने के दौरान शुक्रवार की रात दो पक्षों के लड़कों के बीच के मामूली विवाद और हाथापाई को अफवाहों ने बवाल बना दिया। कज्जाकपुरा रेलवे क्रासिंग के समीप शुरू हुई मारपीट और पथराव की घटना देखते ही देखते सरैया, जलालीपुरा और हनुमान फाटक तक फैल गई। मामला सांप्रदायिक होते देख डीएम और एसएसपी 18 थानों की फोर्स के साथ मौके पर पहुंचे और लोगों को समझाबुझाकर शांत कराया। इसके बाद पीएसी और आरएएफ के साथ रूट मार्च कर लोगों को घरों के भीतर रहने की ताकीद की गई। पथराव में दोनों पक्षों से 13 लोगों के घायल होने की सूचना है। एहतियातन क्षेत्र में एक कंपनी पीएसी और आरएएफ के साथ ही नौ थानों की फोर्स तैनात की गई है। कज्जाकपुरा रेलवे क्रासिंग के समीप एक पान की दुकान पर गुटका खाने के दौरान कुछ लड़कों में करीब रात सवा नौ बजे कहासुनी हुई। कहासुनी के बाद ऑटो चालक सोनू की पिटाई कर दी गई। आरोप है कि साढ़े नौ बजे के लगभग सोनू के दोस्तों ने उसे पीटने वालों की पिटाई की। इसके थोड़ी ही देर बाद व्हाट्सऐप पर मैसेज और मोबाइल पर कॉल कर कर्फ्यू लगने और सांप्रदायिक विवाद जैसी तरह-तरह की अफवाहों के कारण दोनों पक्षों के लोग लामबंद हो गए और पथराव शुरू कर दिया। कज्जाकपुरा रेलवे क्रासिंग के समीप लगभग दस मिनट तक पथराव हुआ और फिर यह उपद्रव आदमपुर और जैतपुरा थाना के अन्य मुहल्लों में भी फैल गया। इस दौरान कई राहगीरों को भी पीटा गया और कुछेक लोगों ने असलहे भी लहराए। साथ ही, दोनों पक्षों की ओर से जमकर नारेबाजी की गई। उपद्रव को लेकर दो पार्षदों की भूमिका की पुलिस जांच कर रही है। इस संबंध में एसएसपी आनंद कुलकर्णी ने बताया कि बाजार में लगे सीसीटीवी कैमरों की फुटेज से आरोपियों को चिह्नित कर उनके खिलाफ कड़ी कार्रवाई की जाएगी। डीएम सुरेंद्र सिंह का कहना है कि शहर का अमन-चैन बिगाड़ने वालों पर एनएसए के तहत कार्रवाई होगी। अफवाह फैलाकर माहौल खराब करने वाले छोड़े नहीं जाएंगे। पान की दुकान पर गुटका खाने को लेकर विवाद हुआ था लेकिन छोटे विवाद को तूल दिया गया। स्थिति पूरी तरह से नियंत्रण में है और क्षेत्र में फोर्स गश्त कर रही है। आदमपुर और जैतपुरा थाना क्षेत्र में मारपीट और पथराव शुरू होते ही यहां के दुकानों के शटर धड़ाधड़ गिरने लगे। इसके साथ ही दुकानदार दुकानों के भीतर दुबक गए। रात 12 बजे के लगभग जब स्थिति पूरी तरह से नियंत्रित हुई तो कई दुकानदार अपनी दुकानों से बाहर आकर घर जाते देखे गए। इस बीच पुलिस के पहुंचने पर क्षेत्र के संभ्रांत लोग भी घरों से बाहर निकले और पथराव कर रहे लोगों से शांत रहने की अपील की। वहीं जलालीपुरा क्षेत्र में जब फोर्स घुसी तो पथराव कर रहे लोगों ने अपने घरों और दुकानों की बिजली गुल कर दी। माना जा रहा है कि सीसीटीवी कैमरों की फुटेज में आने से बचने और पुलिस पर पथराव करने की नीयत से ऐसा किया गया था। हालांकि पुलिस पीछे नहीं हटी और ड्रैगन लाइट के सहारे आगे बढ़ी। उधर, मंडलीय अस्पताल पहुंचे घायलों में कज्जाकपुरा का सोनू सोनकर व उसकी पत्नी, कज्जाकपुरा की किरण देवी, सुल्तानपुर का लालमन जायसवाल, लाटसरैया का अजीजुररहमान, पुराना पुल का नेहाल अहमद, सरैया के हाजी मैनुद्दीन और लाट भैरव का हाफिजुर्रहमान शामिल हैं। इसके अलावा अन्य घायलों ने निजी अस्पतालों में उपचार कराया। कज्जाकपुरा, सरैया, जलालीपुरा, और हनुमान फाटक क्षेत्र में शुक्रवार की रात दोनों पक्ष के लोगों को भी पता नहीं था कि विवाद कैसे शुरू हुआ और इसका कारण क्या है? जितने लोग थे, वे विवाद के उतने ही कारण बता रहे थे। इस बीच उपद्रवी राहगीरों से मारपीट कर उनके वाहनों पर पथराव कर रहे थे। इस दौरान जब कोई कुछ सुनने को तैयार नहीं हुआ तो पुलिस और प्रशासनिक अधिकारियों ने लाउड हेलर से कार्रवाई की चेतावनी दी और लाठी लेकर दौड़ाया तो पथराव करने वाले घरों में घुस गए। आदमपुर और जैतपुरा थाना क्षेत्र में इस साल होली से अब तक पांच बार छिटपुट मारपीट की घटनाएं बड़े बवाल का कारण बनी हैं। मिश्रित आबादी वाले इस क्षेत्र में शुक्रवार की रात माहौल बिगाड़ने में सोशल मीडिया की बड़ी भूमिका रही। दोनों पक्षों के लोग बगैर कुछ सोचे-समझे ही वायरल मैसेज को देखने के बाद लामबंद होते गए और बवाल बढ़ता चला गया। इस दौरान कज्जाकपुरा और सरैया की ओर जाने वाले रास्ते पर आवागमन बंद कर पुलिस ने भदऊं चुंगी, पंचक्रोशी, गोलगड्डा पर वाहनों को रोक दिया। रात साढ़े नौ बजे से 12 बजे तक स्थिति अराजक बनी रही। रात 12 बजे के बाद क्षेत्र में सिर्फ पुलिस के वाहनों के सायरन गूंज रहे थे और लोग घरों में जा चुके थे। बवाल बढ़ता देख रेंज के गाजीपुर, जौनपुर और चंदौली से पुलिस को दंगा नियंत्रण उपकरणों और टियर गैस गन के साथ आने का आदेश दिया गया। हालांकि स्थिति नियंत्रित होने के बाद गाजीपुर और जौनपुर की फोर्स को रास्ते से लौटा दिया गया। चंदौली की पुलिस आदमपुर थाने पर मुस्तैद है।


Madhu Dheer

Madhu Dheer

undefined Contributors help bring you the latest news around you.


Share it
Top
To Top