Select location to see news around that location.Select Location

विधायक न बन पाया तो लग्जरी कार चोरी कर बेचने के धंधे में उतरा

विधायक न बन पाया तो लग्जरी कार चोरी कर बेचने के धंधे में उतरा

गाजियाबाद- विधायक न बन पाया तो एक राजनीतिक दल का प्रत्याशी चोरी की कारों को नंबर बदलकर बेचने के धंधे में उतर गया। सिहानी गेट थाना पुलिस ने वाहन चोरी करने वाले एक ऐसे गैंग के सात लोगों को गिरफ्तार किया है, जिनके निशाने पर सिर्फ लग्जरी गाड़ियां होती थीं। गाजियाबाद, दिल्ली, एनसीआर से चोरी की गई गाड़ियों को दूसरे वाहनों के फर्जी दस्तावेजों पर पंजीकृत दिखाकर दूरदराज के क्षेत्रों में बेच देते थे। पुलिस ने इनके पास से 10 लग्जरी कार और चार रॉयल इनफील्ड बाइक बरामद की हैं। एसएसपी वैभव कृष्ण ने बताया कि पकड़े गए चोर लियाकत उर्फ पप्पू निवासी खालापार रहमत नगर मुजफ्फरनगर, अनुज कुमार निवासी मूसरेड़ी सहारनपुर, विशाल कश्यप निवासी शांतिनगर मुजफ्फरनगर, उपेंद्र कुमार उर्फ नीटू निवासी सालाखेड़ी मुजफ्फरनगर, शेखर निवासी इंद्रप्रस्थ लोनी, अमर उर्फ मन्नू निवासी खिंदौड़ा बागपत और अनिल यादव निवासी पचौदा बुलंदशहर हैं। इन्हें मेरठ रोड औद्योगिक क्षेत्र के राम चमेली चड्ढा कालेज के पास से सोमवार को गिरफ्तार किया गया। इन्होंने बताया कि गैंग का मास्टरमाइंड लियाकत उर्फ पप्पू है। वह अनुज के साथ वाहनों को चोरी करने के बाद उनके चेसिस व इंजन नंबर बदल देता था। उसके बाद ये लोग फर्जी कागजात तैयार कराकर बेच देते थे। अब इनसे चोरी किए और बेचे गए वाहनों की जानकारी जुटाई जाएगी। विशाल कश्यप और अन्य पकड़े गए लोग डीलर हैं। वह भी चोरी के वाहनों को बेचने का काम करते थे। विधायक का चुनाव लड़ चुका है विशाल कश्यप, उपेंद्र था चेयरमैन मुजफ्फरनगर के रहने वाले विशाल कश्यप ने बताया कि वह 2012 में रालोद के टिकट पर कैराना विधानसभा से विधायक का चुनाव लड़ चुका है। चुनाव में हार गया था। वहीं एसएसपी ने बताया कि उपेंद्र उर्फ नीटू वर्ष 2004 में लालूखेड़ी सहकारी समिति का चेयरमैन रह चुका है। 1999 में वह हरिद्वार से आर्म्स एक्ट के तहत जेल जा चुका है। बुलंदशहर का रहने वाला अनिल यादव नोएडा में एसी का काम करता है। सीओ सेकेंड आतिश कुमार सिंह ने बताया कि पकड़े गए चोर ऐसे वाहनों को चुराते थे, जिनकी डिमांड होती थी। चोरों का कहना है कि फिलहाल मार्केट में क्रेटा, ब्रेजा, स्विफ्ट और फॉरच्यूनर गाड़ी की डिमांड है। ऐसे में वह इन्हीं कारों को चोरी करते थे। एक कार को वह वास्तविक कीमत से दो-ढाई लाख रुपये कम में बेच देते थे। पांच ब्रेजा कार, एक क्रेटा कार, एक फॉरच्यूनर, दो स्विफ्ट, एक स्विफ्ट डिजायर, चार रॉयल इनफील्ड बाइक। इनमें से पुलिस ने चार कारों को कनेक्ट कर लिया है, अन्य वाहनों के मालिकों से संपर्क करने का प्रयास किया जा रहा है।


Madhu Dheer

Madhu Dheer

undefined Contributors help bring you the latest news around you.


Share it
Top
To Top