Select location to see news around that location.Select Location

मानवता हुई शर्मसार, बुजुर्ग बहन के साथ दरिंदगी की सारी हदें पार

मानवता हुई शर्मसार, बुजुर्ग बहन के साथ दरिंदगी की सारी हदें पार

दिल्ली- दिल्ली के रोहिणी इलाके में एक भाई मानवता की सारी हदें तोड़कर अपनी बुजुर्ग बहन को दो साल तक घर की छत पर कैद में रखा। आलम यह था कि पीड़िता को चार दिन में रोटी दी जाती थी। इस कारण वह हड्डियों का ढांचा मात्र रह गई है। छत पर महिला मल के बीच रखा गया था। दिल्ली महिला आयोग ने पुलिस की मदद से उस महिला को आजाद कराया है। पुलिस ने एफआईआर दर्ज कर ली है। बताया जा रहा है कि पीड़िता की दिमागी हालत ठीक नहीं है। दिल्ली महिला आयोग को 181 महिला हेल्पलाइन पर सूचना मिली कि एक महिला को घर में कैद कर रखा गया है। आयोग की टीम जब पहुंची तो घर में मौजूद भाई की पत्नी ने गेट खोलने से मना कर दिया। इतना ही टीम को गालियां भी दी गई। इसके बाद सूचना पर पहुंची पुलिस साथ के महिला आयोग की टीम फिर घर पर पहुंची तो गेट खोलने से मना कर दिया गया। इसके बाद पुलिस टीम को लेकर पड़ोसी की छत से पीड़िता के पास पहुंची। छत पर महिला की हालत देखकर हर कोई सन्न रह गया। 50 वर्षीय महिला की हालत खराब थी। उसे खुले में छत पर रखा गया था। चारों तरफ मल फैला हुआ था। उसे अंबेडकर अस्पताल में भर्ती कराया गया। बुजुर्ग महिला के दूसरे भाई ने आयोग को बताया कि उनकी बहन की मानसिक स्थिति ठीक नहीं है। पहले वह अपनी मां के साथ उनके घर पर ही रहती थी। मां के निधन के बाद वह छोटे भाई के साथ रहने लगी। बड़े भाई का कहना है कि उनका छोटा भाई बहन का ठीक से ध्यान नहीं रखता था। बहन के साथ भाई का पूरा परिवार अमानवीय व्यवहार करता था। छोटा भाई किसी को भी बहन से मिलने नहीं देता था। दिल्ली महिला आयोग अध्यक्ष स्वाति मालीवाल व आयोग की सदस्य किरण नेगी ने अस्पताल जाकर 50 वर्षीय महिला से मुलाकात की। स्वाति ने कहा कि महिला को बेहद अमानवीय तरीके से रखा गया था। उन्होंने कहा कि महिला के भाई और उसकी पत्नी को तुरंत गिरफ्तार किया जाना चाहिए। उन्होंने अपील की है कि यदि किसी को अपने आसपास ऐसी घटना दिखे तो वह तुरंत इसकी सूचना आयोग को दें।


Madhu Dheer

Madhu Dheer

undefined Contributors help bring you the latest news around you.


Share it
Top
To Top