कपिल शर्मा शो में गोविंदा ने भरी पत्नी टीना आहूजा की मांग हरियाणा में विपक्ष को चुनौती देते मोदी, कहा दम है तो वापस लाके दिखाओ 370 आलिया भट्ट-रणबीर कपूर की शादी पर चर्चा, भड़कीं कंगना रनौत की बहन BCCI के नए अध्यक्ष बने सौरव गांगुली स्मिथ के करीब पहुंचे कोहली आईसीसी टेस्ट रैंकिंग में कौन हैं अभिजीत बनर्जी Housefull4 के प्रमोशन में लगे अक्षय कुमार ने शेयर किया एक और पोस्टर KBC11: में बिहार के गौतम कुमार ने जीते एक करोड़ रुपए फिल्म वॉर : 256.25 करोड़ रुपये की धांसू कमाई ग्रीस की 24 मीटर चौड़ी और 6 किमी लंबी कैनाल से बिना टकराए गुजरा 22.5 मीटर चौड़ा पानी का जहाज प्लास्टिक कचरे से बने दुनिया के सबसे बड़े चरखे का अनावरण IND vs RSA :- शमी ने मुथुसामी को आउट किया, भारत जीत से 3 विकेट दूर PM मोदी की भतीजी का पर्स छीनने वाले दो शातिर गिरफ्तार केंद्रीय मंत्री और बिहार बीजेपी के नेता गिरिराज सिंह पर बनेगी फिल्म दुनिया का सबसे सुखी मुसलमान भारत में ही मलेगा : मोहन भागवत बिग बॉस -13 का पहले एलिमिनेशन में कंटेस्टेंट बहार सैफ ने रेस 3 में न होने का खोला राज़ माँ वैष्णो देवी के दर्शन कर लौट रहे श्रद्धालुओं को बस ने कुचला क्यूँ बर्थडे सेलिब्रेट नहीं करेंगे अमिताभ बच्चन ? बताई वजह, अमेरिका: खुफिया जानकारी लीक करने के जुर्म में इंटेलिजेंस कर्मचारी गिरफ्तार

मध्यप्रदेश: उज्जैन में अवैध जमीन पर बने होटल को बम से उड़ाया

Khushboo Diwakar 04-07-2019 16:45:54



मध्यप्रदेश के उज्जैन में बुधवार को एक बहुमंजिला होटल बम से विस्फोट कर उड़ा दिया गया. होटल की बहुमंजिला इमारत चंद मिनटों में ताश के पत्ते की तरह भरभराकर गिर पड़ी. बम धमाके को लेकर ज्यादा दिमाग ना लगाइए, विस्फोट प्रशासन ने ही कराया.

दरअसल मामला यह है कि महाकाल की नगरी उज्जैन में अवैध जमीन पर बने एक होटल को जमींदोज करने का आदेश हाई कोर्ट की डबल बेंच ने दिया था. उज्जैन के सबसे बड़े और आलीशान होटलों में से एक शांति पैलेस का निर्माण अवैध जमीन पर किए जाने की शिकायत पर सुनवाई के बाद अदालत ने यह आदेश दिया था. अदालती आदेश के अनुपालन में ही पुलिस-प्रशासन ने यह कार्रवाई की.

पिलरों में लगाए विस्फोटक, फिर किया विस्फोट

इंदौर के ब्लास्ट एक्सपर्ट शरद सरवटे ने होटल शांति पैलेस और क्लार्क्स-इन के पिलरों में पहले विस्फोटक लगाए, फिर विस्फोट किया गया. विस्फोट के बाद चमचमाता भवन चंद मिनटों में धराशायी हो गया. जानकारी के अनुसार इस होटल को कॉलोनी के लिए काटे गए प्लाट पर अवैध रूप से बनाया गया था.

करोड़ों की लागत से बना था सौ कमरों का होटल

इस होटल में सौ कमरे थे. इसके निर्माण पर अनुमानित लागत करोड़ों रुपये बताई जाती है. आरोपों के अनुसार तत्कालीन नगर निगम के अधिकारियों की मिलीभगत से उक्त होटल का निर्माण कराया गया था. निर्माण की वजह से होटल के निर्माण के समय किसी तरह का विवाद नहीं हुआ था.

मामला कोर्ट जाने के बाद हुआ एक मंजिल का निर्माण

होटल के अवैध जमीन पर निर्माण का मामला कोर्ट जाने के बाद मालिक ने एक मंजिल का और निर्माण कराया था. लंबी कानूनी प्रक्रिया के बीच हाई कोर्ट के स्टे के बावजूद होटल मालिक ने पुरानी इमारत के बाद एक और बहुमंजिला इमारत तान दी थी.

10 साल बाद आया फैसला

करीब 10 साल की कानूनी प्रक्रिया के बाद हाई कोर्ट की डबल बेंच ने इन दोनों इमारतों को तोड़ने का आदेश जारी किया. इसके बावजूद  उज्जैन नगर निगम ने  कार्रवाई में देरी की. माना जा रहा है कि  यह लेटलतीफी होटल मालिक को फायदा पहुंचाने के लिए की गई थी. जिससे वह हाई कोर्ट के आदेश को सुप्रीम कोर्ट में चुनौती दे सके. हालांकि सुप्रीम कोर्ट ने भी हाई कोर्ट के आदेश को भी यथावत रखा और होटल ना तोड़े जाने की याचिका को रद्द कर दिया!

Comments

Subscribe

Receive updates and latest news direct from our team. Simply enter your email below :