कोंडागांव के परेशान गांववालों ने बनाया जुगाड़ का पुल गाजियाबाद: सीवर लाइन की सफाई करने उतरे 5 सफाई कर्मियों की मौत पिछले 5 सालो में 56 गुना बड़ी देता खपत के साथ 22 गुना हुआ सस्ता कांग्रेस के वरिष्ठ नेता और पूर्व वित्त मंत्री पी चिंदबरम CBI के सवालों से घिरे टीम इंडिया को धमकी देने वाला शख्श को लिया गया हिरासत में जन्माष्टमी के बारे में जानें सबकुछ सेंसेक्स 669 अंक लुढ़क, निफ्टी 193 प्वाइंट गिरकर 10750 के साथ हुआ बंद चिदंबरम को लेजाया जा रहा कोर्ट, थोड़ी देर होगी पेशी पूर्व मुख्यमंत्री डॉ.जगन्नाथ मिश्रा के सम्मान में नहीं चली सलामी की एक भी बन्दुक सच्चे आशिक़ हीर-राँझा का मकबरा जांच एजेंसी के गेस्ट हाउस में रात गुजारने के बाद आज आज सीबीआई कोर्ट में पेश होंगे चिदंबरम स्कूलों की शिक्षा गुणवत्ता में सुधार लाने शिक्षकों को पढ़ाया जाएगा पाठ पी चिदंबरम की गिरफ्तारी पर भड़क रही कांग्रेस 1 सितम्बर से राशनकार्डों का वितरण शुरू 25 साल बाद पर्दे पर लौटेगी सलमान-आमिर की जोड़ी, ज्वॉइंट वेंचर होगी 'अंदाज अपना-अपना 2' तुगलकाबाद हिंसा में भीम आर्मी चीफ चन्द्रशेखर समेत 91 लोग गिरफ्तार, पैरामिलिट्री फोर्स तैनात सरकार द्वारा उत्पाद की गुणवत्ता पर सवाल उठाये जाने पर आर्डिनेंस फैक्ट्री के कर्मचारियों की हड़ताल अगले महीने से यूट्यूब करेगा इन फीचर्स को बंद, गूगल ने लिया हटाने का फैसला DJ बजाया तो भुगतना पड़ेगा भारी खामियाज़ा, इलाहाबाद हाई कोर्ट ने लगाई पाबंदी पेट्रोल और डीज़ल कीमतों में वृद्धि के खिलाफ कांग्रेस कार्यकर्ताओं का लखनऊ में प्रदर्शन

धरने पर बैठी प्रियंका से मिलने पहुंचे पीड़ित परिवार

सोनभद्र गोलीबारी में मारे गए लोगों के परिजनों से शनिवार को आखिरकार कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी ने मुलाकात की। बताया जा रहा है कि प्रशासन ने पीड़ित परिवार से प्रियंका गांधी की मुलाकात करवाई।

Deepak Chauhan 20-07-2019 11:51:34



उत्तर प्रदेश के सोनभद्र गोलीबारी में मारे गए लोगों के परिजनों से शनिवार को आखिरकार कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी ने मुलाकात की। बताया जा रहा है कि प्रशासन ने पीड़ित परिवार से प्रियंका गांधी की मुलाकात करवाई।  पीड़ितों के परिवार के लोग प्रियंका से मिलने गेस्ट हाउस के बाहर तक पहुंचे। जिसके बाद उन्हें गेट पर ही रोका गया। जब प्रियंका खुद मिलने जाने लगीं तो पुलिस ने उन्हें रोका दिया। इसके बाद पीड़ितों के परिजनों को अंदर बुलाने का आश्वासन दिया। बताया जा रहा है कि कुल 15 लोग सोनभद्र से प्रियंका से मिलने पहुंचे हैं।

आपको बता दें कि शुक्रवार की दोपहर प्रियंका गांधी को हिरासत में लिया गया था और वह पिछले 24 घण्टे बाद भी चुनार के गेस्ट हाउस में धरने पर बैठी हैं। प्रियंका बिना पीड़ितों के परिजनों से मुलाकात किये वापस जाने को तैयार नहीं थीं। देर रात अधिकारियों के साथ बैठक में उन्होंने अपना रुख कुछ लचीला भी किया था और पीड़ितों के परिजनों से कहीं भी मुलाकात को तैयार हो गई थीं लेकिन प्रशासन ने कोई आश्वासन नहीं दिया। 

प्रियंका को वाराणसी के ट्रामा सेंटर से निकलते ही नारायनपुर में हिरासत में ले लिया गया था। उन्हें एसडीएम की गाड़ी से चुनार किले के गेस्ट हाउस लाया गया और सोनभद्र के अलावा कहीं भी जाने की छूट दी गई। प्रियंका केवल सोनभद्र ही जाने और पीड़ितों के परिजनों से मिलने पर अड़ी रहीं। प्रियंका को मनाने के लिए देर रात करीब 11 बजे वाराणसी से एडीजी ब्रजभूषण और कमिश्नर दीपक अग्रवाल भी पहुंचे और दो दौर की बातचीत के बाद भी कोई नतीजा नहीं निकला। 


सुबह होते ही गेस्ट हाउस पर बढ़ने लगी भीड़

चुनार के जिस गेस्ट हाउस में प्रियंका गांधी को रखा गया है वहां रात भर कार्यकर्ताओं का भी जमावड़ा लगा रहा। रात भर गेस्ट हाउस पर भीड़ कुछ कम रही। सुबह होते ही एक बार फिर भीड़ बढ़ने लगी है। राज्यसभा सांसद पीएल पुनिया रात तीन बजे तक यहीं रहने के बाद सुबह सात बजे फिर पहुंच गए हैं।


रात तीन बजे प्रियंका को गेस्ट हाउस के पिछले दरवाजे पर देख अटकीं सांसें

चुनार किला स्थित गेस्ट हाउस में आधी रात के बाद प्रियंका गांधी को पिछले दरवाजे पर टहलते देख अधिकारियों की सांसें अटक गईं। एसडीएम मड़िहान के निर्देश पर तत्काल वहां फोर्स की तैनाती की गई और जवानों को विशेष निर्देश दिए गए। 

प्रियंका गांधी शुक्रवार की रात दो बजे तक कई दौर में अधिकारियों के साथ बैठक करती रहीं। पहले उन्हें मनाने मिर्ज़ापुर के एसपी और डीएम पहुंचे। कोई हल नहीं निकलने पर वाराणसी से एडीजी और कमिश्नर के साथ मिर्ज़ापुर के कमिश्नर और डीआईजी पहुंचे। चारों अधिकारियों के साथ दो दौर में रात एक बजे तक बैठक चलती रही। अधिकारियों के जाने के बाद प्रियंका अपने नेताओं से मिलती रहीं। रात ढाई बजे के बाद तक वह गेस्ट हाउस के कमरे में पीएल पुनिया से बातें करती रहीं। बातचीत के दौरान ही वह गेस्ट हाउस के पिछले दरवाजे से बाहर आकर टहलने लगीं। अभी तक इस गेट पर केवल एसपीजी के जवान ही तैनात थे। प्रियंका को पिछले गेट से निकलकर टहलते देख जिला प्रशासन के अधिकारियों के होश उड़ गए। एसडीएम मड़िहान सुरेंद्र बहादुर सिंह ने तत्काल वहां भी फोर्स की तैनाती कराई।


यह है मामला

17 जुलाई को सोनभद्र में घोरावल के उभ्भा गांव में 112 बीघा खेत के लिए दस ग्रामीणों को मौत के घाट उतार दिया गया था। लगभग चार करोड़ रुपए की कीमत की इस जमीन के लिए प्रधान और उसके पक्ष ने ग्रामीणों पर अंधाधुन फायरिंग कर दी थी। इस हादसे में 25 अन्य लोग घायल हो गए थे।


ऐसे हुई थी घटना

सोनभद्र में घोरावल के उम्भा गांव में 112 बीघा खेत जोतने के लिए गांव का प्रधान यज्ञदत्त गुर्जर 32 ट्रैक्टर लेकर पहुंचा था। इन ट्रैक्टरों पर लगभग 60 से 70 लोग सवार थे। यह लोग अपने साथ लाठी-डंडा, भाला-बल्लम और राइफल और बंदूक लेकर आए थे। गांव में पहुंचते ही इन लोगों ने ट्रैक्टरों से खेत जोतना शुरू कर दिया। जब ग्रामीणों ने विरोध किया तो यज्ञदत्त और उनके लोगों ने ग्रामीणों पर लाठी-डंडा, भाला-बल्लम के साथ ही राइफल और बंदूक से भी गोलियां चलानी शुरू कर दी।

Comments

Subscribe

Receive updates and latest news direct from our team. Simply enter your email below :