कपिल शर्मा शो में गोविंदा ने भरी पत्नी टीना आहूजा की मांग हरियाणा में विपक्ष को चुनौती देते मोदी, कहा दम है तो वापस लाके दिखाओ 370 आलिया भट्ट-रणबीर कपूर की शादी पर चर्चा, भड़कीं कंगना रनौत की बहन BCCI के नए अध्यक्ष बने सौरव गांगुली स्मिथ के करीब पहुंचे कोहली आईसीसी टेस्ट रैंकिंग में कौन हैं अभिजीत बनर्जी Housefull4 के प्रमोशन में लगे अक्षय कुमार ने शेयर किया एक और पोस्टर KBC11: में बिहार के गौतम कुमार ने जीते एक करोड़ रुपए फिल्म वॉर : 256.25 करोड़ रुपये की धांसू कमाई ग्रीस की 24 मीटर चौड़ी और 6 किमी लंबी कैनाल से बिना टकराए गुजरा 22.5 मीटर चौड़ा पानी का जहाज प्लास्टिक कचरे से बने दुनिया के सबसे बड़े चरखे का अनावरण IND vs RSA :- शमी ने मुथुसामी को आउट किया, भारत जीत से 3 विकेट दूर PM मोदी की भतीजी का पर्स छीनने वाले दो शातिर गिरफ्तार केंद्रीय मंत्री और बिहार बीजेपी के नेता गिरिराज सिंह पर बनेगी फिल्म दुनिया का सबसे सुखी मुसलमान भारत में ही मलेगा : मोहन भागवत बिग बॉस -13 का पहले एलिमिनेशन में कंटेस्टेंट बहार सैफ ने रेस 3 में न होने का खोला राज़ माँ वैष्णो देवी के दर्शन कर लौट रहे श्रद्धालुओं को बस ने कुचला क्यूँ बर्थडे सेलिब्रेट नहीं करेंगे अमिताभ बच्चन ? बताई वजह, अमेरिका: खुफिया जानकारी लीक करने के जुर्म में इंटेलिजेंस कर्मचारी गिरफ्तार

कुछ इस तरह का नजर आ रहा है युद्ध के बाद यमन

Deepak Chauhan 22-05-2019 13:13:24



संकट जब अत है तो इससे होने वाले घातक परिणामों ने लोग अवगत नहीं होते है। परन्तु ये बात सही है की संकट किसी भी तरह का हो वे कभी भी अपने परिणाम अच्छे नहीं देता। बात अगर किसी देश पर आये युद्ध संकट की तो इसके तो नतीजे और भी ज्यादा विनाशकारी हो जाते है। देश में युद्ध के बाद कई ऐसे परिणाम देखे जा चुके जो किसी भी व्यक्ति को अंदरतक झंझोड़ने के लिए काफी होता है। आज भी एक जगह पर ऐसे ही कुछ परिणाम सामने आये। 

2014 के बाद से, यमन के लोग एक गृहयुद्ध के बीच में फंस गए हैं, जिसने संयुक्त राष्ट्र का कहना है कि दुनिया में सबसे खराब मानवीय संकट है। सत्ता संघर्ष राष्ट्रपति अब्दराबुह मंसूर हादी और सशस्त्र हौथी आंदोलन के बीच है, जो अब यमन के सबसे बड़े शहर सना को नियंत्रित करता है। हादी को सऊदी अरब के नेतृत्व वाले गठबंधन से काफी सैन्य समर्थन मिला है, जिसने यमन पर कई हवाई हमले किए हैं और देश में भोजन और अन्य आपूर्ति को अवरुद्ध किया है।

हिंसा के कारण 80 प्रतिशत यमनियों को मानवीय सहायता की आवश्यकता हुई है, देश के 29 मिलियन नागरिकों में से 18 को सुरक्षित पीने के पानी तक पहुंच की कमी है। यह बताने के लिए कि संकट कितना विनाशकारी है, रेड क्रॉस (ICRC) की अंतर्राष्ट्रीय समिति और छह युवा यमनी फ़ोटोग्राफ़रों के एक समूह के साथ भागीदारी की, जो अपने-अपने समुदायों पर संघर्ष के भयानक प्रभाव को बढ़ा रहे हैं।

फोटोग्राफर अली अल सोनिकर प्राचीन शहर सना में बड़े हुए और सामूहिक के सदस्य हैं। उन्होंने शहर के प्रसिद्ध स्मारकों और अद्भुत वास्तुकला को देखने के लिए आने वाले दुनिया भर से पर्यटकों को कैप्चर करके फोटोग्राफी के लिए अपने जुनून को विकसित किया।

28 वर्षीय कहते हैं, "मैं चाहता था कि मेरी फोटोग्राफी मानवीय हो, एक संदेश दे और बदलाव के लिए प्रेरित हो।" "मैं ईमानदारी से शहर में पर्यटकों और आनंदमय क्षणों की तस्वीरें लेने के लिए वापस जाने की उम्मीद करता हूं। लेकिन अब यह असंभव है, क्योंकि किसी को युद्ध की कहानी बताने की जरूरत है।"

फ़ोटोग्राफ़र अली अल सोनिदर, अहमद अल बाशा, कर्रार अल-मय्यद, सालेह बहलिस, अब्दल्लाह अल जरादी और खालिद अल थरूर की तस्वीरें शामिल है। 

Comments

Subscribe

Receive updates and latest news direct from our team. Simply enter your email below :