कोंडागांव के परेशान गांववालों ने बनाया जुगाड़ का पुल गाजियाबाद: सीवर लाइन की सफाई करने उतरे 5 सफाई कर्मियों की मौत पिछले 5 सालो में 56 गुना बड़ी देता खपत के साथ 22 गुना हुआ सस्ता कांग्रेस के वरिष्ठ नेता और पूर्व वित्त मंत्री पी चिंदबरम CBI के सवालों से घिरे टीम इंडिया को धमकी देने वाला शख्श को लिया गया हिरासत में जन्माष्टमी के बारे में जानें सबकुछ सेंसेक्स 669 अंक लुढ़क, निफ्टी 193 प्वाइंट गिरकर 10750 के साथ हुआ बंद चिदंबरम को लेजाया जा रहा कोर्ट, थोड़ी देर होगी पेशी पूर्व मुख्यमंत्री डॉ.जगन्नाथ मिश्रा के सम्मान में नहीं चली सलामी की एक भी बन्दुक सच्चे आशिक़ हीर-राँझा का मकबरा जांच एजेंसी के गेस्ट हाउस में रात गुजारने के बाद आज आज सीबीआई कोर्ट में पेश होंगे चिदंबरम स्कूलों की शिक्षा गुणवत्ता में सुधार लाने शिक्षकों को पढ़ाया जाएगा पाठ पी चिदंबरम की गिरफ्तारी पर भड़क रही कांग्रेस 1 सितम्बर से राशनकार्डों का वितरण शुरू 25 साल बाद पर्दे पर लौटेगी सलमान-आमिर की जोड़ी, ज्वॉइंट वेंचर होगी 'अंदाज अपना-अपना 2' तुगलकाबाद हिंसा में भीम आर्मी चीफ चन्द्रशेखर समेत 91 लोग गिरफ्तार, पैरामिलिट्री फोर्स तैनात सरकार द्वारा उत्पाद की गुणवत्ता पर सवाल उठाये जाने पर आर्डिनेंस फैक्ट्री के कर्मचारियों की हड़ताल अगले महीने से यूट्यूब करेगा इन फीचर्स को बंद, गूगल ने लिया हटाने का फैसला DJ बजाया तो भुगतना पड़ेगा भारी खामियाज़ा, इलाहाबाद हाई कोर्ट ने लगाई पाबंदी पेट्रोल और डीज़ल कीमतों में वृद्धि के खिलाफ कांग्रेस कार्यकर्ताओं का लखनऊ में प्रदर्शन

यूएन रिपोर्ट: 9 साल में 16 फीसदी तक गिरा HIV के मामले

Khushboo 18-07-2019 11:40:08



  • 'यूएन एड्स’ संस्था ने 2010 से 2018 तक के आंकड़े जारी किए, दक्षिण अफ्रीका में मौत के आंकड़ों में सबसे ज्यादा गिरावट
  • रिपोर्ट के मुताबिक, गिरावट के बावजूद अब भी दक्षिण अफ्रीका सबसे ज्यादा एड्स प्रभावित देश
  • दुनियाभर में पिछले साल एचआईवी के 17 लाख नए मामले बढ़े लेकिन इससे होने वाली मौतों की संख्या में 2010 से अब तक 16 फीसदी की गिरावट आई है। मंगलवार को जारी संयुक्त राष्ट्र की हालिया रिपोर्ट में यह जानकारी सामने आई है। रिपोर्ट के मुताबिक, मौतों की संख्या में सबसे ज्यादा कमी साउथ अफ्रीका में आई है। पिछले 9 सालों में अब तक यहां 40 फीसदी तक संक्रमण और मौतें रोकने में सफलता मिली है।

    सबसे ज्यादा नए मामले यूरोप और एशिया में

    1. 2018 के मुकाबले 33 फीसदी मौतें घटी

      रिपोर्ट के मुताबिक, एड्स से होने वाली मौतों का आंकड़ा गिर रहा है क्योंकि अब इलाज मुहैया कराने की जद्दोजहद की जा रही है। एचआईवी और टीबी के मामलों को रोकने की कोशिश जारी है। ‘यूएन एड्स’ संस्था के मुताबिक एचआईवी के कारण होने वाली मौतों की संख्या घटकर पिछले साल 7,70,000 हो गई, जो साल 2010 के मुकाबले तकरीबन 33 फीसदी घटी है।

    2. रिपोर्ट के मुताबिक, पूर्वी और दक्षिणी अफ्रीका अभी भी सर्वाधिक एचआईवी प्रभावित क्षेत्र हैं। सबसे ज्यादा चिंता करने वाली बात पूर्वी यूरोप और एशिया के लिए है, यहां एड्स के नए मामले तेजी से सामने आ रहे हैं। सेंट्रल एशिया में 29 फीसदी और मध्य एशिया में 10 फीसदी नए मामले सामने आए हैं। वहीं, दक्षिणी अफ्रीका में 10 फीसदी और लेटिन अमेरिका में यह आंकड़ा 7 फीसदी है।

    3. ‘यूएन एड्स’ की वार्षिक रिपोर्ट के मुताबिक, फिलहाल दुनियाभर में करीब 3.79 करोड़ लोग एचआईवी से संक्रमित हैं। इनमें से 2.33 करोड़ लोगों को ही ‘एंटी रेट्रोवाइरल’ थेरेपी मिल पा रही है। 2018 में 95 फीसदी नए मामलों का कारण ड्रग इंजेक्शन, समलैंगिक पुरुष, ट्रांसजेंडर, सेक्स वर्कर और कैदियों को बताया गया है। एचआईवी इंफेक्शन के ऐसे नए मामले ज्यादातर पूर्वी यूरोप, सेंट्रल-मध्य एशिया और नॉर्थ अफ्रीका में देखे गए हैं। दुनियाभर के आधे से अधिक देशों में 50 फीसदी आबादी इसकी रोकथाम के लिए प्रोटेक्शन का इस्तेमाल कर रही है।

    4. 1990 के दशक के मध्य में एड्स ने भयंकर महामारी का रूप ले लिया था। तब से इस रोग की रोकथाम के लिए संयुक्त राष्ट्र समेत दुनिया की तमाम एजेंसियों ने युद्ध स्तर पर प्रयास शुरू किए। हालिया रिपोर्ट में यह भी बताया गया है कि साल 2017 में इस रोग से आठ लाख लोग मारे गए थे जो पिछले साल घटकर सात लाख सत्तर हजार हो गए।

    5. एड्स खत्म करने के लिए राजनैतिक नेतृत्व की जरूरत

      ‘यूएन एड्स’ संस्था के एग्जीक्यूटिव डायरेक्टर गुनीला कार्लसन का कहना है, एड्स को खत्म करने के लिए हमे राजनैतिक नेतृत्व की जरूरत है। इंसानों पर फोकस करने की जरूरत है न कि बीमारी पर। एक व्यवस्थित योजना बनाकर पिछड़े लोगों को आगे लाने की जरूरत है। एचआईवी से प्रभावित लोगों तक पहुंचने के लिए मानवाधिकार-आधारित तरीका अपनाएं।

Comments

Subscribe

Receive updates and latest news direct from our team. Simply enter your email below :