16 साल के प्यार या दोस्ती पर बोली कटरीना पाक को चेतावनी देते हुए राजनाथ ने कहा 1965 और 71 की गलती दोहराई तो कर देंगे खंड-खंड इस सवाल पर उड़ा सोनाक्षी सिन्हा का मजाक प्याज़ की कीमते हुई ज्यादा आम आदमी भी परेशान फीस को लेकर MeToo पर बोलीं कृति सेनन बेहतरीन कलाकारों से बनी साधारण फिल्म परस्थानम कॉपीराइट इश्यूज के चलते सोशल मीडिया से ड्रीम गर्ल का गाना डिलीट भारत की पहली प्राइवेट ट्रेन की बुकिंग हुई शुरू सभा सम्बोधित करते हुए 370 पर बोले अमित शाह : एक देश में दो विधान, दो निशान और 2 प्रधान नहीं चलेंगे कुछ इस हाल में है महाराष्ट्र की बड़ी पार्टिया यूपी और उत्तराखंड में कैनबिस रिसर्च को सरकार की मंजूरी कमांडो की गाड़ी पर फायरिंग कर बदमाश हुए फरार चिन्मयानन्द केस में रेप पीड़िता भी हो सकती है गिरफ्तार विश्व कुश्ती चैम्पियनशिप के फाइनल से हटे दीपक पुनिया चोट रही कारण 'हाउडी मोदी' कार्यक्रम में हिस्सा लेने के लिए मोदी ने तोडा प्रोटोकॉल '' प्रिय चाची, चिंता मत करो : बाबुल सुप्रियो Elections Updates: 21 अक्टूबर को महाराष्ट्र और हरियाणा में वोटिंग अमेरिका: चीनी टूरिस्टों को ले जा रही बस हादसे का शिकार 3199 मीटर की ऊंचाई पर स्तिथ सरेउल झील पर्यटकों के आकर्षण का है केंद्र सोने की कीमतों में गिरावट जारी

भरवां पराठा बनाना भूल गए

Administrator 30-04-2019 21:55:43



अरुण कुमार पानीबाबा 

उत्तर भारत में से पंजाब को अलग अंचल मान लें तो शेष इलाके (पश्चिमी उत्तर प्रदेश, राजस्थान बुंदेलखंड वगैरा) में शाम के भोजन में पराठा खाने की परंपरा रही है. राजस्थान के कुछ इलाकों में इस पराठे को टिकड़ा भी कहा जाता है. ऐसा टिकड़ा मोठ या चने का आटा मिला कर बनाया जाता है.

हाल में गुजरे वक्तों तक दिल्ली शहरी समाज के परिवारों में शाम के भोजन में पांच छह किस्म के पराठे लगभग अनिवार्य जैसे ही हुआ करते थे. गेहूं के सादे और गेहू, चना के मिस्से या बेझड़ (गेहूं+जौं+चना) के पराठे तो साल भर नियमित रूप से खाये जाते थे बाकी समय मौसम के अनुसार जैसे सर्दियों में मक्का, बाजरी के पराठे और मेथी. बथवे के शाक युक्त पराठो का चलन था.

कुल मिलाकर हिसाब लगायें तो देश भर में कम से कम सौ किस्म के पराठों का चलन तो अवश्य सूचीबद्ध किया जा सकता है. अपनी अनेक महत्वांक्षाओं में एक इच्छा यह हुआ करती थी कि समाजवादी आंदोलन के वित्तीय सहयोग के लिए कलकत्ता, बंबई जैसे बड़े शहरों में पराठा-शतक नाम की दुकानें या ढाबे खुलवा देंगे. हम इस कल्पना को साकार करते उसके पहले ही समाजवादी आंदोलन न जाने कब गंगा की बाढ़ में बह गया.

दो एक बरस पुरानी बात है दिल्ली की जामा मस्जिद की तरफ जाना हुआ था. वहां देखा की दिल्ली के बावर्ची अंडे का भरवां पराठा बनाने की विधि ही भूल गये है. जहां तक हमें याद है, 1960 के दशक तक दरीबें से चित्तली कब्र तक आठ दस बावर्ची तो अवश्य दिखाई देते थे जो दुहरी तह के पराठे का मुंह चिमटे और चाकू की मदद से खोल कर अंडे-प्याज, हरि मिर्च का घोल पराठे में भर देते और खस्ता पराठा सेंका करते थे. सब प्रकृति की माया है अब तो न कद्रदान बचे है और न ही बनाने वाले.


Comments

Replied by foo-bar@example.com at 2019-04-29 05:54:37

Subscribe

Receive updates and latest news direct from our team. Simply enter your email below :