फ्लिकार्ट के सहसंस्थापक बिन्नी बंसल के 531 करोड़ में बिके शेयर सीमेंट फैक्ट्री से होता है सबसे ज्यादा AIR POLUTION दिल्ली में 24 घंटो के अंदर पाई गई 9 हत्या केस : अरविंद केजरीवाल ने केंद्र पर उठाया सवाल प्लेन में सोने के बाद जब नींद खुली तो चारो तरफ अँधेरा पाया ईरान से सीधी जंग से यूँ पीछे हट रहा है अमेरिका नाबालिक भाई ने ली नवविवाहित बहन की जान ग्रेटर नोएडा में हुआ एनकाउंटर, STF ने मरी 3 लोगो को गोली वोडाफोन अपने नये प्लान के साथ JIO को दे रहा है टक्कर DELHI : 24 घंटे में 9 हत्या की वारदात रायपुर के शंकर नगर रेल्वे ओव्हर ब्रिज शुरू देश के सबसे बड़े आर्थिक संकट को मनमोहन ही थे हटाने वाले कर्नाटक विधानसभा में पाए गई खुदकुशी की खबर बढ़ती जनसंख्या के मुद्दे पर राज्यसभा में बोली कांग्रेस देश-विदेश के काले धन का खुलासा HEALTH TIPS : गर्मियों में खीरे के लाभ जरुरत से ज्यादा की अपील तो भर रहे जुर्माना अलिया ने अपने रिलेशन को लेकर कहा - नज़र न लगे 18 दिनों तक प्रभावित रहेगी भारतीय रेल व्यवस्था kabir singh ने कमाए तीसरे दिन 62.40 करोड़ सेंसेक्स, निफ्टी के साथ शेयर बाजार में हुई बढ़त

भरवां पराठा बनाना भूल गए

Administrator 30-04-2019 21:55:43



अरुण कुमार पानीबाबा 

उत्तर भारत में से पंजाब को अलग अंचल मान लें तो शेष इलाके (पश्चिमी उत्तर प्रदेश, राजस्थान बुंदेलखंड वगैरा) में शाम के भोजन में पराठा खाने की परंपरा रही है. राजस्थान के कुछ इलाकों में इस पराठे को टिकड़ा भी कहा जाता है. ऐसा टिकड़ा मोठ या चने का आटा मिला कर बनाया जाता है.

हाल में गुजरे वक्तों तक दिल्ली शहरी समाज के परिवारों में शाम के भोजन में पांच छह किस्म के पराठे लगभग अनिवार्य जैसे ही हुआ करते थे. गेहूं के सादे और गेहू, चना के मिस्से या बेझड़ (गेहूं+जौं+चना) के पराठे तो साल भर नियमित रूप से खाये जाते थे बाकी समय मौसम के अनुसार जैसे सर्दियों में मक्का, बाजरी के पराठे और मेथी. बथवे के शाक युक्त पराठो का चलन था.

कुल मिलाकर हिसाब लगायें तो देश भर में कम से कम सौ किस्म के पराठों का चलन तो अवश्य सूचीबद्ध किया जा सकता है. अपनी अनेक महत्वांक्षाओं में एक इच्छा यह हुआ करती थी कि समाजवादी आंदोलन के वित्तीय सहयोग के लिए कलकत्ता, बंबई जैसे बड़े शहरों में पराठा-शतक नाम की दुकानें या ढाबे खुलवा देंगे. हम इस कल्पना को साकार करते उसके पहले ही समाजवादी आंदोलन न जाने कब गंगा की बाढ़ में बह गया.

दो एक बरस पुरानी बात है दिल्ली की जामा मस्जिद की तरफ जाना हुआ था. वहां देखा की दिल्ली के बावर्ची अंडे का भरवां पराठा बनाने की विधि ही भूल गये है. जहां तक हमें याद है, 1960 के दशक तक दरीबें से चित्तली कब्र तक आठ दस बावर्ची तो अवश्य दिखाई देते थे जो दुहरी तह के पराठे का मुंह चिमटे और चाकू की मदद से खोल कर अंडे-प्याज, हरि मिर्च का घोल पराठे में भर देते और खस्ता पराठा सेंका करते थे. सब प्रकृति की माया है अब तो न कद्रदान बचे है और न ही बनाने वाले.


Share On Facebook

Comments

Replied by foo-bar@example.com at 2019-04-29 05:54:37

Subscribe

Receive updates and latest news direct from our team. Simply enter your email below :