कोंडागांव के परेशान गांववालों ने बनाया जुगाड़ का पुल गाजियाबाद: सीवर लाइन की सफाई करने उतरे 5 सफाई कर्मियों की मौत पिछले 5 सालो में 56 गुना बड़ी देता खपत के साथ 22 गुना हुआ सस्ता कांग्रेस के वरिष्ठ नेता और पूर्व वित्त मंत्री पी चिंदबरम CBI के सवालों से घिरे टीम इंडिया को धमकी देने वाला शख्श को लिया गया हिरासत में जन्माष्टमी के बारे में जानें सबकुछ सेंसेक्स 669 अंक लुढ़क, निफ्टी 193 प्वाइंट गिरकर 10750 के साथ हुआ बंद चिदंबरम को लेजाया जा रहा कोर्ट, थोड़ी देर होगी पेशी पूर्व मुख्यमंत्री डॉ.जगन्नाथ मिश्रा के सम्मान में नहीं चली सलामी की एक भी बन्दुक सच्चे आशिक़ हीर-राँझा का मकबरा जांच एजेंसी के गेस्ट हाउस में रात गुजारने के बाद आज आज सीबीआई कोर्ट में पेश होंगे चिदंबरम स्कूलों की शिक्षा गुणवत्ता में सुधार लाने शिक्षकों को पढ़ाया जाएगा पाठ पी चिदंबरम की गिरफ्तारी पर भड़क रही कांग्रेस 1 सितम्बर से राशनकार्डों का वितरण शुरू 25 साल बाद पर्दे पर लौटेगी सलमान-आमिर की जोड़ी, ज्वॉइंट वेंचर होगी 'अंदाज अपना-अपना 2' तुगलकाबाद हिंसा में भीम आर्मी चीफ चन्द्रशेखर समेत 91 लोग गिरफ्तार, पैरामिलिट्री फोर्स तैनात सरकार द्वारा उत्पाद की गुणवत्ता पर सवाल उठाये जाने पर आर्डिनेंस फैक्ट्री के कर्मचारियों की हड़ताल अगले महीने से यूट्यूब करेगा इन फीचर्स को बंद, गूगल ने लिया हटाने का फैसला DJ बजाया तो भुगतना पड़ेगा भारी खामियाज़ा, इलाहाबाद हाई कोर्ट ने लगाई पाबंदी पेट्रोल और डीज़ल कीमतों में वृद्धि के खिलाफ कांग्रेस कार्यकर्ताओं का लखनऊ में प्रदर्शन

पहले सूखे से परेशान थे, अब बाढ़ से जूझ रहे हैं ये राज्य

Khushboo 17-07-2019 16:01:07



हैरत होती है प्रकृति के बदलते तेवर देख कर. अभी डेढ़ महीने पहले जिन राज्यों में सूखा था अब वहीं पर बाढ़ आई हुई है. ड्रॉट अर्ली वॉर्निंग सिस्टम (DEWS) की मानें तो 14 जुलाई तक देश का 41.41 फीसदी हिस्सा सूखाग्रस्त है. जबकि, एक महीने पहले यानी 14 जून को देश का 45.11 प्रतिशत इलाका सूखे की चपेट में था. यह सब हुआ मॉनसून के देरी से आने की वजह से. भारतीय मौसम विभाग की मानें तो 65 सालों में दूसरी बार ऐसा हुआ है कि भारत में मॉनसून आने से पहले इतना भयावह सूखा पड़ा. मार्च से मई के बीच सिर्फ 99 मिमी बारिश हुई है. यानी सामान्य से 23 फीसदी कम बारिश.

ड़ेढ-दो महीने पहले बिहार, महाराष्ट्र, राजस्थान, आंध्र प्रदेश, तमिलनाडु, पुड्डूचेरी, गुजरात, कर्नाटक, तेलंगाना, झारखंड, उत्तर प्रदेश, छत्तीसगढ़ और ओडिशा सूखे और गर्मी से परेशान थे. यानी देश के 13 राज्यों की करीब 42 फीसदी आबादी इस प्राकृतिक आपदा से संघर्ष कर रही थी. लेकिन मौसम बदलने के साथ ही इनमें से कई राज्यों में नई मुसीबत आन पड़ी. इस मुसीबत का नाम है बाढ़.

बाढ़ से पानी-पानी हुए देश के कई राज्य

बिहार, महाराष्ट्र, उत्तर प्रदेश में पहले सूखा पड़ा, अब बाढ़ के हालात हैं. वहीं, तमिलनाडु, पुड्डुचेरी में भारी बारिश हो रही है. बिहार-असम और पूर्वोत्तर के कई राज्यों में बाढ़ से अब तक 50 से ज्यादा लोगों की मौत हो चुकी है. करीब 70 लाख से ज्यादा लोग बाढ़ की वजह से प्रभावित हैं. उत्तर प्रदेश के कई जिलों में नदियों का जलस्तर खतरे के निशान के ऊपर पहुंच गया है. इसकी वजह से राज्य के कई इलाके बाढ़ की चपेट में आ गए हैं.

उत्तराखंड में भारी बारिश से कई जिलों में लोगों का जनजीवन अस्त-व्यस्त हो गया है. राज्य में ऑरेंज अलर्ट जारी है. 15 जुलाई को भूस्खलन से गंगोत्री हाईवे बाधित रहा. चारधाम यात्रा रूट और इससे लगे इलाकों में बारिश विपदा बनकर टूट रही है. बारिश से सड़क बंद होने के साथ ही भूस्खलन, भू-धंसाव, कटाव, नदी के ऊफान जैसी घटनाएं बढ़ने लगी हैं.

सूखे का सबसे बड़ा उदाहरण बना चेन्नई, चेरापूंजी

2015 में चेन्नई में भयानक बाढ़ आई थी. लेकिन इस बार गर्मी में 1.10 करोड़ लोगों को पानी की किल्लत से जूझना पड़ा. चार में से तीन जलस्रोत सूख गए. लाखों लोगों की प्यास बुझाने के लिए पानी के टैंकर्स और ट्रेन का सहारा लेना पड़ा. दुनिया का सबसे ज्यादा गीला कहे जाना वाला इलाका चेरापूंजी में पिछले कुछ सालों से सर्दियों के मौसम में सूखा पड़ रहा है. दिल्ली और बेंगलुरु में तो अगले साल तक भूजल खत्म होने की चेतावनी दी गई है.


Comments

Subscribe

Receive updates and latest news direct from our team. Simply enter your email below :