आवाज़ नहीं जीती जागती मिस्साल है साहिल कुछ इस तरह है करवाचौथ की तैयारी करवा चौथ के इस सीन से हिट हुई ये पांच फिल्में वॉर ने किया 250 करोड़ का आंकड़ा पार चिदंबरम की जमानत पर अब कल होगी सुनवाई अयोध्या केस : सिर्फ मुस्लिम पक्ष से ही पूछताछ पर कोर्ट बवाल ? परिवार के 5 सदस्यों को लेकर खाई में गिरी कार 7 की मौत 90 लाख से पड़ा दिल का दूर : पीएमसी 370 पर श्रीनगर में प्रदर्शन मोहिना ने की कैबिनेट के बेटे से शादी जानिये कितनी फीस लेते है कपिल शर्मा 1 एपिसोड की जानिए किस मुद्दे पर बरसे शाह कपिल शर्मा शो में गोविंदा ने भरी पत्नी टीना आहूजा की मांग हरियाणा में विपक्ष को चुनौती देते मोदी, कहा दम है तो वापस लाके दिखाओ 370 आलिया भट्ट-रणबीर कपूर की शादी पर चर्चा, भड़कीं कंगना रनौत की बहन BCCI के नए अध्यक्ष बने सौरव गांगुली स्मिथ के करीब पहुंचे कोहली आईसीसी टेस्ट रैंकिंग में कौन हैं अभिजीत बनर्जी Housefull4 के प्रमोशन में लगे अक्षय कुमार ने शेयर किया एक और पोस्टर KBC11: में बिहार के गौतम कुमार ने जीते एक करोड़ रुपए

क्यों नहीं रोक पा रहा सऊदी अरब खुद पर हमला

अमरीकी राष्ट्रपति डोनल्ड ट्रंप ने सऊदी अरब की सरकारी तेल कंपनी अरामको के ठिकानों पर ड्रोन हमले को लेकर कड़ी प्रतिक्रिया दी है. ट्रंप ने कहा कि जिसने हमला किया है उसके बारे में उन्हें पता है. अमरीकी राष्ट्रपति ने कहा कि जवाबी कार्रवाई इसकी पुष्टि के बाद की

Sakshi Dobriyal 16-09-2019 15:43:18



ट्रंप ने इतनी आक्रामक भाषा का इस्तेमाल जून में किया था जब उन्होंने ईरान पर हमले की योजना को टाल दिया था. तब ईरान ने अमरीकी ड्रोन को मार गिराया था. शनिवार को सऊदी के सबसे अहम तेल ठिकानों पर हमला हुआ जिससे वैश्विक तेल आपूर्ति में पाँच फ़ीसदी आपूर्ति बाधित हो गई है. इस हमले की ज़िम्मेदारी यमन के हूती विद्रोहियों ने ली है लेकिन इन्हें ईरान का समर्थन हासिल रहा है.

हमले के एक दिन बाद अमरीका के विदेश मंत्री माइक पॉम्पियो ने ईरान को इसके लिए ज़िम्मेदार ठहराया था. उन्होंने कहा था कि इसके कोई सबूत नहीं हैं कि हमला यमन से हुआ है. इससे पहले ये कहा जा रहा था कि अमरीकी अमरीका में कहा जा रहा है कि सऊदी के जिन तेल ठिकानों को निशाने पर लिया गया है, उससे लगता नहीं है कि हमला यमन से हुआ है. कहा जा रहा है हमला शायद इराक़ या ईरान की तरफ़ से हुआ है. सीएनएन से अमरीकी अधिकारियों ने कहा है कि हमले में सऊदी के 19 ठिकाने प्रभावित हुए हैं और ये 10 ड्रोन से संभव नहीं है. हूती ने दावा किया था कि हमले के लिए 10 ड्रोन भेजे थे. सीएनएन से उस अधिकारी ने कहा, ''आप 10 ड्रोन से 10 ठिकानों के निशाने पर नहीं ले सकते.''

सीएनएन से अधिकारियों ने सैटेलाइट इमेज साझा किया है. इसके ज़रिये कहा जा रहा है, ''सारे ठिकाने उत्तर-पश्चिम के प्रभावित हुए हैं जो कि यमन से निशाना बनाना बहुत मुश्किल है.''

ट्रंप प्रशासन का मानना है कि ड्रोन ईरान या इराक़ से आए लेकिन इसे आधिकारिक तौर पर नहीं कहा जा रहा है. सीएनएन के सैन्य विशेषज्ञ रिटायर्ड कर्नल सेड्रिक लीगटन ने कहा, ''यह बहुत रणनीतिक हमला है. इसे इस तरह से प्लान किया गया कि रडार की पकड़ में ड्रोन नहीं आए. जिन ठिकानों को निशाने पर लिया गया, वो काफ़ी अहम हैं. यह कोई सरकार ही कर सकती है न कि विद्रोही समूह. ये ड्रोन या तो ईरान से आए या इराक़ से.''

Comments

Subscribe

Receive updates and latest news direct from our team. Simply enter your email below :