बजट पेशकश से पहले निर्मला सीतारमण की सभी राज्यों के वित्त मंत्रियों के साथ बैठक दुनिया की सबसे बड़ी गन मार्केट में आज चलती है बड़ी लाइब्रेरी कांग्रेस पार्टी को रास नहीं आया राष्ट्रपति का भाषण, कही ये बात इस वर्ल्ड कप में OPPO दिखाया Reno 10x Zoom के कैमरे का दम बाबा साहेब अंबडेकर मेमोरियल सोसाइटी के अध्यक्ष ने लगायी फांसी 6 सांसद जिनके पदोन्नति के साथ रुतबा हुआ कम मैं खुद नहीं चुनूंगा अपना उत्तराधिकारी पार्टी खुद चुने अगला अध्यक्ष माँ की डाट के बाद 9 वीं कक्षा की छात्रा ने छोड़ा घर , लखनऊ मेल में मिली छात्रा इस वर्ल्ड कप में टीम इंडिया पर चढ़ेगा भगवा रंग मेरा स्टैंड अभी भी वही है, राफेल विमान सौदे में चोरी हुई है: राहुल गाँधी एएन-32 एयरक्राफ्ट के सर्च ऑपरेशन में 6 शव बरामद Big Boss के चाहने वालों के लिए अच्छी खबर, इस तारीख से शुरु हो रहा है शो ये है क्रिकेट का उच्च पड़ाव जहाँ 11 की बजाये 30 प्लेयर करते है फील्डिंग कोर्ट ने खारिज की प्रज्ञा ठाकुर की पेशी से परमानेंट छूट की अर्ज़ी अपने स्टैंड पर अटल राहुल गाँधी कहा राफेल में हुआ था घपला किसानों के लिए अच्छी खबर, सीधा संम्मान निधि योजना से कटेंगे पैसे क्या आपका Gmail अकाउंट हैक हो गया है ? ऐसे करें रिकवर ICC worldcup 2019 : धवन की जगह पंत खेलेंगे मैच , चोट लगने की वजह से हुए बाहर ट्रैफिक नियमों को तोड़ने पर दोगुना करेगी जुर्माना मोदी सरकार दिमाग तेज़ करने के लिए किन-किन चीज़ो का करे सेवन

मोंटी चड्ढा दिल्ली एयरपोर्ट से हुआ गिरफ्तार विदेश भागने की था फिराक में

Deepak Chauhan 13-06-2019 11:51:14



नोएडा में लोगों का पैसा लेकर उन्‍हें फ्लैट उपलब्‍ध ना कराने के आरोप में दिल्‍ली पुलिस की आर्थिक अपराध शाखा ने शराब कारोबारी पोंटी चड्ढा के बिल्‍डर बेटे मनप्रीत उर्फ मोंटी चड्ढा को गिरफ्तार किया है. उसे आज अदालत में पेश किया जाएगा. उस पर बिल्‍डर बनकर लोगों को फ्लैट न उपलब्‍ध कराने और उनसे धोखाधड़ी के आरोपों के बाद गिरफ्तार किया गया है. बता दें कि गाजियाबाद और नोएडा में फ्लैट बुक कराने के बाद भी लोगों को उनके फ्लैट न मिलने से वे कई महीनों से परेशान हैं. इसे लेकर उन्‍होंने कई बार धरना-प्रदर्शन भी किया है.

दिल्ली पुलिस की आर्थिक अपराध शाखा ने नामी शराब कारोबारी और बिल्डर पोंटी चड्डा के बेटे मोंटी उर्फ मनप्रीत सिंह चड्डा को दिल्ली के इंदिरा गांधी इंटरनेशनल एयरपोर्ट से गिरफ्तार कर लिया है. वो थाईलैंड जाने की फिराक में था. 

मोंटी और उसके परिवार के कई लोगों और उसकी कंपनी के निदेशकों और कर्मचारियों के खिलाफ दिल्ली पुलिस ने 2018 में 100 करोड़ से ज्यादा की ठगी के आरोप में केस दर्ज किया था. दरअसल 2005-06 में चड्डा परिवार गाज़ियाबाद में बड़ी टाउनशिप बनाने के लिए वेवसिटी नाम का एक बड़ा प्रोजेक्ट लेकर आया. ग्राहकों से बताया गया कि ये 1500 एकड़ में फैला होगा. इसमें स्कूल, स्‍वीमिंग पूल, क्लब, अस्पताल और हेलिपैड जैसी सभी आधुनिक सुविधाएं होंगी.

ये भी कहा गया कि प्लॉट का कब्‍जा 8 महीने में जबकि घर 18 महीने के अंदर मिल जाएगा. सैकड़ों लोगों ने इस सपनों के शहर में घर पाने के लिए करोड़ों रुपये दे दिए. कंपनी की तरफ से कहा गया कि सरकार ने प्रोजेक्ट को मंजूरी दे दी है और मास्टर प्लान भी बनकर तैयार है. लेकिन 2011 तक जब वहां कोई निर्माण कार्य नहीं हुआ तो लोगों ने मोंटी की कंपनी से जुड़े लोगों को घेरना शुरू किया. आरोप है कि कंपनी में बाउंसर रख लिए गए जिससे लोग किसी से मिल न पाएं

शिकायतकर्ताओं के मुताबिक आज भी जहां वेवसिटी बननी थी, वहां जानवर करते हैं और किसान खेती कर रहे हैं. पता चला है कि ऐसा कोई प्रोजेक्ट सरकार से अप्रूव ही नहीं हुआ है. एफआईआर में एम/एस उपल चड्ढा हाईटेक डेवलपर्स प्राइवेट लिमिटेड, हरमनदीप सिंह कंधारी, राजेन्द्र सिंह चड्ढा, मनप्रीत सिंह चड्ढा उर्फ मोंटी चड्ढा, गुरजीत सिंह कोचर और कृतिका गुप्ता को आरोपी बनाया गया है.

शिकायतकर्ता के मुताबिक गाजियाबाद डेवलपमेंट अथॉरिटी ने साल 2003 में हाईटेक सिटी डेवलेप करने के लिए एक योजना निकाली थी. इसमें प्राइवेट बिल्डर्स को निमंत्रण दिया गया था. इसके बाद साल 2005 में आरोपियों ने अपनी कंपनी उप्पल चड्ढा हाईटेक डेवलपर्स प्राइवेट लिमिटेड के नाम पर अखबारों में विज्ञापन दिए. हाईटेक टाउनशिप में अपने प्रोजेक्ट में बुकिंग के लिए डिस्काउंट ऑफर किए. इनके प्रोजेक्ट के नाम रोजवुड एन्क्लेव और सन्नीवुड एन्क्लेव, लाइम वुड एंक्लेव और क्रेस्ट वुड एनक्लेव थे, जोकि गाजियाबाद के सेक्टर 7, 15, 16 और 17 में बनने थे.

इन प्रोजेक्ट में 8 महीनों के अंदर प्लॉट दिए जाने का वादा किया गया था. लेकिन करीब 11 साल बाद भी 65 से 85 परसेंट रकम लेने के बाद कोई पोसेशन नही दिया गया. आरोपों के मुताबिक मोंटी चड्ढा ने इस तरह 100 करोड़ से भी ज्यादा की धोखाधड़ी की है. आरोपों के मुताबिक इस कंपनी के डायरेक्टर्स ने कुछ समय बाद ही बायर्स की मेहनत की कमाई को अपनी नई कंपनी एम/एस वेव सिटी एनएच 24 में ट्रांसफर कर दिया था.

बता दें कि शराब कारोबारी पोंटी चडढ़ा की 2012 में संपत्ति के विवाद में दिल्‍ली में गोली मारकर हत्‍याकर दी गई थी. उनके साथ उनके भाई हरदीप की भी हत्‍या की गई थी. दिल्ली के छतरपुर स्थित पॉन्टी के फॉर्महाउस में अचानक से चार-पांच हमलावर पहुंचे थे और वहां अंधाधुंध फायरिंग शुरू कर दी थी. यहां प्रॉपर्टी के बंटवारे को लेकर फार्म हाउस पर एक बैठक बुलाई गई थी.

Share On Facebook

Comments

Subscribe

Receive updates and latest news direct from our team. Simply enter your email below :