भाजपा सांसद प्रज्ञा ठाकुर के बयान पर ओवैसी का पलटवार कहा ये PM के अभियान को एक चुनौती धोनी नहीं लेंगे संन्यास टीम मैनेजमेंट नहीं चाहती टीम में खालीपन छत्तीसगढ़ से हज के लिए जाने वाले यात्रियों का हुआ स्वास्थ्य परीक्षण मुंबई के बांद्रा स्थित MTNL बिल्डिंग में लगी आग,मौके पर दमकल की 4 गाड़ियां चंद्रयान- 2 की हुई सफल लॉन्चिंग, पूरी दुनिया ने देखी भारत की तरक्की सोशल मीडिया पर प्रियंका चोपड़ा का स्मोकिंग करते हुए फोटो वायरल, यूजर्स ने जमकर किया ट्रोल नवोदय विद्यालय की छठीं कक्षा की छात्रा ने की ख़ुदकुशी, पिता ने जताया संदेह एम्स सहित सभी मेडिकल कॉलेज में प्रवेश के लिए केवल नीट परीक्षा अनिवार्य राष्ट्रीय राजमार्ग के सभी टोल प्लाजा पर जल्द ही बनेंगे फास्टैग लेन रेड लाइट जम्प कर मर्सिडीज ने दूसरी कार काे मारी टक्कर, कार में सवार PM के सुरक्षा जवान की मौत SC ने दिए बाबरी विध्वंस मामले में 9 महीने के अंदर फैसला सुनाने के आदेश 150 किमी प्रति घंटे की रफ़्तार से बॉलिंग करने वाले नवदीप सैनी टी-20 और वन डे टीम में चयन टीम इंडिया से खेलेंगे ये दो भाई दीपक चाहर और राहुल चाहर उत्तराखंड के 133 गांवों में पिछले 3 महीने नहीं पैदा हुई एक भी बेटी, जिला प्रशासन में मचा हड़कंप फैज़ाबाद के विश्वविद्यालय में दी जा रही है कृषि उत्पादन सम्बन्धी जागरूकता मोदी-योगी टी-शर्ट पहनकर कांवड़ ला रहे हैं शिवभक्त RBI के पूर्व गवर्नर रघुराम राजन बन सकते है IMF के नए मैनेजिंग डायरेक्टर यूपी और राजस्थान में रविवार रात बिजली गिरने से 36 लोगों की मौत 95% तक पानी की बर्बादी रोकने के लिए नल की बनाई टोंटी दिल्ली के किदवई भवन में लगी आग

अलीगढ़ से आगरा तक भाजपा की नीद हराम

Administrator 19-04-2019 16:49:30



धीरेंद्र श्रीवास्तव 

लखनऊ. पाकिस्तान-पाकिस्तान और या अली-बजरंग बली का नाम लेकर ध्रुवीकरण करने की कोशिश उत्तर प्रदेश के दूसरे चरण के मतदान में भी विफल रही. मतदान केंद्रों पर धर्म के आधार की जगह दल के आधार वाली गोलबंदी चौतरफा नज़र आई. इस गोलबंदी में भाजपाई एक तरफ तो दूसरी तरफ सपा, बसपा, रालोद के कार्यकर्ता गठबन्धन के उम्मीदवारों के के पक्ष में अधिक से अधिक मतदान कराने की कोशिश करते देखे गए तो कांग्रेसी अपनी तरफ. इसकी वजह से अलीगढ़, हाथरस, अमरोहा, नगीना, मथुरा बुलन्दशहर, फतेहपुर सीकरी और आगरा संसदीय क्षेत्रों में हुई वोटिंग में 62.30 फीसदी मतदान हुआ जो गत लोकसभा चुनाव से .43 फीसदी अधिक है. इस वृद्धि को लेकर भाजपा को भाजपा को मगन होना चाहिए लेकिन उनकी नीद उड़ी नज़र आ रही है.


पिछले  लोकसभा चुनाव में इस क्षेत्र में भाजपा के प्रति जबरदस्त उत्साह था जो हर सम्भव कोशिश के बाद भी इस बार नहीं दिखा. पार्टी के भीतर कोई खींचतान भी नहीं थी जो इस बार हर सीट पर रही. इस खींचतान की वजह से रमाशंकर कठेरिया जैसे वरिष्ठ और पार्टी के समर्पित नेता को आगरा से हटाना पड़ा. इसके बाद भी मतदान में वृद्धि का मतलब है, विपक्ष में उत्साह जो नीद उड़ने का मुख्य कारण है, लेकिन सार्वजनिक और अधिकृत तौर पर इसे मानने के लिए कोई भाजपाई तैयार नहीं है. जिसे देखिए वही बोल रहा है कि इस बार भी सभी आठो जीतेंगे.


भाजपा की इस बार उत्तर प्रदेश में हालत क्या है? इसे समझने के लिए दो उदाहरण काफी हैं. नम्बर एक-राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह को पार्टी के भीतर बिना लाग लपेट के कहना पड़ा कि सीट घटी तो मंत्री भी जाएंगे और मुख्यमंत्री भी. नम्बर दो- फ़िल्म अभिनेता धर्मेन्द्र कुमार ने मथुरा की एक सभा में कहना पड़ा कि वोट नहीं दिए तो पानी की टँकी पर चढ़ जायूँगा. यहाँ से सिने अभिनेत्री हेमा मालनी खुद उम्मीदवार हैं. इस स्थिति को समझने के बाद ही चुनाव को पूरी तरह से हिन्दू मुस्लिम करने की कोशिश हुई लेकिन सुप्रीम कोर्ट ने इसे संज्ञान में ले लिया. इसके बाद तो ढीला ढाला चुनाव आयोग भी सक्रिय हो गया. उसने मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को तीन दिन तथा पूर्व मुख्यमंत्री सुश्री मायावती व पूर्व मंत्री आजम खां को दो दो दिन के लिए चुनाव प्रचार से अलग कर दिया. 


इसे लेकर सुश्री मायावती ने कहा कि दलित और आज़म खान ने कहा कि मुसलमान होने की वजह से टारगेट किए जा रहे हैं. मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने इस रोक को पूजा के रूप में ग्रहण किया. उनकी पूजा को मीडिया ने जनजन तक पहुँचाने की कोशिश की. फिर भी धर्म के आधार पर ध्रुवीकरण नहीं हुआ. सपा, बसपा, रालोद के परम्परागत मतदाताओं की गोलबंदी कायम रही. 


इसलिए दूसरे चरण में भी लड़ाई सीधे सीधे भारतीय जनता पार्टी और गठबन्धन ( सपा, बसपा और रालोद )के बीच दिख रही है. इन दोनों के बीच से आगे निकलने के लिए कांग्रेस भी हाथ पांव मरती दिखी. दोनों प्रतिद्वंदियों के लोगबाग इस तीसरे की उपस्थिति को अपनी जीत का आधार मान रहे हैं. दावा करने में वह कांग्रेस भी पीछे नहीं हैं जिसके प्रदेश अध्यक्ष राजब्बर फतेहपुर सीकरी से से अपनी तकदीर आज़मा रहे हैं जिनका कुल आधार उनका सरल व्यवहार है. होगा क्या? यह तो 23 मई को पता चलेगा लेकिन इतना तो मतदान के रुझान से दिख रहा है कि सपा, बसपा और रालोद का गठबन्धन कमाल करेगा और कमल 2014 दोहराने से दूर है.

समाजवादी पार्टी इस स्थिति को पूरी तरह से गठबन्धन के पक्ष में मान रही है. सपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष श्री अखिलेश यादव ने इसे लेकर आज़मगढ़ में साफ साफ कहा कि गठबन्धन के पक्ष में दूसरे चरण में भी चौकाने वाला परिणाम आ रहा है. जनता ने परिवर्तन का मूड बना लिया है. उसने मान लिया है कि देश तभी बनेगा जब नई सरकार बनेगी, नया प्रधानमंत्री बनेगा.

Quotes

" "

Share On Facebook

Comments

Replied by foo-bar@example.com at 2019-04-29 05:54:32

Subscribe

Receive updates and latest news direct from our team. Simply enter your email below :