मोटर व्हीकल एक्ट: हवलदार शराब के नशे में वाहन चलाता मिला, ट्रैफिक पुलिस ने काटा 15 हजार का चालान जल्द ही दिल्ली-कटरा के बीच चलेगी देश की दूसरी वंदे भारत एक्सप्रेस IAS बना गली ब्वॉय,पायी 77वीं रैंक अब देहरादून निवासी घर बैठे कराएं वाहन की प्रदूषण जांच कश्मीर मैं होगा अब विकास का राज: PM मोदी बागपत: महिला सिपाही पर हमला बाघपत: करंट लगने से महिला की मौत BCCI के ACU चीफ ने दिया सुझाव, कहा मैच फिक्सिंग-सट्टेबाज को लीगल किया जाए अब लखनऊ के उबर ड्राइवर ने अपनी मधुर आवाज के साथ लोगों का ध्यान किया आकर्षित IND vs SA, 2nd टी 20 मैच में कुछ ऐसा होगा मोहाली का पिच DRDO का अनमैन्ड एरियल व्हीकल दुर्घटनाग्रस्त एक छोटी सी चिड़ियां ने सिखाई ज़िन्दगी की सीख PM मोदी के जन्मदिन पर नेताओं ने दी बधाई मुझे कश्मीर के लोगों की चिंता : गुलाम नबी आजाद बढ़ी मुश्क़िलों में गिरा लालू का परिवार IRCTC टेंडर घोटाला में 2 दिसंबर से सुनवाई क्यों नहीं रोक पा रहा सऊदी अरब खुद पर हमला सोशल मीडिया पर बटोरीं सुर्खियां PM मोदी की 8 ड्रेसिंग स्टाइल ने एक हफ्ते में 5 रुपए महंगा हो सकता है पेट्रोल दिल्ली में सरेआम लड़की का हाईवोल्टेज ड्रामा, ने बचाया हजारों का चालान बागपत: छपरौली के एक गांव में मजदूर की ईटों से पीट-पीट कर हत्या

रमज़ान का पाक माह और पंडित का रोज़ा

VIJAY 17-05-2019 02:44:47



लोकल न्यूज़ ऑफ़ इंडिया

कहते है कि इस्लाम का सबसे बड़ा अहम् हिस्सा  पाक रमज़ान का माह होता है जिसमे मुस्लिम रोज़ा रखते है पूरे दिन लगभग बिना पानी पिए कुछ खाये वैसे ऐसे व्रत का तो हिन्दुओ में भी ढेरो सारा उदाहरण है पर लगातार पूरे माह किसी भी धर्म में ऐसा कठिनाई से पालन करने वाला जिसमे की लार तक निगली ना जाती हो वो सिर्फ रमज़ान के पाक महीने में रोज़ा है बहरहाल इस बार का रोज़ा कुछ ख़ास हुआ मेरे जीवन में।  कई कारणों से कई अलग अलग वजहों के कारण हमेशा मैं लगभग मंदिर मस्जिद गुरुद्वारे व चर्च में जाता रहा हूँ तसल्ली हर जगह मिलती है एक जैसी ही जहां जाकर रूह नूरानी हो जाती है और आत्मा पाक।  इस बार मैंने रोज़ा रखने का मन बनाया हिम्मत करके पहले दिन का रोज़ा पूरा किया तो एहसास हुआ कि कैसी कठिनाईया रोज़ेदार रोजाना फेस करते होंगे अपने अपने कामो के साथ क्योकि ज्यादातर मुस्लिम या तो मैकेनिक है या अलग अलग कारीगरी के हुनर में लगे हुए है तो उनके  साथ साथ बिना खाये पिए रोज़ा एक कठिन ही है पर आज  दस दिन बीत गए और एक आदत सी बन गयी तो लग रहा है की ऊपर वाला रोज़ेदार को ताकत सही नीयत और अपने से लगा हुआ रखता है इस पाक माह में मुझे एक एहसास हुआ की मैं एक  शुकून की दुनिया में हूँ और ऊपर वाला मेरे पूरे खास रहमत बख्श रहा है पर जब लोगो का रिएक्शन देखा की एक पंडित ने रोज़ा रखा है तो मुझे अजीब सा लगा कि  क्या ईश्वर की इबादत करना धर्म परिवर्तन है क्या लोगो की सोच इतनी संकुचित हो गयी है कि  आज भगवान् के मजहबी तरीके से उनको तोला जा रहा है।  इस्लाम , हिंदुत्व क्रिस्टियन आज अपनी अपनी अलग अलग पैमाइशो में फंसकर शायद तबाही की तरफ ले जा रहे है जबकि सबकी दुनिया में ऊपर वाले ने अमन और शांति और लोगो की सेवा भाव का ही सन्देश दिया था। फिलहाल आज मैं मौज में हूँ एक पाक अनुभूति के साथ इस इबादत का मतलब भी साफ़ समझ आता है की धर्मगुरुओ ने क्यों इतने कठिन तरीके का पूरा माह रमज़ान का रोज़ा वाला तय किया  होगा पानी की बचत का शायद यह सबसे नायाब तरीका था और कारगर भी।
मैं शुक्रगुजार हूँ उपरवाले का कि  मुझे इतना हौसला दे रखा है कि  मैं उसकी खिदमत में कुछ अपना वक़्त दे पा रहा हूँ बस वो मुझे मेरे बुरे कर्मो से मुक्ति दे और सबका कल्याण करे मैं तो उसका हूँ ही सो मुझे क्या फिक्र।

Comments

Subscribe

Receive updates and latest news direct from our team. Simply enter your email below :