16 साल के प्यार या दोस्ती पर बोली कटरीना पाक को चेतावनी देते हुए राजनाथ ने कहा 1965 और 71 की गलती दोहराई तो कर देंगे खंड-खंड इस सवाल पर उड़ा सोनाक्षी सिन्हा का मजाक प्याज़ की कीमते हुई ज्यादा आम आदमी भी परेशान फीस को लेकर MeToo पर बोलीं कृति सेनन बेहतरीन कलाकारों से बनी साधारण फिल्म परस्थानम कॉपीराइट इश्यूज के चलते सोशल मीडिया से ड्रीम गर्ल का गाना डिलीट भारत की पहली प्राइवेट ट्रेन की बुकिंग हुई शुरू सभा सम्बोधित करते हुए 370 पर बोले अमित शाह : एक देश में दो विधान, दो निशान और 2 प्रधान नहीं चलेंगे कुछ इस हाल में है महाराष्ट्र की बड़ी पार्टिया यूपी और उत्तराखंड में कैनबिस रिसर्च को सरकार की मंजूरी कमांडो की गाड़ी पर फायरिंग कर बदमाश हुए फरार चिन्मयानन्द केस में रेप पीड़िता भी हो सकती है गिरफ्तार विश्व कुश्ती चैम्पियनशिप के फाइनल से हटे दीपक पुनिया चोट रही कारण 'हाउडी मोदी' कार्यक्रम में हिस्सा लेने के लिए मोदी ने तोडा प्रोटोकॉल '' प्रिय चाची, चिंता मत करो : बाबुल सुप्रियो Elections Updates: 21 अक्टूबर को महाराष्ट्र और हरियाणा में वोटिंग अमेरिका: चीनी टूरिस्टों को ले जा रही बस हादसे का शिकार 3199 मीटर की ऊंचाई पर स्तिथ सरेउल झील पर्यटकों के आकर्षण का है केंद्र सोने की कीमतों में गिरावट जारी

स्वच्छ भारत अभियान और SDMC का कचरे से भरा हुआ ट्रक

Shweta Chauhan 13-06-2019 16:18:11



भाजपा सरकार के कदम रखते ही गाँधी जी के सपने को सच करने की पहल स्वच्छ भारत अभियान के रूप में सामने निकल कर आई. सरकार के वो बड़े-बड़े वायदे और कर्मचारियों की लापरवाही ने तो जैसे बने बनाये सफल अभियान पर पानी ही फेर दिया। आखिर वादों की भी कोई सीमा होती है क्योंकि लोगों को ऐसे सपना दिखाना जो असलियत में कभी पुरे नहीं हो सकते एक माईने में जुर्म के ही समान है पर जनता जनार्दन कितनी भी चतुर चालाक और बुद्धिमता से पूर्ण हो कहीं न कहीं बड़े बड़े मुद्दों को अनदेखा कर ही देती है. आज के इस वाकया को ही देख लीजिये, SDMC का ट्रक कूड़े कचरे से लदकर अपनी मंज़िल की ओर जा ही रहा था की अचानक एक दुर्घटना घटी. ये घटना सामान्य लगे पर गंभीरता से विचार करें तो पुरे अभियान की पोल खोलकर रख देती है. दरअसल हुआ यूँ कि SDMC का वो ट्रक गीत बजाते हुए जा रहा था की हम बनाएंगे मिलकर दिल्ली को एक स्वच्छ शहर करेंगे सपना साकार, और ऊपर से लोग अपने अपने घरों की बालकनी से उस ट्रक में कूड़ा फेंके जा रहे थे फिर हुआ कुछ ऐसा की देखा नहीं कहीं वैसा। उस ट्रक के पीछे एक छेद था जो भी लोग उसमे कूड़े से भरी पोटली फेंक रहे थे वो खुद ब खुद वापस सड़क पर गिरता जा रहा था और आलम तो देखिये वो ट्रक अपनी ही धुन में मस्त चला ही जा रहा था. खैर ये गाँधी जी के स्वच्छता के सपने पर तो खरा नहीं उतर पाया पर उनकी इस बात को जरूर माना कि बन जाओ गाँधी जी के 3 बन्दर के समान न देखों कहीं न सुनों किसी न शब्दों का इस्तेमाल करो बस अपने ही धुन में मस्त कार्य करो.

सवाल न सरकार से करेंगे न कर्मचारी से सवाल तो जनता से है कि देखकर भी अनदेखा करना लोकतंत्र की किस नियम के तहत आता है? केवल वोट देना और सरकार को चुनना ही जनता का काम नहीं है जनता का काम है सरकार की योजनाओं और कार्यों का विश्लेषण करना ताकि अगली बार जब चुनाव हो तो आप सतर्क रहे. दूसरी सबसे जरुरी बात कि सरकार योजनाएं तो बना देगी पर उस योजना को जनता की बिना सहायता के पूरा ही नहीं किया जा सकता यदि आप उसमे सहयोगी नहीं होंगे तो आप उस योजना के सफल और असफल होने पर कोई सवाल नहीं उठा सकते क्योंकि भागीदारी से ही किसी भी लक्ष्य को पूरा किया जा सकता है. वो गाना तो आपने सुना ही होगा कंधो से कंधे मिलते है कदमो से क़दमों से मिलते है दरअसल ये टीम वर्क की उस भूमिका को दर्शाता है जो श्रोता केवल गीत समझकर सुना करते है. तो ये थी आज की सत्य घटना पर आधारित एक कहानी जो एक गंभीर विषय को जन्म देती है. 

Comments

Subscribe

Receive updates and latest news direct from our team. Simply enter your email below :