भाजपा सांसद प्रज्ञा ठाकुर के बयान पर ओवैसी का पलटवार कहा ये PM के अभियान को एक चुनौती धोनी नहीं लेंगे संन्यास टीम मैनेजमेंट नहीं चाहती टीम में खालीपन छत्तीसगढ़ से हज के लिए जाने वाले यात्रियों का हुआ स्वास्थ्य परीक्षण मुंबई के बांद्रा स्थित MTNL बिल्डिंग में लगी आग,मौके पर दमकल की 4 गाड़ियां चंद्रयान- 2 की हुई सफल लॉन्चिंग, पूरी दुनिया ने देखी भारत की तरक्की सोशल मीडिया पर प्रियंका चोपड़ा का स्मोकिंग करते हुए फोटो वायरल, यूजर्स ने जमकर किया ट्रोल नवोदय विद्यालय की छठीं कक्षा की छात्रा ने की ख़ुदकुशी, पिता ने जताया संदेह एम्स सहित सभी मेडिकल कॉलेज में प्रवेश के लिए केवल नीट परीक्षा अनिवार्य राष्ट्रीय राजमार्ग के सभी टोल प्लाजा पर जल्द ही बनेंगे फास्टैग लेन रेड लाइट जम्प कर मर्सिडीज ने दूसरी कार काे मारी टक्कर, कार में सवार PM के सुरक्षा जवान की मौत SC ने दिए बाबरी विध्वंस मामले में 9 महीने के अंदर फैसला सुनाने के आदेश 150 किमी प्रति घंटे की रफ़्तार से बॉलिंग करने वाले नवदीप सैनी टी-20 और वन डे टीम में चयन टीम इंडिया से खेलेंगे ये दो भाई दीपक चाहर और राहुल चाहर उत्तराखंड के 133 गांवों में पिछले 3 महीने नहीं पैदा हुई एक भी बेटी, जिला प्रशासन में मचा हड़कंप फैज़ाबाद के विश्वविद्यालय में दी जा रही है कृषि उत्पादन सम्बन्धी जागरूकता मोदी-योगी टी-शर्ट पहनकर कांवड़ ला रहे हैं शिवभक्त RBI के पूर्व गवर्नर रघुराम राजन बन सकते है IMF के नए मैनेजिंग डायरेक्टर यूपी और राजस्थान में रविवार रात बिजली गिरने से 36 लोगों की मौत 95% तक पानी की बर्बादी रोकने के लिए नल की बनाई टोंटी दिल्ली के किदवई भवन में लगी आग

लू से बचाव के ये है उपाय

Khushboo 14-05-2019 17:09:25




लू से बचने स्वास्थ्य विभाग सक्रिय
दवाईयों का पर्याप्त स्टॉक रखने के निर्देश
रायपुर: लगातार बढ़ रही गर्मी को देखते हुए स्वास्थ्य विभाग द्वारा लू से बचाव और इसके प्रबंधन के इंतजाम किए गए हैं। विभाग द्वारा प्रदेश के सभी मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारियों तथा सिविल सर्जन-सह-अस्पताल मुख्य अधीक्षकों को पत्र लिखकर लू से बचाव और उपचार के व्यापक प्रबंध करने के निर्देश दिए गए हैं। सभी अस्पतालों में दवाईयों का पर्याप्त स्टॉक रखने के साथ ही लू से बचने के लिए लोगों को जागरूक किया जा रहा है। विभाग द्वारा लू से बचाव, शरीर में पानी की कमी रोकने और गर्मियों में सेहत की देखभाल के लिए लोगों को लगातार जागरूक किया जा रहा है।

स्वास्थ्य विभाग ने राज्य के सभी अस्पतालों में ओ.आर.एस., आई.वी. फ्लूड्स (Intravenous Fluids) और जरूरी दवाईयों की पर्याप्त उपलब्धता सुनिश्चित करने के निर्देश दिए हैं। उप स्वास्थ्य केन्द्रों, प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्रों, सिविल अस्पतालों, सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्रों, जिला चिकित्सालयों तथा मेडिकल कॉलेज अस्पतालों में इनके पर्याप्त स्टॉक रखने कहा गया है। तेज धूप और ग्रीष्म ऋतु में होने वाली बीमारियों के इलाज के लिए सभी अस्पतालों में समुचित व्यवस्था सुनिश्चित करने के निर्देश दिए गए हैं। मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारियों तथा सिविल सर्जन-सह-अस्पताल मुख्य अधीक्षकों को सभी स्तरों पर गठित रैपिड रिस्पांस टीम को भी सक्रिय रखने कहा गया है।

लू से प्रभावित लोगों की जानकारी प्रतिदिन स्वास्थ्य संचालनालय को भेजने के भी निर्देश दिए गए हैं। स्वास्थ्य विभाग द्वारा लगातार लोगों को लू और डिहाइड्रेशन से बचाव के तरीकों, इसके लक्षणों एवं उपचार के बारे में शिक्षित और जागरूक किया जा रहा है। 

लू के लक्षण

सिर में भारीपन और दर्द लू के लक्षण हैं। तेज बुखार के साथ मुंह सूखना, चक्कर और उल्टी आना, कमजोरी के साथ बदन दर्द होना, शरीर का तापमान अधिक होने के बावजूद पसीना न आना, अधिक प्यास लगना एवं पेशाब कम आना, भूख कम लगना तथा बेहोश होना लू के लक्षणों में शामिल हैं।   

लू से बचाव के उपाय

लू लगने का मुख्य कारण तेज धूप और गर्मी में ज्यादा देर तक रहने से शरीर में पानी और नमक की कमी हो जाना है। लू से बचने के लिए धूप में निकलने से पहले सिर व कानों को कपड़े से अच्छी तरह बांध लें। पानी अधिक मात्रा में पीएं और अधिक समय तक धूप में न रहें। बहुत जरूरी न हों तो तेज धूप में घर से बाहर न निकलें। गर्मी के मौसम में नरम सूती के कपड़े पहनने चाहिए ताकि हवा और कपड़े पसीने को सोखते रहें।

शरीर से अधिक पसीना निकल रहा हो तो ओ.आर.एस. का घोल पीएं। धूप में चक्कर या मितली आने पर छायादार स्थान में आराम करें एवं ठंडा पानी या जूस, लस्सी, मठा आदि का सेवन करें। उल्टी, सरदर्द या तेज बुखार होने पर नजदीक के अस्पताल जाकर सलाह लें। प्रारंभिक सलाह के लिए नि:शुल्क 104 आरोग्य सेवा केन्द्र पर भी संपर्क कर सकते हैं।

लू का प्रारंभिक उपचार

बुखार से पीड़ित होने पर सिर पर ठंडे पानी की पट्टी लगाएं। ठंडा पानी या कच्चे आम का पना, जलजीरा जैसे पेय पदार्थ पिलाएं। पीड़ित व्यक्ति को पंखे के नीचे हवा में लिटाएं तथा शरीर पर ठंडे पानी का छिड़काव करते रहें। ओ.आर.एस. के पैकेट के लिए मितानिन या ए.एन.एम. से संपर्क करें। लू से प्रभावित होने पर पीड़ित को शीघ्र ही उपचार के लिए नजदीकी चिकित्सक के पास या अस्पताल लेकर जाएं।

Quotes

" "

Share On Facebook

Comments

Subscribe

Receive updates and latest news direct from our team. Simply enter your email below :