आवाज़ नहीं जीती जागती मिस्साल है साहिल कुछ इस तरह है करवाचौथ की तैयारी करवा चौथ के इस सीन से हिट हुई ये पांच फिल्में वॉर ने किया 250 करोड़ का आंकड़ा पार चिदंबरम की जमानत पर अब कल होगी सुनवाई अयोध्या केस : सिर्फ मुस्लिम पक्ष से ही पूछताछ पर कोर्ट बवाल ? परिवार के 5 सदस्यों को लेकर खाई में गिरी कार 7 की मौत 90 लाख से पड़ा दिल का दूर : पीएमसी 370 पर श्रीनगर में प्रदर्शन मोहिना ने की कैबिनेट के बेटे से शादी जानिये कितनी फीस लेते है कपिल शर्मा 1 एपिसोड की जानिए किस मुद्दे पर बरसे शाह कपिल शर्मा शो में गोविंदा ने भरी पत्नी टीना आहूजा की मांग हरियाणा में विपक्ष को चुनौती देते मोदी, कहा दम है तो वापस लाके दिखाओ 370 आलिया भट्ट-रणबीर कपूर की शादी पर चर्चा, भड़कीं कंगना रनौत की बहन BCCI के नए अध्यक्ष बने सौरव गांगुली स्मिथ के करीब पहुंचे कोहली आईसीसी टेस्ट रैंकिंग में कौन हैं अभिजीत बनर्जी Housefull4 के प्रमोशन में लगे अक्षय कुमार ने शेयर किया एक और पोस्टर KBC11: में बिहार के गौतम कुमार ने जीते एक करोड़ रुपए

पश्चिम बंगाल की आइशी घोष होंगी जेएनयू नई प्रेसीडेंट

पश्चिम बंगाल के छोटे से शहर दुर्गापुर से पढ़ने दिल्ली आई आइशी घोष अब जवाहरलाल नेहरू यूनिवर्सिटी (जेएनयू) छात्रसंघ की नई अध्यक्ष हैं. आइए, जानें उनका सफर व अन्य पदाधिकारियों के बारे में

Jyotsana Yadav 18-09-2019 13:25:23



पश्चिम बंगाल के छोटे से शहर दुर्गापुर से पढ़ने दिल्ली आई आइशीघोष अब जवाहरलाल नेहरू यूनिवर्सिटी (जेएनयू) छात्रसंघ की नई अध्यक्ष हैं. दौलतराम कॉलेज से पॉलिटिक्स की पढ़ाई करने के बाद फिलहाल वो जेएनयू के स्कूल ऑफ इंटरनेशनल स्टडीज से एमफिल की छात्रा हैं. यूनिवर्सिटी प्रशासन की ओर से छात्र हितों को लेकर लिए गए किसी भी निर्णय में खामी पाए जाने पर वो विरोध के सुर उठाती रही हैं. बीते दिनों एमबीए की 12 लाख रुपये तक बढ़ी फीस को लेकर वो भूख हड़ताल पर भी बैठी थीं.

 बातचीत में आइशी ने कहा कि जेएनयू ऐसा कैंपस है जो बराबरी के लिए जाना जाता है. यहां एक संगठन जहां पूरी तरह स्त्रीविरोधी मानसिकता वाला है तो वहीं कैंपस का मूल स्वभाव बराबरी है. यहां मुझे पूरे कैंपस ने सपोर्ट किया है. स्टूडेंट फेडरेशन ऑफ इंडिया संगठन से जुड़ी आइशी घोष की इस जीत को बहुत ऐतिहासिक माना जा रहा है. कैंपस में पूरे 13 साल बाद इस संगठन से कोई अध्यक्ष चुना गया है.

आइश कहती हैं कि ये जीत स्टूडेंट कम्युनिटी की है. आइशीने कहा कि वो यहां भविष्य में हॉस्टल और रीडिंग रूम का मुद्दा उठाएंगी. वो कहती हैं कि जेएनयू की अपनी संस्कृति है, आज जेएनयू में मेरे जैसी छोटे शहर से आई लड़की प्रेसीडेंट बनी है तो जरूर कुछ तो बात है इस कैंपस में. यहां हर तबके से आकर लोग पढ़ सकते हैं, साथ ही पहचान भी बना सकते हैं. लेकिन कुछ दिनों से कैंपस को प्राइवेटाइजेशन की ओर ले जाने की तैयारी चल रही है. हमारा अगला मुकाबला इसी व्यवस्था से होगा. अपने आगे के भविष्य के बारे में वो कहती हैं कि मैं जेएनयू के बाहर देश की राजनीति में भी जाना पसंद करूंगी. मुझे लगता है कि महिलाएं राजनीति के जरिये ही समाज में अपने लिए पल रही सोच को बदल सकती हैं

Comments

Subscribe

Receive updates and latest news direct from our team. Simply enter your email below :