आवाज़ नहीं जीती जागती मिस्साल है साहिल कुछ इस तरह है करवाचौथ की तैयारी करवा चौथ के इस सीन से हिट हुई ये पांच फिल्में वॉर ने किया 250 करोड़ का आंकड़ा पार चिदंबरम की जमानत पर अब कल होगी सुनवाई अयोध्या केस : सिर्फ मुस्लिम पक्ष से ही पूछताछ पर कोर्ट बवाल ? परिवार के 5 सदस्यों को लेकर खाई में गिरी कार 7 की मौत 90 लाख से पड़ा दिल का दूर : पीएमसी 370 पर श्रीनगर में प्रदर्शन मोहिना ने की कैबिनेट के बेटे से शादी जानिये कितनी फीस लेते है कपिल शर्मा 1 एपिसोड की जानिए किस मुद्दे पर बरसे शाह कपिल शर्मा शो में गोविंदा ने भरी पत्नी टीना आहूजा की मांग हरियाणा में विपक्ष को चुनौती देते मोदी, कहा दम है तो वापस लाके दिखाओ 370 आलिया भट्ट-रणबीर कपूर की शादी पर चर्चा, भड़कीं कंगना रनौत की बहन BCCI के नए अध्यक्ष बने सौरव गांगुली स्मिथ के करीब पहुंचे कोहली आईसीसी टेस्ट रैंकिंग में कौन हैं अभिजीत बनर्जी Housefull4 के प्रमोशन में लगे अक्षय कुमार ने शेयर किया एक और पोस्टर KBC11: में बिहार के गौतम कुमार ने जीते एक करोड़ रुपए

बेहतरीन कलाकारों से बनी साधारण फिल्म परस्थानम

जब संजय दत्त जैकी श्रॉफ, मनीषा कोईराला, चंकी पांडे जैसे दिग्गज कलाकार एक ही पोस्टर पर नजर आएं तो जाहिर है फिल्म प्रेमियों को उस फिल्म का इंतजार बेसब्री से रहता है। यह कहानी है बल्लीपुर के विधायक बलदेव सिंह और उसके परिवार की

Sakshi Dobriyal 22-09-2019 15:09:16



इस परिवार में दबंग नेता बलदेव सिंह( संजय दत्त), उनकी पत्नी सरोज( मनीषा कोइराला), उनका बेटा आयुष (अली फजल) और छोटा बेटा विवान ( सत्यजीत दुबे) है। कुल मिलाकर प्रस्थानम एक साधारण फिल्म है। अगर आप संजय दत्तकुल मिलाकर प्रस्थानम एक साधारण फिल्म है। अगर आप संजय दत्त और दूसरे कलाकारों के जबरदस्त फैन हैं तो आप यह फिल्म देखने जा सकते हैं। वरना अगले हफ्ते का इंतजार करेंसरोज परिवार का शक्ति केंद्र है। उसकी बात खुद बलदेव सिंह भी नहीं टाल सकते। बड़ा बेटा आयुष नैतिक मूल्यों का समर्थक है। काफी लोकप्रिय भी छोटा बेटा विवाह बिगड़ैल रईसजादा है। बात-बात पर हाथापाई लड़ाई-झगड़ा उसके लिए बड़ी आम बात है!

इलेक्शन का दौर है। वोटों का समीकरण, चुनावी भाषण, अपोजिशन का सेटलमेंट, यह सारा हाई वोल्टेज पॉलिटिकल ड्रामा साथ-साथ चल रहा है और इसके बीच इस परिवार के आपसी तनाव और उलझे हुए रिश्ते यही मूल विषय है फिल्म प्रस्थानम का। निर्देशक देवा कट्टा की फ़िल्म की विषय-वस्तु तो बहुत रोचक है मगर लेखन विभाग ने गड़बड़ कर दी!

इतने सारे किरदारों को दर्शकों से रूबरू कराने में पूरा पहला हाफ चला गया। सच्ची कहानी शुरू होती है इंटरवल के बाद। तब तक दर्शक ऊब गया होता है! बलदेव सिंह और आयुष के किरदारों को छोड़कर बाकी सारे किरदार सही लिखने के अभाव में बेमानी साबित होते हैं। अभिनय की अगर बात करें तो संजय दत्त, मनीषा कोईराला, जैकी श्रॉफ, चंकी पांडेय, अली फजल और सत्यदेव दुबे जैसे कलाकारों ने अपने-अपने किरदारों के साथ पूरी तरह न्याय किया है, लेकिन निर्देशक मनीषा कोईराला, जैकी श्रॉफ, चंकी पांडेय, अमायरा दस्तूर जैसे कलाकारों के साथ पूर्ण न्याय नहीं किया है। इनके किरदार कब आते हैं, कब चले जाते हैं, समझ में नहीं आता


Publish Date:Fri, 20 Sep 2019 04:16 PM (IST)
Prassthanam Movie Review: बेहतरीन कलाकारों से सजी एक साधारण फ़िल्म, जानिए मिले कितने स्टार
Prassthanam Movie Review इलेक्शन का दौर है फोटो का समीकरण चुनावी भाषण गौरी अपोजिशन का सेटलमेंट यह सारा हाई वोल्टेज पॉलिटिकल ड्रामा साथ साथ चल रहा है।

मोदी सरकार - 2.0 के 100 दिन

पराग छापेकर, मुंबई। जब संजय दत्त जैकी श्रॉफ, मनीषा कोईराला, चंकी पांडे जैसे दिग्गज कलाकार एक ही पोस्टर पर नजर आएं तो जाहिर है फिल्म प्रेमियों को उस फिल्म का इंतजार बेसब्री से रहता है। यह कहानी है बल्लीपुर के विधायक बलदेव सिंह और उसके परिवार की।

इस परिवार में दबंग नेता बलदेव सिंह( संजय दत्त), उनकी पत्नी सरोज( मनीषा कोइराला), उनका बेटा आयुष (अली फजल) और छोटा बेटा विवान ( सत्यजीत दुबे) है। सरोज परिवार का शक्ति केंद्र है। उसकी बात खुद बलदेव सिंह भी नहीं टाल सकते। बड़ा बेटा आयुष नैतिक मूल्यों का समर्थक है। काफी लोकप्रिय भी छोटा बेटा विवाह बिगड़ैल रईसजादा है। बात-बात पर हाथापाई लड़ाई-झगड़ा उसके लिए बड़ी आम बात है!

इलेक्शन का दौर है। वोटों का समीकरण, चुनावी भाषण, अपोजिशन का सेटलमेंट, यह सारा हाई वोल्टेज पॉलिटिकल ड्रामा साथ-साथ चल रहा है और इसके बीच इस परिवार के आपसी तनाव और उलझे हुए रिश्ते यही मूल विषय है फिल्म प्रस्थानम का। निर्देशक देवा कट्टा की फ़िल्म की विषय-वस्तु तो बहुत रोचक है मगर लेखन विभाग ने गड़बड़ कर दी!

इतने सारे किरदारों को दर्शकों से रूबरू कराने में पूरा पहला हाफ चला गया। सच्ची कहानी शुरू होती है इंटरवल के बाद। तब तक दर्शक ऊब गया होता है! बलदेव सिंह और आयुष के किरदारों को छोड़कर बाकी सारे किरदार सही लिखने के अभाव में बेमानी साबित होते हैं। अभिनय की अगर बात करें तो संजय दत्त, मनीषा कोईराला, जैकी श्रॉफ, चंकी पांडेय, अली फजल और सत्यदेव दुबे जैसे कलाकारों ने अपने-अपने किरदारों के साथ पूरी तरह न्याय किया है, लेकिन निर्देशक मनीषा कोईराला, जैकी श्रॉफ, चंकी पांडेय, अमायरा दस्तूर जैसे कलाकारों के साथ पूर्ण न्याय नहीं किया है। इनके किरदार कब आते हैं, कब चले जाते हैं, समझ में नहीं आता।



Comments

Subscribe

Receive updates and latest news direct from our team. Simply enter your email below :