कोंडागांव के परेशान गांववालों ने बनाया जुगाड़ का पुल गाजियाबाद: सीवर लाइन की सफाई करने उतरे 5 सफाई कर्मियों की मौत पिछले 5 सालो में 56 गुना बड़ी देता खपत के साथ 22 गुना हुआ सस्ता कांग्रेस के वरिष्ठ नेता और पूर्व वित्त मंत्री पी चिंदबरम CBI के सवालों से घिरे टीम इंडिया को धमकी देने वाला शख्श को लिया गया हिरासत में जन्माष्टमी के बारे में जानें सबकुछ सेंसेक्स 669 अंक लुढ़क, निफ्टी 193 प्वाइंट गिरकर 10750 के साथ हुआ बंद चिदंबरम को लेजाया जा रहा कोर्ट, थोड़ी देर होगी पेशी पूर्व मुख्यमंत्री डॉ.जगन्नाथ मिश्रा के सम्मान में नहीं चली सलामी की एक भी बन्दुक सच्चे आशिक़ हीर-राँझा का मकबरा जांच एजेंसी के गेस्ट हाउस में रात गुजारने के बाद आज आज सीबीआई कोर्ट में पेश होंगे चिदंबरम स्कूलों की शिक्षा गुणवत्ता में सुधार लाने शिक्षकों को पढ़ाया जाएगा पाठ पी चिदंबरम की गिरफ्तारी पर भड़क रही कांग्रेस 1 सितम्बर से राशनकार्डों का वितरण शुरू 25 साल बाद पर्दे पर लौटेगी सलमान-आमिर की जोड़ी, ज्वॉइंट वेंचर होगी 'अंदाज अपना-अपना 2' तुगलकाबाद हिंसा में भीम आर्मी चीफ चन्द्रशेखर समेत 91 लोग गिरफ्तार, पैरामिलिट्री फोर्स तैनात सरकार द्वारा उत्पाद की गुणवत्ता पर सवाल उठाये जाने पर आर्डिनेंस फैक्ट्री के कर्मचारियों की हड़ताल अगले महीने से यूट्यूब करेगा इन फीचर्स को बंद, गूगल ने लिया हटाने का फैसला DJ बजाया तो भुगतना पड़ेगा भारी खामियाज़ा, इलाहाबाद हाई कोर्ट ने लगाई पाबंदी पेट्रोल और डीज़ल कीमतों में वृद्धि के खिलाफ कांग्रेस कार्यकर्ताओं का लखनऊ में प्रदर्शन

सूखी झील की खुदाई के बाद निकल आए नंदी, लोग मान रहे शिव का चमत्कार

Khushboo 19-07-2019 16:26:58



कर्नाटक के मैसूर में एक सूखी झील की खुदाई के बाद वहां से भगवान शिव की सवारी माने जाने वाले नंदी बैल की सैकड़ों साल पुरानी प्रतिमा मिली है जो स्थानीय लोगों के बीच चर्चा का विषय बन गया है. खुदाई के बाद नंदी की बेहद पुरानी प्रतिमा की तस्वीरें सोशल मीडिया पर तेजी से वायरल हो रही हैं.
मैसूर से करीब 20 किलोमीटर दूर अरासिनाकेरे में जब एक सूखी हुई झील की खुदाई की गई तो लोग नंदी की विराट प्रतिमा देखकर हैरान रह गए. यहां नंदी बैल की एक नहीं बल्कि दो मूर्ति पाई गई हैं. रिपोर्ट के मुताबिक इन प्रतिमाओं को ढूंढने का काम खुद स्थानीय लोगों ने ही किया है.
सैकड़ों साल पुरानी इन प्रतिमाओं को लेकर सोशल मीडिया पर दावा किया जा रहा है कि अरासिनाकेरे के बुजुर्ग झील में नंदी की मूर्ति होने की बात किया करते थे और जब झील में पानी कम होता था तो नंदी का सिर नजर आता था. बुजुर्गों की इन्हीं बातों पर भरोसा कर इस बार झील सूखने के बाद स्थानीय लोगों ने खुदाई शुरू कर दी ताकि सच्चाई का पता लगाया जा सके.
स्थानीय रिपोर्ट के मुताबिक नंदी की इस प्रतिमा को ढूंढने के लिए गांव वालों को तीन से चार दिनों तक लगातार खुदाई करनी पड़ी, जिसमें जेसीबी मशीन की भी मदद ली गई. अब नंदी बैल की इन मूर्तियों को बाहर निकाल लिया गया है. 
इस खबर के सोशल मीडिया पर वायरल होते ही पुरातत्व विभाग के अधिकारी भी मौके पर जांच करने पहुंचे. नंदी की प्राचीन प्रतिमाओं को लेकर दावा किया जा रहा है कि ये 16वीं  या 17 वीं शताब्दी की हो सकती हैं. लोग इसे सावन महीने में भगवान शिव से भी जोड़कर देख रहे हैं. 









Comments

Subscribe

Receive updates and latest news direct from our team. Simply enter your email below :