95% तक पानी की बर्बादी रोकने के लिए नल की बनाई टोंटी दिल्ली के किदवई भवन में लगी आग कांग्रेस की वरिष्ठ नेता और दिल्ली की पूर्व मुख्यमंत्री शीला दीक्षित का 81 की उम्र में निधन हरिद्वार में 23 से 30 जुलाई तक सभी शिक्षण संस्थान रहेंग बंद रोती बिलखती औरतों से मिल भावुक हुई कांग्रेस महासचिव प्रियंका गाँधी निष्काम का अर्थ काम से रहित होना नहीं बल्कि उसमे छिपे स्वार्थ से मुक्त होकर कार्य करना है सिद्धार्थ तैमूर अली खान को करना चाहते किडनैप क्यों छोड़ रहे है करण पटेल 'ये है मोहब्बतें' HARYANA : किशोरी को अगवा कर ले गए दिल्ली इलाहाबाद हाई कोर्ट ने तेज़ बहादुर की याचिका पर जारी किया प्रधानमन्त्री नरेंद्र मोदी को नोटिस अनोखा रिवाज़: पातालेश्वर शिव मंदिर में शिवलिंग पर लोग चढ़ाते हैं झाड़ू राज्यपाल की नियुक्तियां जारी, उत्तर प्रदेश से आनंदीबेन और मध्य प्रदेश से लालजी टंडन को बनाया गवर्नर NIA कर रही है पूरे देश में आतंकवाद की सफाई, 14 जगहों पर टेरर फंडिंग के मामले में छापेमारी सलमान खान ने की नच बलिए की जबरदस्त ओपनिंग समाजवादी पार्टी के नेता आज़म खान की मुश्किलें बढ़ी, किसानों की ज़मीन कब्जाने के मामले में दर्ज FIR शनिदेव के साथ करें हनुमान की पूजा, मिलेंगे ये फायदे धरने पर बैठी प्रियंका से मिलने पहुंचे पीड़ित परिवार CM भूपेश बघेल की अध्यक्षता में लिए गए ऐतिहासिक फैसला आज से 'कृषक ऋण माफी तिहार' का आयोजन दुनिया के सबसे अधिक प्रशंसित भारतीय है नरेंद्र मोदी, जानिये और कौन है इस लिस्ट में शामिल

ये है क्रिकेट का उच्च पड़ाव जहाँ 11 की बजाये 30 प्लेयर करते है फील्डिंग

Deepak Chauhan 20-06-2019 15:48:24



क्रिकेट वर्ल्ड कप-2019 के जरिए आईसीसी क्रिकेट को दुनिया के अलग-अलग देशों में, अनछुए कोनों में पहुंचाने की मुहिम शुरू कर चुका है। लेकिन एशिया का ये सर्वाधिक लोकप्रिय खेल कई ऐसे कोनों में अनोखे अंदाज में खेला जा रहा है, जिसके बारे में तो खुद आईसीसी को भी नहीं पता होगा।

वेस्टइंडीज के पापुआ न्यू गिनी के पास है- ट्रोब्रियांड आईलैंड। ये आदिवासियों का आईलैंड हैं। जनसंख्या करीब एक हजार है। आईलैंड का फेवरेट खेल क्रिकेट है। करीब 129 साल से यहां के आदिवासी क्रिकेट खेलते और समझते आ रहे हैं। इन्हें देखेंगे तो बिल्कुल गली-कूचों में खेले जाने वाले गली क्रिकेट जैसा दिखेगा, लेकिन ये उससे कई मायनों में अलग है। इन आदिवासियों को तो ये भी नहीं पता कि वे जो खेल खेलते हैं, वो उनकी बिरादरी से बाहर भी दुनिया में कहीं खेला जाता है, वो भी इतने बड़े स्तर पर।


ये आदिवासी हिंसक या आक्रामक नहीं हैं

अब जब दुनिया में क्रिकेट का सबसे बड़ा टूर्नामेंट वर्ल्ड कप चल रहा है, तो ब्रिटेन के टूर ऑपरेटर्स ने क्रिकेट को बढ़ावा देने के लिए पहली बार इस अनोखे क्रिकेट लविंग आईलैंड को अपने टूर पैकेज में शामिल किया है। ताकि लोग यहां पहुंचें और देखें कि क्रिकेट के चाहने वाले कहां-कहां तक फैले हैं। दरअसल ये आदिवासी हिंसक या आक्रामक नहीं है, इसलिए यहां टूरिस्टों के आने में भी इन्हें कोई समस्या नहीं है। जब बाहर से कोई आदिवासियों के बीच आता है, तो यहां के लोग उनसे अच्छे से मिलते हैं। उन्हें अपने रहन-सहन के बारे में बताते भी हैं। जबसे लोगों को आदिवासियों के क्रिकेट प्रेम के बारे में पता चला है, तबसे आने-जाने वाले कई लोग गांव वालों को गेंद गिफ्ट कर जाते हैं। क्रिकेट बैट से इन्हें खेलने में मजा नहीं आता, इसलिए किसी से बैट नहीं लेते हैं।


विवाद हुआ तो लड़कर अंतिम फैसला करते हैं

ट्रोब्रियांड आईलैंड में क्रिकेट सबसे पसंदीदा तो है, लेकिन नियम इनके अपने हैं। बांस-बल्ली से ये लोग अपने खेलने के लिए स्टंप और बैट बनाते हैं। गेंद का जुगाड़ आस-पास के गांव से ही कर लेते हैं। फिर अपने जुगाड़ वाले बैट को बेसबॉल वाले बैट की तरह पकड़कर इनका एक ही उद्देश्य होता है- गेंद को जितना तेज हो सके, उतना तेज मारो। एक बार में एक ही बल्लेबाज बैटिंग करता है। सिर्फ 11 खिलाड़ियों में खेल खेलना इन्हें बोरिंग लगता था, इसलिए जब एक बल्लेबाज खेलता है तो 30 लोग तक फील्डिंग करते हैं। समुद्र किनारे खेलते हैं, जहां एक नारियल का काफी ऊंचा पेड़ भी है। ये पेड़ पार कराने पर 6 रन मिलते हैं। खेल खेलने के लिए गांव वालों की एक तय पोशाक है। लाल लंगोट लपेटते हैं और चेहरे पर लड़ाकों की तरह पेंट लगाते हैं। कई बार खेल में ही विवाद भी हो जाता है। सुलझाने का एक ही तरीका है- आपस में लड़ लो। जो जीता, मैच का विजेता वही।


1890 में कुछ अंग्रेज आकर इन आदिवासियों को क्रिकेट सिखा गए थे 

ट्रोब्रियांड आईलैंड के आदिवासी 1890 के करीब से क्रिकेट जानते और खेलते आ रहे हैं। इस आईलैंड के पास ही अंग्रेज सैनिकों की एक बड़ी टुकड़ी तैनात रहा करती थी। किसी इमरजेंसी की वजह से पूरी टुकड़ी को कुछ दिन के लिए देश वापस बुला लिया गया, लेकिन कुछ सैनिकों को अनुशासनहीनता की वजह से बाकियों की वापसी तक यहीं रुके रहने के लिए कहा गया। खाली समय में ये बचे हुए सैनिक घूमते-घूमते ट्रोब्रियांड गांव आ गए और आदिवासियों को क्रिकेट खेलना सिखा गए।

Quotes

" "

Share On Facebook

Comments

Subscribe

Receive updates and latest news direct from our team. Simply enter your email below :