अंदाज अपना अपना के दूसरे भाग के साथ लौटेगी सलमान और आमिर की जोड़ी बंगलुरु के इस्कॉन मंदिर में जन्माष्टमी का भव्य आयोजन, कान्हा का 20 लाख के आभूषणों से होगा श्रृंगार किस्मत हो तो ऐसी, स्टेशन पर गाना गाने वाली महिला आज हिमेश की फिल्म में गा रही है गाना जेट एयरवेज के संस्थापक नरेश गोयल के आवासीय परिसर समेत कई स्थानों पर ED का छापा अपने एजेंडे में कश्मीर रख मोदी का प्लान जानना चाहते है ट्रम्प इनकम टेक्स भरने से होते ये फायदे तमिलनाडु सरकार ने ISRO के अध्यक्ष के. सिवन को एपीजे अब्दुल कलाम पुरस्कार से किया सम्मानित इस लिए नहीं मिला रोहित और आश्विन को मौका : रहाणे डेविस कप के लिए अब भारत और पकिस्तान को नवम्बर तक होगा रुकना HC ने जारी किया भाजपा नेता विजेंद्र सिंह को नोटिस, बढ़ सकती है मुश्किलें तीन तलाक कानून के खिलाफ SC में दायर हुई याचिका, कोर्ट ने किया रोक लगाने से इनकार पिछले दो हफ्तों से आग में झुलस रहा है दुनिया का सबसे बड़ा जंगल अमेजन घर से आया खाना साथ ही देर रात तक सीबीआई ने करी पूछताछ कोंडागांव के परेशान गांववालों ने बनाया जुगाड़ का पुल गाजियाबाद: सीवर लाइन की सफाई करने उतरे 5 सफाई कर्मियों की मौत पिछले 5 सालो में 56 गुना बड़ी देता खपत के साथ 22 गुना हुआ सस्ता कांग्रेस के वरिष्ठ नेता और पूर्व वित्त मंत्री पी चिंदबरम CBI के सवालों से घिरे टीम इंडिया को धमकी देने वाला शख्श को लिया गया हिरासत में जन्माष्टमी के बारे में जानें सबकुछ सेंसेक्स 669 अंक लुढ़क, निफ्टी 193 प्वाइंट गिरकर 10750 के साथ हुआ बंद

अमेरिका के एक अस्पताल में पांच महीने पहले जन्मी दुनिया की सबसे छोटी बच्ची

Deepak Chauhan 13-06-2019 15:37:58


Videos




अमेरिका के सैन डिएगो स्थित एक अस्पताल ने गुरुवार को दुनिया के सबसे छोटे नवजात (वजन और शरीर में) के जीवित रहने का खुलासा किया। बेबी सेबाई का जन्म के वक्त वजन महज 245 ग्राम था और  शरीर सेब से भी छोटा था। अमेरिका की आइओवा यूनिवर्सिटी की ‘टाइनिएस्ट बेबीज रजिस्ट्री’ में उसे दुनिया का सबसे छोटा जीवित नवजात के तौर पर दर्ज किया गया।


सैन डिएगो के शार्प मैरी बिर्च अस्पताल के मुताबिक, सेबाई का जन्म दिसंबर 2018 में हुआ था। इसके बाद करीब पांच महीने तक इसका इलाज चला। हाल ही में स्वस्थ होने के बाद उसे अस्पताल से छुट्टी दी गई। सेबाई का जन्म गर्भावस्था के 23वें हफ्ते में हुआ। एक सामान्य गर्भावस्था 40 हफ्तों की होती है। डॉक्टरों ने पहले ही पिता को बता दिया था कि उनके पास अपनी बेटी को देखने के लिए सिर्फ एक घंटा है, क्योंकि इतने कम वजन वाले बच्चों का जीवित रहना बेहद मुश्किल होता है।


डॉक्टर की कोशिश से बच्ची बच गई

अस्पताल ने बच्ची की मां का एक वीडियो भी जारी किया है। इसमें उन्होंने बताया गया कि डॉक्टरों ने बच्ची के एक घंटे तक जीवित रहने की संभावना जताई थी। हालांकि, डॉक्टरों की कोशिश से बच्ची पहले दो घंटे, फिर कुछ दिन और इसके बाद कुछ हफ्तों तक जीवित रह गई। ऐसा इसलिए की डॉक्टर खुद इसके जीवित रहने को लेकर कोई ठोस दावा नहीं कह पा रहे थे। 


नर्स ने कहा- हथेली में समा जाती थी

अस्पताल के आईसीयू में पांच महीने तक रखे जाने के बाद उसका वजन 2.2 किलो तक पहुंच गया। इसके बाद ही डॉक्टरों ने उसे डिस्चार्ज किया। अस्पताल में सेबाई का ख्याल रखने वाली नर्स किम नोर्बी के मुताबिक, बच्ची का बचना किसी चमत्कार से कम नहीं है। एक और नर्स एमा ने कहा कि सेबाई जन्म के समय इतनी छोटी थी बिस्तर पर दिखाई ही नहीं देती ती। वो हथेली में ही समा जाती थी।


जापान में जन्मा था 258 ग्राम का बच्चा 

इससे पहले अक्टूबर 2018 में टोक्यो के एक अस्पताल में सबसे कम वजन के बच्चे का जन्म हुआ था। जन्म के वक्त उसका वजन 258 ग्राम था। 6 महीने से अधिक चले इलाज के बाद इसका वजन 3 किलो हो गया है। इससे पहले ये रिकॉर्ड जापान के ही एक बच्चे के नाम था, जिसका जन्म के समय वजन 268 ग्राम था।


वीडिओ APF NEWS AGENCY के ट्विटर से 

Comments

Subscribe

Receive updates and latest news direct from our team. Simply enter your email below :